भारत

पश्चिम बंगालः चुनाव आयोग का नोडल अधिकारी लापता, आयोग ने रिपोर्ट मांगी

राज्य प्रशासनिक सेवा के 2010 बैच के अधिकारी अर्नब रॉय राणाघाट लोकसभा क्षेत्र के कृष्णानगर में बतौर नोडल अधिकारी के रूप में ईवीएम एवं वीवीपैट प्रभारी की ज़िम्मेदारी संभाल रहे थे.

लापता नोडल अधिकारी अर्नब रॉय. (फोटो: पीटीआई)

लापता नोडल अधिकारी अर्नब रॉय. (फोटो: पीटीआई)

कृष्णानगर: पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के राणाघाट संसदीय क्षेत्र के कृष्णानगर में तैनात चुनाव आयोग के नोडल अधिकारी अर्नब रॉय बीते 24 घंटे से लापता हैं. एक पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी.

चुनाव आयोग ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मामले में नदिया जिले के जिलाधिकारी से रिपोर्ट देने को कहा गया है.

आयोग के एक अधिकारी ने बताया कि आयोग ने घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं और उनकी जगह नए अधिकारी को तत्काल प्रभाव से उनका प्रभार सौंप दिया गया है.

राज्य प्रशासनिक सेवा के 2010 बैच के अधिकारी रॉय राणाघाट लोकसभा क्षेत्र के कृष्णानगर में बतौर नोडल अधिकारी के रूप में ईवीएम एवं वीवीपैट प्रभारी की जिम्मेदारी संभाल रहे थे.

अधिकारी ने बताया कि स्थानीय पुलिस ने गुरुवार को रॉय के लापता होने की सूचना मिलने पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

नदिया के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि नोडल अधिकारी अर्नब रॉय (30) गुरुवार सुबह चुनाव ड्यूटी के लिए अपने सरकारी आवास से बिप्रदास चौधरी पॉलीटेक्निक कॉलेज के लिए निकले थे लेकिन दोपहर बाद से उन्हें नहीं देखा गया.

अधिकारी ने बताया कि अर्नब का वाहन हालांकि कॉलेज के बाहर पार्क किया हुआ पाया गया.

पश्चिम बंगाल में चुनाव आयोग के विशेष पर्यवेक्षक अजय नाइक ने पत्रकारों को बताया, ‘मुझे बताया गया कि उनके बारे में कुछ पता नहीं चल रहा है लेकिन मुझे लगता है कि उनके लापता होने का उनकी निजी जिंदगी से कुछ लेना-देना है.’

नदिया पुलिस के सूत्रों ने बताया कि उनके दोनों मोबाइल फोन बंद हैं और उनकी अंतिम लोकेशन शांतिपुर के पास है.

एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘शांतिपुर के बाद उनके लोकेशन का पता नहीं चल सका है क्योंकि वहां से उनका फोन बंद आ रहा है. इस वजह से उनका पता लगाने में हमें मुश्किल आ रही है.’

शुरुआती जांच में पता चला है कि रॉय का नदिया के जिला मजिस्ट्रेट सुमित गुप्ता के साथ कुछ दिन पहले कथित रूप से चुनाव से जुड़ी तैनातियों को लेकर विवाद हुआ था.

गुप्ता से जब इस संबंध में संपर्क किया गया तो उन्होंने रॉय के साथ किसी प्रकार का झगड़ा होने से इनकार किया.

गुप्ता ने बताया, जिस किसी ने आपको यह सूचना दी है, उसने झूठी जानकारी दी है. हमारे बीच कुछ नहीं हुआ था. हमने उनकी तलाश के लिए पहल की है.

पुलिस अधिकारी ने कहा कि तलाश अभियान के असफल होने के बाद जिला प्रशासन ने कृष्णानगर कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई है. रॉय की पत्नी ने भी शिकायत दर्ज कराई है.

इस मामले में पश्चिम बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी को जिलाधिकारी से रिपोर्ट तलब करने को कहा है.

राणाघाट संसदीय क्षेत्र को तृणमूल कांग्रेस का गढ़ माना जाता है और वहां चौथे चरण में 29 अप्रैल को मतदान होगा.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)