राजनीति

गोवा विधानसभा उपचुनाव: 25 साल बाद मनोहर पर्रिकर की परंपरागत सीट पर भाजपा की हार

गोवा विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी अतनासिओ मोनसेरात को जीत मिली है. साल 1994 से 2014 तक मनोहर पर्रिकर ने इस सीट का प्रतिनिधित्व किया था. 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद वह उनकी कैबिनेट में शामिल हो गए थे.

Atanasio Monserrate Facebook

कांग्रेस उम्मीदवार अतनासिओ मोनसेरात. (फोटो साभार: फेसबुक)

पणजी: भारतीय जनता पार्टी 25 साल के बाद पणजी विधानसभा सीट से चुनाव हार गई है. मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद इस सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी अतनासिओ मोनसेरात को जीत मिली है.

निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मोनसेरात को 8,748 वोट मिले हैं, जबकि भाजपा के सिद्धार्थ श्रीपाद कुंकलियंकर को 6,990 वोट मिले.

गोवा आरएसएस के पूर्व प्रमुख और गोवा सुरक्षा मंच के प्रत्याशी सुभाष भास्कर वेलिंगकर 560 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे, जबकि 436 वोटों के साथ वाल्मीकि नाईक चौथे नंबर पर रहे.

2017 के विधानसभा चुनाव में कुंकलियंकर ने मोनसेरात को करीब 1,600 वोटों से हराया था.

बीते मार्च महीने में कैंसर की वजह से मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद पणजी सीट खाली हो गई थी.

वर्ष 1994 से 2014 तक पणजी विधानसभा सीट पर गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर प्रतिनिधित्व कर रहे थे. साल 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद वह उनकी कैबिनेट में शामिल हो गए थे.

उनकी अनुपस्थिति में दो बार उनके सहयोगी कुंकलियंकर ने इस सीट का प्रतिनिधित्व किया था. 2018 में गोवा राज्य की राजनीति में वापस लौटने पर पर्रिकर पणजी सीट से दोबारा विधायक चुने गए थे.

लोकसभा चुनाव में भाजपा को एक सीट का नुकसान

उधर, लोकसभा चुनाव 2019 के लिए गोवा की दोनों सीटों पर रुझान प्राप्त हो गया है. रुझानों के अनुसार भाजपा को एक सीट का नुकसान हो रहा है. 2014 के चुनाव में दोनों सीटें भाजपा के पास थीं। दोपहर पौने तीन बजे तब भाजपा और कांग्रेस एक एक सीट पर आगे चल रहे थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)