राजनीति

भाजपा सरकार बनी तो अनुच्छेद 370 निरस्त करेंगे, एनआरसी लागू करेंगे: अमित शाह

एक रैली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि अवैध प्रवासी दीमक की तरह हैं. वे गरीबों को मिलने वाले अनाज खा रहे हैं, हमारी नौकरियां छीन रहे हैं.

Raiganj: BJP National President Amit Shah addresses an election rally for Lok Sabha polls, in Raiganj, Uttar Pradesh, Thursday, April 11, 2019. (PTI Photo) (PTI4_11_2019_000243B)

अमित शाह. (फोटो: पीटीआई)

कलिम्पोंग/रायगंज: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बीते गुरुवार को दो बहुत विवादित मुद्दे उठाते हुए कहा कि उनकी पार्टी की सरकार यदि दोबारा बनी तो वह जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को निरस्त करेगी और देश भर में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) की व्यवस्था लागू करेगी.

पश्चिम बंगाल के कलिम्पोंग में दार्जिलिंग लोकसभा सीट और उत्तर दिनाजपुर में रायगंज लोकसभा सीट पर भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव प्रचार करते हुए शाह ने तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि अपने अल्पसंख्यक वोट बैंक के तुष्टीकरण के लिए वह हवाई हमलों पर सवाल उठा रही हैं.

शाह ने मांग की कि वह स्पष्ट करे कि क्या नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला की तरह वह भी जम्मू कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री बनाने के पक्ष में हैं.

दार्जिलिंग सीट से भाजपा उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे उद्योगपति राजू सिंह बिष्ट के पक्ष में प्रचार करते हुए शाह ने कलिम्पोंग में कहा, ‘केंद्र में भाजपा की अगली सरकार बनने के बाद हम कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त कर देंगे.’

बांग्लादेश से आए अवैध प्रवासियों को ‘दीमक’ क़रार देते हुए शाह ने रायगंज में एक अन्य रैली में कहा कि उनकी पार्टी केंद्र में लगातार दूसरी बार सत्ता में आने के बाद उन्हें निकाल बाहर करेगी.

शाह ने आरोप लगाया कि अभी असम तक सीमित एनआरसी का पुरजोर विरोध कर रहीं ममता लोगों को गुमराह कर रही हैं. उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के बाद भाजपा हर राज्य में एनआरसी लागू करेगी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार कलिम्पोंग में भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘हमने हमारे घोषणा पत्र में वादा किया है कि दोबारा नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद देशभर के अंदर एनआरसी बनाया जाएगा और एक-एक घुसपैठिये को चुन-चुन कर निकालने का काम यह बीजेपी सरकार करेगी. और जितने भी हिंदू, बुद्ध, शरणार्थी आए हैं सारे को ढूंढ-ढूंढ कर भारत की नागरिकता देने का काम भी भाजपा करने वाली है.’

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘ममता बनर्जी की तरह हम घुसपैठियों को अपना वोट बैंक नहीं समझते. हमारे लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोच्च है.’

अमित शाह ने कहा, ‘ये कहते हैं कि भारत के अंदर धारा 370 रहनी चाहिए. मुझे बताओं कश्मीर से धारा 370 हटनी चाहिए या नहीं हटनी चाहिए. मोदी जी ने तय किया है कि बीजेपी कर सरकार बनेगी तो कश्मीर से धारा 370 हटा देंगे.’

मालूम हो कि ममता ने कई बार दावा किया है कि एनआरसी से वाजिब भारतीय भी शरणार्थी बन जाएंगे.

अवैध प्रवासियों की पहचान के लिए अभी असम में एनआरसी की व्यवस्था है और उसे लागू करने की प्रक्रिया चल रही है.

एनआरसी पिछले साल तब काफी विवादों में घिर गया था जब इसके पूर्ण मसौदे में असम में दशकों से रह रहे करीब 40 लाख लोगों के नाम शामिल नहीं किए गए थे.

शाह ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार की दिलचस्पी सिर्फ अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण में है.

भाजपा अध्यक्ष ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस का मतलब ‘तुष्टीकरण, माफिया और चिटफंड’ है.

उन्होंने कहा, ‘अवैध प्रवासी दीमक की तरह हैं. वे गरीबों को मिलने वाले अनाज खा रहे हैं, वे हमारी नौकरियां छीन रहे हैं. टीएमसी के ‘टी’ का मतलब तुष्टीकरण, एम का मतलब ‘माफिया’ और ‘सी’ का मतलब ‘चिटफंड’ है.’

उन्होंने भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में किए गए हवाई हमले की सत्यता पर सवाल उठाने को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता की आलोचना की.

शाह ने कहा कि वायुसेना के हमले से दो जगह मातम था- एक पाकिस्तान और दूसरा ममता बनर्जी के कार्यालय में.

शाह ने ममता पर हमला करते हुए कहा, ‘हमें पता चला है कि ममता बनर्जी हवाई हमले का मातम मना रही थीं. पाकिस्तान का हवाई हमले पर मातम मनाना समझ आता है लेकिन ममता बनर्जी क्यों मातम मना रही थीं? वह अल्पसंख्यक वोट बैंक को लुभाने के लिए मातम मना रही थीं. यह शर्मनाक है.’

ममता बनर्जी द्वारा प्रस्तावित महागठबंधन पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा कि उन्हें हैरत होती है कि कांग्रेस और माकपा क्यों तृणमूल की आलोचना कर रहे हैं जबकि वह उनके सहयोगी हैं.

शाह ने राज्य में 42 में से 23 सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य रखा है. 2014 आम चुनाव में भाजपा यहां केवल दो सीटें जीत पाई थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)