भारत

जम्मू कश्मीरः बांदीपोरा में तीन साल की बच्ची से बलात्कार के बाद विरोध प्रदर्शन

जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा ज़िले के संबल इलाके का मामला. आरोपी को गिरफ़्तार कर पुलिस हिरासत में भेजा गया. पुलिस ने बताया कि मध्य और उत्तर कश्मीर के 12 से अधिक स्थानों पर लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया है.

Bandipora-Map

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा ज़िले के संबल क्षेत्र में गुरुवार को तीन साल की बच्ची के साथ कथित बलात्कार के बाद रविवार को घाटी में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए.

जम्मू कश्मीर पुलिस ने आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया है. प्रदर्शनकारी आरोपी के लिए सख्त सजा की मांग कर रहे हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित बच्ची के परिवार द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, शाम के समय गांव में बच्ची के साथ बलात्कार किया गया.

पीड़िता बच्ची के एक संबंधी ने बताया कि आरोपी ने बच्ची को टॉफी का लालच देकर उसे अगवा किया और उसके बाद उसके साथ बलात्कार किया.

परिवार के सदस्यों ने कहा, ‘हमें बच्ची पास के इलाके में मिली और इसके बाद में हमने स्थानीय पुलिस को इसके बारे में जानकारी दी.’

उन्होंने कहा कि इस घटना के तुरंत बाद पुलिस अधिकारियों ने आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया. वह इलाके के ही एक गांव का रहने वाला है.

बच्ची को श्रीनगर के अस्पताल में भर्ती किया गया है, जहां उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है.

बांदीपोरा के एसएसपी राहुल मलिक ने कहा, ‘केस दर्ज कर लिया गया है. आरोपी को अदालत के समक्ष पेश किया गया है, अदालत ने उसे पुलिस रिमांड पर भेज दिया.’

बांदीपोरा के उपायुक्त शाहबाज मिर्जा ने कहा, ‘बांदीपोरा में मासूम बच्ची के साथ इस जघन्य अपराध की जांच की जा रही है. हम भरोसा दिलाते हैं कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. हम जनता से शांति बनाए रखने और किसी तरह की अफवाह पर ध्यान नहीं देने की अपील करते हैं.’

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि विरोध प्रदर्शन रविवार को मध्य और उत्तर कश्मीर के 12 से अधिक स्थानों पर हुए.

हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी ने इस तरह की घटनाओं को हमारे सामाजिक ताने-बाने और समृद्ध संस्कृति पर काला धब्बा बताया है.

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा, ‘संबल के तिरगाम में बच्ची के साथ बलात्कार की घटना स्तब्ध करने वाली है. जम्मू कश्मीर पुलिस को तेजी से जांच करनी चाहिए और दोषियों की पहचान कर उसे कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए.’

पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी इस घटना पर गुस्सा जाहिर कर कहा, ‘संबल में तीन साल की बच्ची के बलात्कार के बारे में सुनकर शर्मिंदा महसूस कर रही हूं. किस तरह की मानसिकता के लोग ऐसा कर सकते हैं? समाज अक्सर महिला को इसके लिए जिम्मेदार ठहराता है लेकिन इसमें उस मासूम की क्या गलती थी? आज ऐसे वक्त में शरिया कानून के अनुसार ऐसे काम करने वालों को पत्थर मारकर मौत की सजा देनी चाहिए.’

अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारुख ने ट्वीट कर कहा, ‘सभी से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं जबकि दोषी के लिए सख्त सजा और पीड़िता को जल्द न्याय दिलाने की अपील करता हूं.’

बच्ची से बलात्कार के विरोध में प्रदर्शन से श्रीनगर में जनजीवन प्रभावित

तीन साल की बच्ची के साथ बलात्कार के विरोध में धार्मिक-सह-अलगाववादी संगठन की ओर से आहूत हड़ताल के कारण सोमवार को श्रीनगर में जनजीवन प्रभावित रहा.

अधिकारियों ने बताया कि हड़ताल के कारण शहर के अधिकतर स्कूल, दुकानें और शहर के अन्य कारोबारी संस्थान बंद रहे.

उन्होंने कहा कि हड़ताल के कारण सार्वजनिक परिवहन भी प्रभावित रहे. अधिकारियों ने बताया हालांकि सरकारी दफ्तर और बैंक खुले रहे.

‘इत्तेहादुल मुस्लिमीन’ ने सोमवार को समूचे कश्मीर घाटी में पूर्ण बंद का आह्वान किया था. ‘इत्तेहादुल मुस्लिमीन’ एक धार्मिक संगठन है जो हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के उदारवादी धड़े का एक घटक है.

एक बयान में ‘इत्तेहादुल मुस्लिमीन’ के अध्यक्ष मौलाना मसरूर अब्बास अंसारी ने बलात्कार की इस घटना को मानवता के चेहरे पर धब्बा बताया है. अंसारी ने दोषी के लिए सख्त सजा की मांग की.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)