भारत

आम चुनाव 2019: सात चरणों में होंगे चुनाव, 23 मई को आएंगे नतीजे

सात चरणों में होने वाला लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से शुरू होगा और 19 मई को खत्म होगा. 10 लाख पोलिंग स्टेशन बनाए जाने के साथ सभी मतदान केंद्रों पर उपलब्ध होंगी वीवीपैट मशीनें.

Sunil Arora ANi.

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा (फोटोः एएनआई)

नई दिल्ली: देश के मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने रविवार को 2019 के लोकसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा कर दी. इस दौरान उनके साथ चुनाव आयुक्त अशोक लवासा और चुनाव आयुक्त सुनील चंद्रा भी थे.

लोकसभा चुनाव के लिए मतदान कुल सात चरणों में कराए जाएंगे. पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को होगा जबकि आखिरी चरण का मतदान 19 मई को होगा. पूरे देश में 23 मई को वोटों की गिनती की जाएगी.

पहले चरण में 11 अप्रैल, 2019 को 20 राज्यों की 91 संसदीय सीटों में मतदान होगा. दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल, 2019 को 13 राज्यों की 97 सीटों पर वोटिंग करवाई जाएगी.

तीसरे चरण के तहत 23 अप्रैल को 14 राज्यों की 115 लोकसभा सीटों पर मतदान होगा, जबकि चौथे चरण में 29 अप्रैल को नौ राज्यों की 71 सीटों पर मतदान होगा.

पांचवें चरण में 6 मई को सात राज्यों की 51 सीटों पर वोटिंग करवाई जाएगी, और छठे चरण में 12 मई को सात राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर मतदान होगा.

मतदान का सातवां चरण 19 मई को होगा, जिसके दौरान आठ राज्यों की 59 लोकसभा सीटों के मतदाता वोट डालेंगे.

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है और अगर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन हुआ तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी. मतदाता सूची में नाम चेक करने के लिए विशेष हेल्पलाइन नंबर 1950 जारी किया है.

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सीआरपीएफ को बड़ी संख्या में तैनात किया जाएगा.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि हम चुनाव के लिए काफी पहले से ही तैयारी कर रहे थे. सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के चुनाव आयुक्त से बात की. उन्हें तैयारी करने के लिए कह दिया गया था

चुनाव की तारीखों का निर्धारण करते समय राज्य बोर्डों तथा केंद्रीय बोर्ड द्वारा कराई जाने वाली वार्षिक परीक्षाओं सहित सभी महत्वपूर्ण मुद्दों को ध्यान में रखा गया.

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि मतदाताओं के पास नोटा का भी विकल्प होगा. सभी उम्मीदवारों को अपनी संपति और शिक्षा का ब्यौरा देने के लिए फॉर्म 26 भरना होगा.

वोटिंग से 48 घंटे पहले लाउडस्पीकर नहीं बजेंगे. उन्होंने कहा, ‘लाउड स्पीकर का इस्तेमाल रात 10 से सुबह छह तक बंद रखना होगा. हमारा फोकस ध्वनि प्रदूषण को कम करना है.’

वोटर स्लिप वोटिंग की तारीख से 5 दिन पहले निकलेगी. मतदाताओं के पास 11 विकल्प पहचान पत्र के लिए होंगे. रात 10 बजे के बाद प्रचार नहीं किया जाएगा और आचार संहिता के उल्लंघन के शिकायत के लिए एप निकाली गई है. इस पर 100 मिनट में शिकायत पर संबंधित अधिकारी जवाब देंगे.

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका होती जा रही है और इस बार सोशल मीडिया पर प्रचार की भी निगरानी की जाएगी. पेड न्यूज पर सख्त कार्रवाई होगी. सोशल मीडिया के लिए गाइडलाइन बनेंगी.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि देशभर में लगभग 10 लाख पोलिंग स्टेशन बनाए जाएंगे. वहीं जरूरत पड़ने पर पोलिंग बूथों की संख्या बढ़ाई जा सकी है. पिछली बार 9 लाख पोलिंग स्टेशन बनाए गए थे.

चुनाव खर्चे पर विशेष निगरानी रखी जाएगी. मुख्य चुनाव आयोग ने कहा कि इस बार ईवीएम मशीनों की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा रहा है. सभी मतदान केंद्रों पर वीवीपैट मशीनें लगाई जाएंगी. इसके साथ ही इस बार ईवीएम मूवमेंट की जीपीएस ट्रैकिंग की जाएगी.

सुनील अरोड़ा ने कहा कि इस बार के चुनाव में 90 करोड़ मतदाता वोट डालेंगे और इसमें नौकरीपेशा वोटर 1.60 करोड़ होंगे. डेढ़ करोड़ वोटर 18-19 साल के आयु वर्ग के होंगे. हमारी टीम ने राज्यों का दौरा किया है और विभिन्न तैयारियों का जायजा लिया है.

बता दें कि 2014 में 7 अप्रैल से 12 मई के बीच नौ चरणों में मतदान हुए थे. मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल 3 जून को समाप्त होगा.