भारत

उत्तराखंड में लगातार दो लोकसभा चुनाव जीतने वाली पहली पार्टी बनी भाजपा

उत्तराखंड में भाजपा ने 2014 आम चुनावों के अपने शानदार प्रदर्शन को दोहराते हुए सभी पांच सीटों पर इस बार और अधिक मतों के अंतर से कांग्रेस को मात दे दी.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

देहरादून: भाजपा ने उत्तराखंड में 2014 आम चुनावों के अपने शानदार प्रदर्शन को दोहराते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता के रथ पर सवार होकर पांचों सीटों पर इस बार और अधिक मतों के अंतर से कांग्रेस को मात दे दी.

सभी सीटों पर कब्जा बरकरार रखने के साथ ही भाजपा ऐसा करने वाली प्रदेश की एकमात्र राजनीतिक पार्टी बन गई है. प्रदेश के इतिहास में आज तक कोई भी राजनीतिक पार्टी लगातार दो आम चुनावों में जीत नहीं दोहरा पाई है.

वर्ष 2014 में आम चुनावों में मिली सफलता के साथ शुरू हुआ उत्तराखंड में भाजपा का विजय रथ लगातार जारी है. दो साल पहले 2017 में विधानसभा चुनावों में 70 में से 57 सीटें अपनी झोली में डाल कर ऐतिहासिक विजय अर्जित करने वाली भाजपा को पिछले साल हुए नगर निकाय चुनावों में भी जीत मिली थी.

काबिलेगौर यह भी है कि भाजपा ने इस बार अपने दो सांसदों के टिकट काटकर नए चेहरों को मैदान में उतारा था लेकिन इसके बावजूद परिणाम उसके पक्ष में ही रहे. प्रदेश की पांचों सीटों पर जीतने वाले भाजपा प्रत्याशियों और उनके निकटतम प्रतिद्वंदियों के बीच सवा दो लाख से लेकर तीन लाख मतों का अंतर रहा.

अल्मोडा में केंद्रीय मंत्री अजय टम्टा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और कांग्रेस से राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा को 232986 मतों से एक बार फिर पटखनी दी.

पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे पौडी गढवाल से भाजपा के राष्ट्रीय सचिव तीरथ सिंह रावत ने कांग्रेस के अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और मौजूदा भाजपा सांसद भुवन चंद्र खंडूरी के पुत्र मनीष खंडूरी को 3,02669 मतों से हराया.

टिहरी में मौजूदा भाजपा सांसद महारानी माला राज्यलक्ष्मी शाह ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह को 300586 मतों से पराजित किया. महारानी की यह लगातार तीसरी जीत है.

उधमसिंह नगर—नैनीताल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भटट अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस महासचिव और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को 3,39,096 मतों से हराया. भटट को 772195 मत मिले जबकि रावत को 433099 मतों से संतोष करना पड़ा.

हरिद्वार में मौजूदा भाजपा सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के अंबरीष कुमार को 258729 मतों के अंतर से पटखनी देते हुए सीट एक बार फिर अपने नाम की. निशंक को 665674 मत मिले जबकि कुमार 406945 वोट ही हासिल कर पाये.

बता दें कि उत्तराखंड में पहले चरण में 11 अप्रैल को चुनाव हुआ था.