भारत

कांग्रेस का 18 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में नहीं खुला खाता

चुनाव आयोग के मुताबिक कांग्रेस आंध्र प्रदेश, हरियाणा, अरुणाचल प्रदेश, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, मणिपुर, नगालैंड, मिज़ोरम, दिल्ली, ओडिशा, सिक्किम, राजस्थान, चंडीगढ़, दादर एवं नगर हवेली, दमन एवं दीव, लक्षद्वीप में एक भी सीट नहीं जीत पाई है.

फोटो: रॉयटर्स

फोटो: रॉयटर्स

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त का सामना करने वाली कांग्रेस इस बार कुल 18 राज्यों एवं केंद्रशासित क्षेत्रों में खाता भी खोल नहीं सकी.

निर्वाचन आयोग की ओर से जारी रुझानों-परिणामों के मुताबिक कांग्रेस आंध्र प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, मणिपुर, नगालैंड, मिजोरम, दिल्ली, ओडिशा, सिक्किम, राजस्थान, चंडीगढ़, दागर एवं नगर हवेली, दमन एवं दीव, लक्षद्वीप में एक भी सीट नहीं जीत पाई है.

इन राज्यों में से हरियाणा में पिछली बार कांग्रेस एक सीट जीतने में सफल रही थी. पार्टी ने केरल में सबसे अधिक 14 सीटें जीती हैं. इसके बाद पार्टी ने तमिलनाडु में आठ और पंजाब में भी आठ सीटें जीतीं.

कांग्रेस सीटों की संख्या के लिहाज से दूसरे सबसे न्यूनतम स्थान पर पहुंच गई है. पिछले लोकसभा चुनाव में उसने 44 सीटें जीती थीं. हिमाचल प्रदेश में भाजपा ने कांग्रेस का सूपड़ा साफ किया.

हिमाचल प्रदेश की चारों लोकसभा सीटों पर सत्तारूढ़ भाजपा ने जीत दर्ज करते हुए 2014 आम चुनावों का अपना प्रदर्शन दोहराया. इस पर्वतीय राज्य में कांग्रेस एक भी सीट हासिल नहीं कर सकी.

राज्य की लोकसभा सीटों- मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर और शिमला पर भाजपा प्रत्याशियों ने तीन लाख से अधिक वोटों के अंतर से जीत दर्ज की. इस प्रकार भाजपा ने राज्य में 69 प्रतिशत वोट हासिल किए.

हमीरपुर सीट से भाजपा के मौजूदा सांसद अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस के रामलाल ठाकुर के मुकाबले तीन लाख से अधिक वोट प्राप्त किए.

भाजपा के उम्मीदवार सुरेश कुमार कश्यप ने शिमला लोकसभा सीट पर जीत दर्ज की. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के कर्नल धनीराम शांडिल को तीन लाख 27 हजार 515 वोटों के अंतर से हराया. प्रदेश निर्वाचन अधिकारी ने यह जानकारी दी.

कश्यप को छह लाख छह हजार 1183 वोट मिले जो कुल वोटों का 66.35 प्रतिशत है. कांग्रेस के शांडिल को दो लाख 78 हजार 668 वोट मिले. मंडी से मौजूदा सांसद रामस्वरूप ने कांग्रेस के आश्रय शर्मा को चार लाख 05 हजार 459 वोटों से हराया. 2014 में राम स्वरूप ने वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह को हराया था.

कांगड़ा सीट पर, भाजपा के उम्मीदवार किशन कपूर ने जीत दर्ज की. उन्होंने कांग्रेस के निकटतम प्रतिद्वंद्वी पवन काजल को चार लाख 77 हजार 623 वोट के अंतर से मात दी.

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लोकसभा चुनावों में भाजपा की अभूतपूर्व सफलता के लिए राज्य की जनता को धन्यवाद दिया. ठाकुर ने लोकसभा चुनावों में भारी जनादेश के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को बधाई भी दी.

मुख्यमंत्री ने यहां एक बयान में कहा, ‘‘राज्य के इतिहास में यह पहली बार है जब भाजपा उम्मीदवार (राज्य की) सभी संसदीय सीटों पर इतने बड़े अंतर से जीते हैं.’’ उन्होंने कहा कि यह परिणाम केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारों की नीतियों और योजनाओं पर देश और राज्य की जनता का जनमत संग्रह है.

इस बीच, हिमाचल प्रदेश के दो विधायकों सुरेश कश्यप और किशन कपूर के लोकसभा चुनाव जीतने से अब चुनाव आयोग को निकट भविष्य में दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव कराना होगा. कश्यप पच्छाद तथा कपूर धर्मशाला विधानसभा सीटों से विधायक हैं.