भारत

उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर में बुज़ुर्ग की मौत पर 13 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ केस दर्ज

मुज़फ़्फ़रनगर में बुज़ुर्ग के बेटे को गिरफ़्तार करने पहुंची थी. परिवारवालों का आरोप है कि पुलिसवालों ने उनके साथ मारपीट की, जिसके बाद बुज़ुर्ग को दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई.

Muzaffarnagar

मुज़फ़्फ़रनगर: उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर जिले में एक बुजुर्ग की मौत के मामले में बुधवार को 13 पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. आरोप है कि पुलिसकर्मियों ने बुजुर्ग के साथ मारपीट की थी जिसके बाद दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि न्यू मंडी पुलिस स्टेशन के थाना अध्यक्ष (एसएचओ) संतोष कुमार सिंह, आउटपोस्ट इंचार्ज अजय कुमार और 11 कॉन्सटेबलों के खिलाफ बीते पांच मार्च को रात मुज़फ़्फ़रनगर से पांच किलोमीटर दूर मख्याली गांव में मदनपाल, उनकी पत्नी और बेटे मोनू से मारपीट का आरोप है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार ने कहा कि पुलिस की एक टीम एक मामले में मोनू को गिरफ्तार करने गांव गई थी. घर पर पहुंचने के बाद पुलिस ने मोनू को गिरफ्तार कर लिया. इसका विरोध करने पर पुलिसकर्मियों ने कथित रूप से उसके परिवार से मारपीट की.

कुमार ने कहा कि इसके बाद मदनपाल को दिल का दौरा पड़ा और उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

अमर उजाला की ख़बर के अनुसार, पुलिस मदनपाल के बेटे मोनू को पकड़ने गई थी दबिश के दौरान बुजुर्ग की मौत हो गई, जिस पर ग्रामीणों ने जमकर बवाल किया.

पुलिस ने तड़के करीब 3:30 बजे युवक को ग्राम प्रधान की सुपुर्दगी में देकर विवाद थामने की कोशिश की, लेकिन बात नहीं बनी. प्रदर्शनकारियों ने बुधवार की सुबह लाश को हाईवे पर रखकर जाम लगाने का प्रयास किया.

पुलिसकर्मियों पर एक्सीडेंटल डेथ का मुक़दमा दर्ज करने के बाद लोगों को गुस्सा शांत हुआ.

परिजनों का आरोप है कि देर रात कई पुलिसकर्मी उनके कच्चे मकान की दीवार फांदकर भीतर घुस गए और मोनू की पिटाई कर दी.

परिवार का आरोप है कि पुलिस मोनू का एनकाउंटर की धमकी देते हुए लेकर चली गई, जिसके बाद मदनपाल को दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हो गई.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)