भारत

गोडसे को लेकर प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर मोदी ने कहा, मैं उन्हें मन से कभी माफ़ नहीं कर पाऊंगा

मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा था कि नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, देशभक्त हैं और रहेंगे. उन्हें आतंकी बोलने वाले लोग ख़ुद के गिरेबां में झांककर देखें, अबकी बार चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा.

Bhopal: BJP candidate Sadhvi Pragya Singh Thakur waves at supporters during her election campaign for Lok Sabha polls, at Sewaniya Gond in Bhopal, Monday, May 6, 2019. (PTI Photo) (PTI5_6_2019_000131B)

चुनाव प्रचार के दौरान भोपाल से भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (फोटोः पीटीआई)

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मालेगांव बम धमाके की आरोपी और भोपाल से भाजपा उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर के गोडसे पर दिए गए बयान पर शुक्रवार को कहा कि वह भले ही माफी मांग लें लेकिन मैं उन्हें मन से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा.

एक निजी चैनल को दिए साक्षात्कार में प्रज्ञा सिंह के इस विवादित बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए मोदी ने कहा, ‘गांधी जी, गोडसे के बारे में जो भी बातें कही गई हैं, जो भी बयान दिए गए हैं, ये भयंकर ख़राब हैं. ये घृणा के लायक हैं, आलोचना के लायक हैं. सभ्य समाज के भीतर इस तरह की भाषा नहीं चलती है. इस तरह की सोच नहीं चल सकती इसलिए ऐसा करने वालों को सौ बार सोचना पड़ेगा. उन्होंने माफी मांग ली, अलग बात है लेकिन मैं उन्हें मन से माफ नहीं कर पाऊंगा.’

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश की देवास लोकसभा सीट पर 19 मई को होने वाले चुनाव के लिए पार्टी प्रत्याशी महेंद्र सोलंकी के समर्थन में आगर-मालवा में रोड शो कर रही प्रज्ञा ने एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, देशभक्त हैं और रहेंगे. गोडसे को आतंकी बोलने वाले खुद के गिरेबां में झांककर देखें. अबकी बार चुनाव में ऐसा बोलने वालों को जवाब दे दिया जाएगा.’

हालांकि, प्रज्ञा सिंह ठाकुर के इस बयान पर विवाद बढ़ने के बाद भाजपा ने कहा था कि उन्हें (प्रज्ञा) अपने बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए. भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा था, ‘बीजेपी इस बयान से सहमत नहीं है, हम इसकी निंदा करते हैं. पार्टी उनसे स्पष्टीकरण मांगेगी, उन्हें इस बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए.’

इसके बाद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने वाला अपना बयान वापस लेते हुए माफी मांग ली.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, प्रज्ञा सिंह ने अपने बयान के लिए माफी मांगते हुए कहा, ‘यह मेरी व्यक्तिगत राय है. मेरा इरादा किसी की भावना को ठेस पहुंचाने का नहीं था. यदि मेरे बयान से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं माफी मांगती हूं. गांधी जी ने देश के लिए जो कुछ किया है, उसे भुलाया नहीं जा सकता. मेरे बयान को मीडिया ने तोड़-मरोड़कर पेश किया.’

मालूम हो कि कुछ दिन पहले मक्कल निधि मैयम (एमएनएम) के संस्थापक एवं अभिनेता कमल हासन ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के संदर्भ में बयान देते हुए कहा था कि आजाद भारत का पहला आतंकवादी एक हिंदू था, और उसका नाम नाथूराम गोडसे था.

प्रज्ञा वर्ष 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी हैं और फिलहाल जमानत पर हैं. भाजपा ने उन्हें मध्य प्रदेश की भोपाल सीट से उम्मीदवार बनाया है. इस सीट पर कांग्रेस की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह मैदान में हैं.

इससे पहले प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भाजपा उम्मीदवार बनाए जाने को लेकर काफी सवाल उठे थे, तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका बचाव किया था. मोदी ने कहा, ‘आपने बिना सबूत दुनिया में पांच हज़ार साल तक जिस महान संस्कृति और परंपरा (हिंदू) ने वसुधैव कुटुंबकम का संदेश दिया, सर्वे भवन्तु सुखिन: सर्वे सन्तु निरामया: का संदेश दिया, जिस संस्कृति ने एकम सदविप्र: बहुधा वदन्ति का संदेश दिया, ऐसी संस्कृति का आपने आतंकवादी कह दिया. उन सबको जवाब देने के लिए, ये एक प्रतीक (प्रज्ञा सिंह ठाकुर को टिकट) है और यह कांग्रेस को महंगा पड़ने वाला है.’