भारत

विवादित बयानबाज़ी को लेकर नवजोत सिंह सिद्धू और सतपाल सत्ती के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने एक संप्रदाय विशेष को लेकर विवादित बयान दिया था, जबकि हिमाचल प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था.

Sidhu-Satpal-Satti-PTI

नवजोत सिंह सिद्धू और सतपाल सिंह सत्ती (फोटोः पीटीआई)

नई दिल्लीः कांग्रेस नेता और पंजाब कैबिनेट में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के एक चुनावी सभा को संबोधित करने के दौरान विवादित भाषण देने के मामले में उनके खिलाफ मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की गई.

चुनाव आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में बिहार के कटिहार में सिद्धू के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह ने बताया कि इस मामले में फ्लाइंग स्क्वाड टीम द्वारा बारसोई थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. उन्होंने बताया कि इस मामले में आवश्यक कार्रवाई के लिए चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेज दी गई है.

सिद्धू ने विपक्षी महागठबंधन में शामिल कांग्रेस प्रत्याशी तारिक अनवर के लिए मुस्लिम बहुल कटिहार में आयोजित एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए विवादित बयान दिया था.

सिद्धू ने कहा था, ‘यहां जात-पांत में बांटने की राजनीति हो रही है. मैं अपने मुस्लिम भाइयों को अपनी बात कहने आया हूं. ये एक ऐसी सीट है जहां आप अल्पसंख्यक नहीं बहुसंख्यक हो. भाजपा के षड्यंत्रकारी लोग आपको रोकने का प्रयास करेंगे. आपके वोट को बांटने का प्रयास करेंगे. आप इकठ्ठे रहे तो कांग्रेस को दुनिया की कोई ताकत हरा नहीं सकेगी. मैं आपको चेतावनी देने आया हूं मुस्लिम भाइयों, ये आपको बांट रहे हैं. ये यहां ओवैसी जैसे लोगों को लाकर, एक नई पार्टी साथ में खड़ी कर आप लोगों का वोट बांट के जीतना चाहते हैं. अगर तुम लोग इकट्ठे हुए, एकजुट होकर वोट डाला तो मोदी हार जाएगा.’

बता दें कि कटिहार के पास किशनगंज लोकसभा सीट से असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने अपना उम्मीदवार उतारा है. सिद्धू का इशारा इसी ओर इशारा था.

वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ कथित तौर पर अपशब्दों का इस्तेमाल करने के लिए हिमाचल प्रदेश निर्वाचन कार्यालय ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती को मंगलवार को नोटिस जारी किया.

हिमाचल की बद्दी पुलिस ने सत्ती के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 294 (अश्लील हरकत) के तहत मामला भी दर्ज किया है. आयोग सत्तारूढ़ दल के नेता की जीभ काट लेने की धमकी के मामले की भी जांच कर रहा है.

राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार ने कहा, ‘सत्ती को सोलन जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए नोटिस थमाया गया है और उनसे नोटिस मिलने के 24 घंटे के भीतर जवाब तलब किया गया है.’

कुमार ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग ने सत्ती की कथित अपमानजनक टिप्पणी पर कड़ा संज्ञान लिया है.

साथ ही पुलिस भाजपा की शिकायत पर कांग्रेस समर्थक विनय शर्मा द्वारा सतपाल सत्ती की जबान काटने पर 10 लाख रुपये का इनाम देने वाली कथित धमकी की जांच कर रही है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)