भारत

पश्चिम बंगाल: हिंसक झड़प में भाजपा के तीन और तृणमूल कांग्रेस के एक कार्यकर्ता की हत्या

मामला पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले का है. टीएमसी और भाजपा दोनों दलों से जुड़े सूत्रों ने बताया कि यह झड़प क्षेत्र से भाजपा का झंडा हटाने को लेकर हुई.

फोटो: पीटीआई

फोटो: पीटीआई

संदेशखाली (पश्चिमबंगाल): पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के नाजट इलाके में शनिवार रात तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प में कम से कम चार लोग कथित तौर पर मारे गए और तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. दोनों पार्टियों के सूत्रों ने यह दावा किया है.

हालांकि, पुलिस ने इन मौतों के बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने बताया कि स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए पुलिस बल भेजा गया है. दोनों दलों से जुड़े सूत्रों ने बताया कि यह झड़प क्षेत्र से भगवा पार्टी का झंडा हटाने को लेकर हुई.

भाजपा की राज्य इकाई के महासचिव सयान्तन बोस ने बताया कि उनकी पार्टी के तीन कार्यकर्ता -सुकांत मंडल,प्रदीप मंडल और शंकर मंडल ने जब टीएमसी के समर्थकों को पार्टी का झंडा फेंकने से रोकने की कोशिश तो उन्हें गोली मार दी गई.

बासू ने कहा, ‘हमें पता चला है कि दो और लोग मारे गए हैं लेकिन हमें उनके शव नहीं मिले हैं. उन्होंने हमारी पार्टी के झंडे फेंकने और पोस्टर फाड़ने की कोशिश की और जब हमने विरोध किया तो हमारे कार्यकर्ताओं को गोली मार दी गई.’

भाजपा के वरिष्ठ नेता मुकुल रॉय ने कहा कि पार्टी केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को घटना की जानकारी देगी क्योंकि बंगाल में भाजपा के कार्यकर्ताओं पर हिंसा के लिए तृणमूल ही जिम्मेदार है. वहीं, टीएमसी ने दावा किया कि उसका भी एक कार्यकर्ता मारा गया है.

पार्टी के 24 उत्तर परगना जिले के अध्यक्ष तथा राज्य के मंत्री जे मुलिक ने बताया कि पार्टी समर्थक कयूम मुल्ला की भाजपा कार्यकर्ताओं ने हत्या कर दी.

बता दें कि जिस इलाके में यह घटना हुई है वह बशीरहट लोकसभा क्षेत्र के तहत आता है. यह सीट तो टीएंमसी ने जीत ली लेकिन हटगाचा गांव में भाजपा को 144 वोट मिले जो कि टीएमसी से ज्यादा थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)