भारत

मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 54 हज़ार मैंग्रोव काटे जाएंगे

महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने विधान परिषद में ये जानकारी दी. बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए कुल 1,379 हेक्टेयर की जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा.

bullet train reuters

(प्रतीकात्मक तस्वीर: रॉयटर्स)

मुंबई: मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर (बुलेट ट्रेन) परियोजना के चलते 13.36 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले करीब 54,000 मैंग्रोव काटे जाएंगे. राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने बीते सोमवार को यह जानकारी दी. मैंग्रोव को उष्णकटिबंधीय पेड़ या ट्रॉपिकल ट्री कहते हैं.

दिवाकर रावते राज्य विधान परिषद में शिवसेना की पार्षद मनीषा कायंदे के एक सवाल का जवाब दे रहे थे. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने इस कई अरब डॉलर की परियोजना के लिए काटे जाने वाले प्रत्येक पेड़ के स्थान पर पांच पौधे लगाने का प्रस्ताव दिया है.

उन्होंने कहा, ‘नवी मुंबई के कुछ हिस्सों में बाढ़ आने की कोई आशंका नहीं होगी, क्योंकि इस क्षेत्र में मैंग्रोव नहीं काटे जाएंगा. परियोजना के खंभे ऊंचे होंगे और इसलिए पर्यावरण को बहुत अधिक नुकसान नहीं होगा.’

रावते ने अपने लिखित जवाब में कहा, ‘मेरी जानकारी के मुताबिक किसान उचित मुआवजे के लिए अपनी जमीन देने के इच्छुक हैं.’

इस परियोजना में एक लाख करोड़ रुपये से ऊपर की लागत आने का अनुमान है. इसके लिए निधि जापान अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (जेआईसीए) उपलब्ध कराएगी.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक कांग्रेस विधायक शरद रानपिसे के एक अन्य सवाल के जवाब में, राज्य सरकार ने कहा कि परियोजना के लिए कुल 1,379 हेक्टेयर की जमीन का अधिग्रहण किया जाएगा. इसमें से महाराष्ट्र की 275.65 हेक्टेयर की जमीन निजी भूमि है.

मुंबई में इस परियोजना के लिए राज्य सरकार विक्रोली में 39.252 वर्गमीटर की निजी भूमि खरीदेगी. सरकार 188 हेक्टेयर निजी भूमि का अधिग्रहण करेगी. पालघर जिले में 3,498 परिवार प्रभावित होंगे. इसमें से 2.95 हेक्टेयर जमीन सरकार ने खरीद ली है.

ठाणे जिले में 84.81 हेक्टेयर जमीन के मालिक 6,589 किसान, इस परियोजना से प्रभावित होने वाले हैं. इसमें से 2.95 हेक्टेयर को सरकार ने खरीद लिया है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)