भारत

अफ़सरों पर जवानों से ‘वोट किसे दोगे’ पूछने का आरोप, लेह चुनाव आयोग ने सेना को लिखा पत्र

लेह की ज़िला निर्वाचन अधिकारी ने 14 कॉर्प्स के जनरल ऑफिसर कमांडिंग को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि सेना चुनावी प्रक्रिया को लेकर सभी कमांडिंग अधिकारियों को जागरूक करे.

आईएएस अधिकारी अवनि लवासा. (फोटोः फेसबुक)

आईएएस अधिकारी अवनि लवासा. (फोटोः फेसबुक)

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के लेह में सेना के अफसरों पर जवानों से उनकी वोटिंग को लेकर पसंद के बारे में पूछे जाने की शिकायत दर्ज कराई गई है. इस मामले में संज्ञान लेते हुए लेह की जिला निर्वाचन अधिकारी और उपायुक्त अवनि लवासा ने शुक्रवार को लेह स्थित 14 कॉर्प्स के जनरल ऑफिसर कमांडिंग को एक पत्र लिखा.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पत्र में उन्होंने अनुरोध किया है कि सेना चुनावी प्रक्रिया को लेकर सभी कमांडिंग अधिकारियों को जागरुक करे.

10 मई को भेजे गए पत्र में लवासा ने कहा, ‘4-लद्दाख संसदीय क्षेत्र से शिकायत आई है कि इलेक्ट्रॉनिक पोस्टल बैलट सिस्टम की प्रक्रिया में भारतीय सेना के कई कमांडिंग अधिकारी अनुचित तरीके अपना रहे हैं. ऐसा आरोप है कि कमांडिंग अधिकारी वोटिंग करने के लिए जवानों को बैलट पेपर देने के बजाय टेलीफोन के माध्यम से उनकी पसंद पूछ रहे हैं.’

पत्र में कहा गया है कि इस तरह की प्रक्रिया को मतदान की गोपनीयता का घोर उल्लंघन और कदाचार माना जाएगा जिस पर सख्त कार्रवाई हो सकती है. उन्होंने लिखा, ‘यह अनुरोध किया जाता है कि सभी संबंधित अधिकारियों को इस मुद्दे और चुनावी प्रक्रिया को लेकर जागरुक किया जाए.’

श्रीनगर स्थित रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि कुछ उम्मीदवारों ने जवानों की पोस्टर बैलट प्रक्रिया को लेकर शिकायत दर्ज कराई है. शिकायत में किसी खास घटना का उल्लेख नहीं किए जाने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि शिकायतें निराधार हैं और सेना की छवि को धूमिल करने के लिए रची गई हैं.

उन्होंने कहा, ‘मामले का ठीक-ठीक पता लगाने के लिए पूरी निष्पक्षता के साथ गहरी जांच की जा रही है. सेना हमेशा से गैर-राजनीतिक रही है और हम इस मूल्य का पूरी तरह से पालन करते हैं.’

जिला निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया, ‘ये शिकायतें सज्जाद हुसैन और असगर अली करवलाई ने दर्ज कराई थीं. दोनों ही निर्दलीय उम्मीदवार हैं. हालांकि शिकायत में किसी खास घटना का जिक्र नहीं किया गया. इस मामले से सैन्य अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है.’

लवासा ने इस पत्र की एक-एक प्रति राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी शलीन काबरा, लेह एसएसपी शरगुन शुल्का, कमांडिंग अधिकारी, एलएसआरसी 56 एपीओ के साथ लद्दाख संसदीय क्षेत्र के सभी उम्मीदवारों को भेजी है.

गुरुवार को लेह की जिला निर्वाचन अधिकारी के पास शिकायत दर्ज कराने वाले लद्दाख से उम्मीदवार करबलाई ने कहा, ‘हमें कई इलाकों से शिकायत मिली जिसके अनुसार सेना के कंपनी कमांडर्स टेलीफोन के माध्यम से जवानों से उनकी वोटिंग पसंद पूछ रहे थे. यह नियमों के खिलाफ है और 2014 की तरह ही एक खास पार्टी को फायदा पहुंचाने के लिए किया जा रहा है.’