दुनिया

श्रीलंका में हुए आठ बम धमाकों में तकरीबन 290 लोगों की मौत

ईस्टर के त्योहार पर श्रीलंका के विभिन्न चर्चों और होटलों में आठ धमाके हुए, जिसमें तकरीबन 500 लोग घायल हुए हैं. धमाकों में मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना. सरकार ने कर्फ्यू की घोषणा की.

श्रीलंका के एक चर्च में हुआ धमाका. (फोटो साभार: ट्विटर)

श्रीलंका के एक चर्च में हुआ धमाका. (फोटो साभार: ट्विटर)

कोलंबो: श्रीलंका में तीन गिरजाघरों और तीन होटलों में हुए आठ बम धमाकों में तकरीबन 290 लोगों की मौत हो गई और 500 लोग घायल हो गए.

श्रीलंका के इतिहास में यह सबसे भयानक हमलों में से एक है. हमले में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़ सकती है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक धमाकों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 290 हो चुकी है और तकरीबन 500 लोग घायल हुए हैं.

इन धमाकों के सिलसिले में 24 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

इन छह धमाकों के बाद दो और धमाके होने की सूचना है. श्रीलंका की पुलिस ने बताया है कि आठवा धमाका आत्मघाती था, जिसमें तीन लोगों की मौत हुई थी.

पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेखरा ने बताया कि यह विस्फोट स्थानीय समयानुसार आठ बजकर 45 मिनट पर ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगेम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च में हुए.

वहीं तीन अन्य विस्फोट कोलंबो के पांच सितारा होटलों- शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए. होटल में हुए विस्फोट में घायल विदेशी और स्थानीय लोगों को कोलंबो जनरल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. सातवां विस्फोट कोलंबो के चिड़ियाघर के सामने स्थित एक होटल में हुआ है, जबकि आठवां धमाका एक आवासीय परिसर में हुआ.

A relative of a victim of the explosion at St. Anthony's Shrine, Kochchikade church reacts at the police mortuary in Colombo. Reuters photo

कोलंबो में हुए धमाकों में अपने परिजनों को खोने वाले लोग. (फोटो: रॉयटर्स)

अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि कोलंबो के नेशनल हॉस्पिटल में 45 शवों में से नौ शव विदेशी नागरिकों के हैं.

कोलंबो नेशनल हॉस्पिटल के प्रवक्ता डॉक्टर समिंदि समराकून ने बताया कि 300 से ज़्यादा घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

वहीं बट्टिकलोवा अस्पताल के प्रवक्ता डॉक्टर कलानिधि गणेशालिंघम ने बताया कि सेंट माइकल चर्च के 100 से ज़्यादा घायल लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

पुलिस प्रवक्ता गुनासेखरा ने बताया कि कोलंबो के दक्षिणी उपनगर में कोलंबो जू (चिड़ियाघर) के निकट हुए एक विस्फोट में दो लोगों की मौत हो गई.

पुलिस ने बताया कि पुलिस की एक टीम ओरुगोदावट्टा क्षेत्र के एक घर में जब जांच के लिए गई तो वहां मौजूद एक आत्मघाती हमलावर ने ख़ुद को उड़ा लिया. इस विस्फोट में तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई. रविवार को यहां आठ विस्फोट हो चुके हैं.

आठवें विस्फोट के तुरंत बाद सरकार ने तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू लगा दिया. गुनासेखरा ने बताया कि यह कर्फ्यू अगले नोटिस तक प्रभावी रहेगा.

पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनसेखरा ने बताया कि तत्काल प्रभाव से कर्फ्यू को लागू किया गया है.

कर्फ्यू अगले नोटिस तक अनिश्चितकाल के लिए लागू रहेगा. वास्तविक घोषणा कहती है कर्फ्यू शाम छह बजे से शुरू होगा और सोमवार सुबह छह बजे तक जारी रहेगा.

Blood stains are seen on a statue of Jesus Christ after a bomb blast inside a church in Negombo, Sri Lanka. (Photo: Reuters)

श्रीलंका के नेगोम्बो शहर के एक चर्च में हुए धमाके के बाद जीसस की प्रतिमा. (फोटो: रॉयटर्स)

इस बीच, राजधानी में विभिन्न धार्मिक स्थलों के आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है.

राष्ट्रपति के सचिव उदय आर. सेनाविरत्ने की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि सरकार ने गलत सूचना के प्रसार को रोकने के लिए सभी सोशल मीडिया मंचों को ब्लॉक करने का फैसला किया है.

इस हमले की ज़िम्मेदारी अभी तक किसी ने नहीं ली है. श्रीलंका में पूर्व में लिट्टे (एलटीटीई) ने कई हमले किए हैं. हालांकि 2009 में लिट्टे का ख़ात्मा हो गया.

राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

सिरिसेना ने कहा, ‘मैं इस अप्रत्याशित घटना से सदमे में हूं. सुरक्षाबलों को सभी ज़रूरी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं.’

प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने इसे कायराना हमला बताते हुए कहा कि उनकी सरकार स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए काम कर रही है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैं श्रीलंका के नागरिकों से दुख की इस घड़ी में एकजुट और मजबूत बने रहने की अपील करता हूं. सरकार स्थिति को काबू में करने के लिए तत्काल कदम उठा रही है.’

एक मंत्री ने बताया कि श्रीलंका की सरकार ने आपात बैठक बुलाई है. सभी आपातकालीन कदम उठाए गए हैं और जल्द ही आधिकारिक बयान जारी किया जाएगा.

श्रीलंका के आर्थिक सुधार एवं लोक वितरण मंत्री हर्ष डी. सिल्वा ने कहा, ‘बेहद भयावह दृश्य, मैंने लोगों के शरीर के अंगों को इधर-उधर बिखरा देखा. आपातकालीन बल सभी जगह तैनात हैं.’

कोलंबो में भारतीय उच्चायुक्त ने ट्वीट किया, ‘विस्फोट आज कोलंबो और बट्टिकलोवा में हुए. हम स्थिति लगातार नज़र रख रहे हैं. भारतीय नागरिक किसी भी तरह की सहायता, मदद और स्पष्टीकरण के लिए इन नंबरों +94777903082, +94112422788, +94112422789 पर फोन कर सकते हैं.’

श्रीलंका में हुए धमाकों पर ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है, ‘श्रीलंका में हुए धमाकों की निंदा करता हूं. क्षेत्र में इस तरह की बर्बरता की कोई जगह नहीं. भारत श्रीलंका के लोगों के साथ खड़ा है. मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं.’

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को कहा कि भारत श्रीलंका में लगातार हुए छह विस्फोटों के बाद हालात पर करीब से नजर बनाए हुए है.स्वराज ने ट्वीट किया, ‘मैं कोलंबो में भारतीय उच्चायुक्त के साथ लगातार सम्पर्क में हूं. हम वहां कि हर स्थिति पर करीब से नजर बनाए हुए हैं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)