भारत

नोएडा पुलिस महिलाओं से छेड़छाड़ करने वालों को जारी करेगी रेड कार्ड

नोएडा पुलिस इस पहल के तहत स्कूलों और कॉलेजों में फीडबैक फॉर्म का वितरण करेगी, जिसमें महिलाओं से सुझाव मांगे जाएंगे कि वह उन क्षेत्रों के बारे में बताएं, जहां एंटी रोमियो स्क्वाड की जरूरत है.

एंटी रोमियो स्क्वॉड रेड कार्ड. (फोटो साभार: सोशल मीडिया)

एंटी रोमियो स्क्वॉड रेड कार्ड. (फोटो साभार: सोशल मीडिया)

नोएडाः नोएडा पुलिस की एंटी रोमियो स्क्वाड टीम सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं से छेड़छाड़ या अश्लील बयानबाजी करने वालों को रेड कार्ड जारी करेगी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, महिलाओं को छेड़छाड़ और उत्पीड़न से बचाने के लिए पुलिस जनता से फीडबैक लेगी और उन क्षेत्रों को चिह्नित करेगी, जहां महिलाओं से छेड़छाड़ की अधिक संभावनाएं रहती हैं.

गौतमबुद्ध नगर के एसपी (ग्रामीण) विनीत जायसवाल ने कहा, ‘रेड कार्ड जारी करना एक जरूरी कदम है, जिससे मौखिक और अमौखिक रूप से महिलाओं को प्रताड़ित करने वालों को चेतावनी दी जाएगी. इस कार्ड में शख्स का पूरा विवरण होगा, जिसमें उसका पता और फोन नंबर भी होगा.

इसे भविष्य के रिकॉर्ड के लिए सुरक्षित रखा जाएगा ताकि जरूरत पड़ने पर इसका इस्तेमाल किया जा सके. अगर वह शख्स दोबारा इसी तरह का अपराध करता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

इस रेड कार्ड में यह दिखाया जाएगा कि महिला का पीछा करने, उस पर आपत्तिजनक फब्तियां कसना अपराध हैं और इसके लिए वह जेल जा सकता है.

पुलिस इस पहल पर  फीडबैक के लिए गुरुवार से स्कूलों और कॉलेजों में इन फीडबैक फॉर्म का वितरण करेगी, जिसमें महिलाओं से सुझाव मांगे जाएंगे कि वह उन क्षेत्रों के बारे में बताएं, जहां एंटी रोमियो स्क्वाड की जरूरत है. आगामी सप्ताह में पुलिस इन क्षेत्रों का आकलन करेगी और वहां एंटी रोमियो स्क्वाड की तैनाती करेगी.

जायसवाल ने कहा, ‘ऐसे समय में जब महिलाएं स्कूल, कोचिंग सेंटर और कॉलेजों से पैदल घर लौटती हैं और उनका उत्पीड़न करने के लिए लोग वहां पहले से ही घूमने लगते हैं. इस फीडबैक फॉर्म से हमें इस तरह के क्षेत्रों को पहचानने में मदद मिलेगी ताकि हम वह कड़ी निगरानी रख सके.’

उन्होंने बताया कि हर टीम में कम से कम एक सब इंस्पेक्टर, दो पुरूष और दो महिला कॉन्स्टेबल होंगी. पुलिसकर्मी गश्ती के दौरान खाकी और सादी दोनों वर्दियों में रहेंगे.