भारत

वायुसेना मरने वालों की गिनती नहीं करती, केवल लक्ष्य पर निशाना लगाती है: वायुसेना प्रमुख

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने कहा कि बालाकोट आतंकी शिविर पर भारत द्वारा किए गए हवाई हमले में हताहत लोगों की संख्या की जानकारी केंद्र सरकार देगी.

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ. (फोटो: पीटीआई)

वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ. (फोटो: पीटीआई)

कोयम्बटूर: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने सोमवार को कहा कि वायुसेना मरने वालों की गिनती नहीं करती और बालाकोट आतंकी शिविर पर हवाई हमले में हताहत लोगों की संख्या की जानकारी सरकार देगी.

उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मरने वालों की संख्या लक्षित ठिकाने में मौजूद लोगों की संख्या पर निर्भर करती है.

पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े शिविर पर 26 फरवरी को भारत द्वारा किए गए हवाई हमले के बाद पहली बार पत्रकारों से बात करते हुए वायुसेना प्रमुख ने कहा कि रफाल लड़ाकू विमान सितंबर तक भारत के पास आ सकता है.

धनोआ ने कहा कि जब शत्रु हमला करता है तो जवाब देने के लिए हर मौजूद विमान का इस्तेमाल किया जाता है. साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी विमान एफ-16 का मुकाबला करने के लिए इस्तेमाल किया गया मिग-21 विमान आधुनिक हथियार प्रणाली से लैस एक उन्नत विमान था.

विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का जिक्र करते हुए धनोआ ने कहा कि वह राजनीति पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते लेकिन अधिकारी की स्वदेश वापसी से खुश हैं.

गौरतलब है कि पाकिस्तानी सेना ने 27 फरवरी को अभिनंदन को तब हिरासत में ले लिया था जब पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मार गिराने के बाद उनका मिग-21 भी गिर पड़ा और वह पैराशूट के जरिए पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में उतर गए थे.

अभिनंदन के भविष्य में फिर लड़ाकू विमान उड़ाने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘हम किसी पायलट के स्वास्थ्य को लेकर कोई समझौता नहीं करते.’ उन्होंने कहा कि अगर अभिनंदन स्वस्थ होंगे तो विमान उड़ाएंगे.

धनोआ ने कहा कि विंग कमांडर अभिनंदन को हर आवश्यक चिकित्सा मुहैया कराई जाएगी.

बता दें कि पाकिस्तान ने अभिनंदन को गत शुक्रवार को रिहा कर दिया था.

धनोआ ने कहा कि वायुसेना को 19 फरवरी को बेंगलुरु में एअर शो के शुरू होने से पहले हवा में हुई दुर्घटना और पिछले सप्ताह कश्मीर में हुई हेलीकॉप्टर दुर्घटना के कारणों का पता लगाना है.