भारत

उत्तर प्रदेश: अमित शाह को काला झंडा दिखाने वाली इलाहाबाद विश्वविद्यालय की छात्रा निलंबित

छात्रा का आरोप है कि वो विश्वविद्यालय प्रशासन के निशाने पर तभी से हैं जब उन्होंने पिछले साल अमित शाह को काला झंडा दिखाया था और उस आरोप में वो जेल भी गई थीं.

इलाहाबाद विश्वविद्यालय

इलाहाबाद विश्वविद्यालय

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के इलाबाद में करीब एक साल पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को काले झंडे दिखाकर चर्चा में आईं इलाहाबाद विश्वविद्यालय की शोध छात्रा नेहा यादव को विश्वविद्यालय प्रशासन ने अनुशासनहीनता के आरोप में निलंबित कर दिया है.

बीबीसी के अनुसार, शैक्षणिक सत्र समाप्त होने पर प्रशासन छात्रावासों को खाली करा रहा था. नेहा यादव और कई अन्य छात्राएं इस आंदोलन का नेतृत्व कर रही थीं. आरोप है कि इस आंदोलन की वजह से सड़क पर जाम लग गया और प्रशासन को जाम हटाना पड़ा.

दरअसल, इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रावासों को खाली कराने की कार्रवाई का कुछ छात्र ये कहकर विरोध कर रहे थे कि उन्हें कुछ दिन और रहने की छूट दे दी जाए क्योंकि आने वाले दिनों में यूजीसी की परीक्षा है.

बता दें कि नेहा यादव विश्वविद्यालय के फूड एंड टेक्नोलॉजी विभाग में शोध छात्रा हैं और हॉल ऑफ रेजिडेंस (एचओआर) हॉस्टल में रहती हैं.

नेहा यादव का आरोप है कि इविवि प्रशासन ने उनके ख़िलाफ़ एकतरफ़ा कार्रवाई की है. उनका कहना है कि विश्वविद्यालय ने मुझे कोई चेतावनी पत्र तक नहीं दिया, सीधे निलंबित कर दिया और कारण बताओ नोटिस में पूछा है कि ‘क्यों न आपको निष्कासित कर दिया जाए.’

नेहा यादव का आरोप है कि वो विश्वविद्यालय प्रशासन के निशाने पर तभी से हैं जब उन्होंने पिछले साल अमित शाह को काला झंडा दिखाया था और उस आरोप में वो जेल भी गई थीं.

उन्होंने कहा, ‘आंदोलन में इतनी छात्राएं थीं, कुछ ऐसी भी थीं जो छात्रसंघ का चुनाव लड़ चुकी हैं लेकिन कार्रवाई सिर्फ़ मेरे ख़िलाफ़ ही हुई. मुझ पर आरोप लगे हैं कि मेरे ख़िलाफ़ कई मामले दर्ज हैं, जबकि जो भी मामले दर्ज हैं वो छात्र हितों की लड़ाई लड़ने के आरोप में ही दर्ज हैं.’

नेहा यादव कहती हैं, ‘मैंने तो माफ़ी भी मांगी है कि कुछ ग़लत किया हो तो माफ़ कर दिया जाए लेकिन मेरी बात कोई सुन ही नहीं रहा है. कुलपति महोदय से भी मिलने की दो दिन तक कोशिश की लेकिन मिल नहीं पाई.’

इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर प्रोफ़ेसर रामसेवक दुबे ने बताया कि नेहा यादव सिर्फ़ दो साल से ही यहां की छात्रा हैं लेकिन इस दौरान उनके ख़िलाफ़ अनुशासनहीनता की कई शिकायतें मिली हैं.

उनका कहना है, ‘छात्रावास में अनुशासनहीनता करना और कराना इनका काम है. देर रात छात्रावास में जाना, गार्ड्स से दुर्व्यवहार करना जैसे तमाम आरोप हैं. ये पहला मामला है जबकि 70-80 छात्राओं ने किसी के ख़िलाफ़ लिखित शिकायत दी है.’

प्रॉक्टर प्रोफ़ेसर दुबे बताते हैं कि नेहा यादव की पहले भी कई ऐसे मामलों में संलिप्तता रही है जिन्हें अनुशासनहीनता की परिधि में रखा जा सकता है. इसीलिए उन्हें निलंबित करते हुए कारण बताओ नोटिस दिया गया. हालांकि, धरना-प्रदर्शन में शामिल तमाम दूसरी छात्राओं के ख़िलाफ़ ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की गई.

दुबे कहते हैं, ‘इस मामले में कुलपति प्रो. रतन लाल हांगलू ने पांच सदस्यीय जांच कमेटी गठित की थी. कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. इस पर कुलपति ने क्या कार्रवाई की है, ये उनके जवाब के बाद पता चलेगा.’

विश्वविद्यालय के कुछ छात्र नाम न छापने की शर्त पर कहते हैं कि ‘पिछले कुछ सालों में विश्वविद्याल की ये परंपरा बन गई है कि यहां व्याप्त अनियमितताओं के ख़िलाफ़ जो भी आवाज़ उठाता है उसे पहले तो प्रताड़ित किया जाता है और फिर उसे निलंबित और निष्कासित कर दिया जाता है.’

प्रॉक्टर राम सेवक दुबे नेहा यादव के ख़िलाफ़ जिन छात्राओं की लिखित शिकायत का हवाला देते हैं उनमें से कुछ छात्राओं ने साफ़तौर पर ऐसी शिकायत करने से मना किया है. एक छात्रा ने नाम न छापने की शर्त पर बीबीसी को बताया कि उन्होंने ऐसी कोई शिकायत नहीं की है.

बता दें कि, नेहा यादव साल 2016 में विश्वविद्यालय में संयुक्त प्रवेश परीक्षा की टॉपर रही हैं और उनका अच्छा अकादमिक रिकॉर्ड रहा है.

इस पर दुबे कहते हैं, ‘अकादमिक रिकॉर्ड अच्छा होना किसी की बुद्धिमत्ता को दर्शाता  है, इस बात का नहीं कि वो ग़लत काम नहीं करेगा. आईएएस और पीसीएस की परीक्षाओं में टॉप करने वाले कितने लोग आज जेल काट रहे हैं.’