राजनीति

बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए नेता की हत्या, बसपा विधायक के पति के ख़िलाफ़ केस दर्ज

मध्य प्रदेश के दमोह ज़िले का मामला. बीते 12 मार्च को बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए थे देवेंद्र चौरसिया. पथरिया से बसपा विधायक रामबाई के पति और देवर सहित सात लोगों के ख़िलाफ़ हत्या का मामला दर्ज.

कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया. (फोटो साभार: फेसबुक)

कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया. (फोटो साभार: फेसबुक)

दमोह: मध्य प्रदेश में एक कांग्रेस नेता की हत्या के सिलसिले में पुलिस ने दमोह ज़िले की पथरिया विधानसभा सीट से बसपा विधायक रामबाई के पति और देवर सहित सात लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया है.

दमोह में मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में 12 मार्च को बसपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए 54 वर्षीय देवेंद्र चौरसिया की शुक्रवार को दमोह ज़िले के हटा क़स्बे में हत्या कर दी गई.

ज़िला पुलिस अधीक्षक राघवेंद्र सिंह बेलबंसी ने बताया कि शुक्रवार सुबह को हटा में अपने प्लांट पर मौजूद देवेंद्र चौरसिया और उनके पुत्र सोमेश चौरसिया पर कुछ लोगों ने धारदार हथियारों से हमला किया. हमले में गंभीर रूप से घायल देवेंद्र की जबलपुर ले जाते समय मौत हो गई जबकि सोमेश की हालत गंभीर बताई जा रही है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस की सदस्यता लेने के बाद से देवेंद्र चौरसिया को जान से मारने की धमकी दी जा रही थी. आरोप है कि बसपा विधायक रामबाई के पति गोविंद्र सिंह देवर कौशलेंद्र सिंह उर्फ़ चंदू, गोलू सिंह, लोकेश सिंह, श्रीराम शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल के बेटे इंद्रपाल सिंह और अमज़द उर्फ बूठा ने उन पर हमला कर दिया. बचाव करने आए देवेंद्र के बेटे सोमेश चौरसिया पर भी वार किए गए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार, 12 मार्च काे जब देवेंद्र ने कांग्रेस की सदस्यता ली थी तो उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ से भी अपनी जान को ख़तरा बताया था.

ज़िला पुलिस अधीक्षक ने बताया कि आरोपियों के ख़िलाफ़ धारा 302 (हत्या) और भारतीय दंड विधान संहिता की अन्य संबद्ध धाराओं में मामला दर्ज किया है.

घटना के बाद हटा कस्बे का बाज़ार बंद है. इसके विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ता और लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

सागर पुलिस रेंज के उप महानिरीक्षक दीपक कुमार वर्मा और दमोह के ज़िलाधिकारी नीरज कुमार सिंह ने हटा पहुंचकर हालात का जायज़ा लिया और आक्रोशित लोगों से बातचीत की.

एसपी ने बताया कि पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है. अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, शुरुआती जांच में हमले का कारण राजनीतिक रंज़िश बताया जा रहा है. चौरसिया के परिजनों ने हमलावरों पर 4 लाख रुपये लूटने का भी आरोप लगाया है. 2014 में देवेंद्र चौरसिया ने बसपा के टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ा था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)