भारत

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन

गोवा के मुख्यमंत्री बनने वाले भाजपा के पहले नेता थे मनोहर पर्रिकर. चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे पर्रिकर लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थे.

मनोहर पर्रिकर (फोटो: रॉयटर्स)

मनोहर पर्रिकर (फोटो: रॉयटर्स)

पणजी: गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार शाम निधन हो गया है. वे 63 वर्ष के थे. पिछले काफी समय से वे पैंक्रियाटिक कैंसर से पीड़ित थे.

पिछले दो दिनों से उनका स्वास्थ्य काफी ख़राब चल रहा था. जब उनकी मौत हो तो वह पणजी में अपने बेटे के घर में थे. राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री का निधन रविवार शाम छह बजकर चालीस मिनट पर हुआ.

पिछले एक साल से बीमार चल रहे भाजपा के वरिष्ठ नेता का स्वास्थ्य दो दिन पहले बहुत बिगड़ गया था. अचानक उनके स्वास्थ्य में आई गिरावट के बाद उन्हें बाद गोवा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. बीते 16 मार्च को भी जानकारी मिली कि उनकी तबियत काफी बिगड़ गई है.

भाजपा विधायक और गोवा विधानसभा के उपाध्यक्ष माइकल लोबो ने बताया था कि मनोहर पर्रिकर की तबीयत काफ़ी ख़राब है. डॉक्टर उनकी निगरानी कर रहे हैं हालांकि उनकी सेहत में सुधार होता नहीं दिख रहा है.

रविवार शाम गोवा के मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा ट्विटर पर उनकी गंभीर हालत के बारे में बताते हुए कहा गया था कि डॉक्टरों द्वारा पूरी कोशिश की जा रही है. इसके करीब एक घंटे बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा उनके निधन की सूचना दी गई.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट किया है, ‘गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन की सूचना पाकर शोकाकुल हूं. वह बेहद साहस और सम्मान के साथ अपनी बीमारी से लड़े.’

राष्ट्रपति ने लिखा है कि सार्वजनिक जीवन में वह ईमानदारी और समर्पण की मिसाल हैं और गोवा और भारत की जनता के लिए उनके काम को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा.

13 दिसंबर 1955 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे पर्रिकर ने संघ के प्रचारक के रूप में अपना राजनीतिक करिअर शुरू किया था. साल 1994 में उन्होंने राजनीति में क़दम रखा था. उस वक़्त उन्होंने पणजी विधानसभा सीट पर भाजपा के टिकट से जीत हासिल की थी.

आईआईटी बॉम्बे से इंजीनियरिंग में स्नातक पर्रिकर 24 अक्टूबर 2000 को पहली बार गोवा के मुख्यमंत्री बने थे. भाजपा से राज्य में मुख्यमंत्री बनने वाले वे पहले नेता थे.

हालांकि उनका पहला कार्यकाल 27 फरवरी 2002 तक ही चला. इसके बाद साल 2002 में ही पांच जून को उन्हें दोबारा मुख्यमंत्री के रूप में चुना गया.

साल 2005 में चार भाजपा विधायकों के इस्तीफा देने के बाद उनकी मनोहर पर्रिकर सरकार गिर गई. इसके बाद साल 2012 में वह फिर से गोवा के मुख्यमंत्री चुने गए.

2014 में नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद उन्होंने रक्षा मंत्री का पदभार संभाला. हालांकि तीन साल बाद मार्च 2017 में वह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से वापस गोवा की राजनीति में लौट आए और रक्षामंत्री का पद छोड़ने के बाद चौथी बार राज्य के मुख्यमंत्री बने.

मालूम हो कि साल 2018 में वह गंभीर रूप से बीमार पड़े थे, जिसके बाद इलाज के लिए उन्हें अमेरिका ले जाना पड़ा था. इसके बाद पिछले साल सितंबर महीने में वह कुछ दिनों तक नई दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती थे.

पर्रिकर के निधन पर भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, मुख्‍़तार अब्‍बास नकवी, कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी, सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी है.