भारत

झारखंड: जादू-टोने के शक में मां-बेटी की गला रेतकर हत्या

मामला झारखंड के पश्चिम सिंहभूम जिले का है. महिला के पति द्वारा पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, सोमवार को उनके घर में एक पूजा आयोजित हुई थी जिसमें उनके पड़ोसी रामबिलास की पत्नी शामिल हुई थीं. पूजा के बाद वह बीमार हो गई. इसके बाद रामबिलास के परिजनों ने उनकी पत्नी और बेटी पर हमला कर दिया.

(फोटो: गूगल मैप)

(फोटो: गूगल मैप)

रांची: झारखंड के पश्चिम सिंघभूम जिले में जादू-टोने के शक में एक 50 वर्षीय महिला और उसकी 25 साल की बेटी की हत्या कर दी गई. घटना नक्सल प्रभावित रोवाओली गांव में गुरुवार रात की है.

नवभारत टाइम्स के अनुसार, पुलिस ने बताया, कुछ लोगों ने महिला और उसकी बेटी को पीट-पीटकर मार डाला. पीड़िता की पहचान मालती देवी (50) और रायवती खंडैत (25) के रूप में हुई है.

घटना के दौरान महिला के पति सुभाष खंडैत और बेटा भागने में सफल रहे. उन्होंने शुक्रवार को मामला दर्ज कराया.

पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई गई सुभाष की शिकायत के अनुसार, ‘सोमवार को उनके घर में एक पूजा आयोजित हुई थी जिसमें उनके पड़ोसी रामबिलास की पत्नी शामिल हुई थीं. पूजा के बाद वह बीमार हो गई. इसके बाद रामबिलास के परिजनों ने खंडैत की पत्नी और बेटी पर हमला कर दिया.’

पश्चिम सिंघभूम के पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) आनंद मोहन ने मीडिया को बताया, ‘प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. हम मामले की जांच कर रहे हैं. मृतका के परिजनों ने डायन का आरोप लगा हत्या करने की बात कही है.’

प्रभात खबर के अनुसार, बेटी के साथ दुष्कर्म की भी आशंका जतायी जा रही है.

सुभाष खंडैत ने डीएसपी व थाना प्रभारी को बताया, ‘बुधवार शाम करीब चार बजे उसकी पत्नी मालती देवी नहाने जा रही थी. इसी बीच गांव के ही रामविलास खंडैत ने उसे लाठी से मारा, जिससे वह बेहोश हो गई. उसकी बेटी रायबती खंडैत अपनी मां को घर लाई.’

उन्होंने बताया, ‘शाम 6 बजे सीताराम उसके घर पहुंच गए. फिर रामविलास और उसका चचेरा भाई टीपू भी पहुंच गया. टीपू ने दाऊली लाकर सीताराम को दिया. सीताराम ने मालती देवी पर दाऊली से हमला कर गला काट दिया.’

सुभाष खंडैत ने बताया, ‘पत्नी की हत्या के बाद सीताराम व रामविलास उसकी बेटी को कमरे के अंदर ले गए. आशंका है कि इस दौरान दोनों ने उसकी बेटी के साथ दुष्कर्म किया. कुछ देर बाद दोनों बाहर निकले.’

उन्होंने बताया, ‘इसके बाद वह बेटी को पानी पिला रहे थे, तभी सीताराम फिर घर में घुसा और दाऊली से बेटी का गला काट दिया. उसके दोनों हाथ भी काट दिए. घटना के बाद डर से सुभाष खंडैत और उनका बेटा बंटी खंडैत घर से भाग कर वनग्राम मुजनिया पहुंचे.’

वहां किसी के घर में छिपे रहे. दूसरे दिन गुरुवार को चक्रधरपुर थाना क्षेत्र के जामिद गांव स्थित रिश्तेदार के यहां पहुंचे. इसके बाद चक्रधरपुर थाना पहुंचकर मामले की जानकारी दी.

दैनिक भास्कर के अनुसार, घर के दो लोगों की हत्या के बाद सुभाष खंडैत और उसके परिजन इतने डरे हुए हैं कि लौटकर घर जाना नहीं चाहते.

सुभाष ने बताया कि वे घर वापस लौटे तो उनकी भी हत्या हो सकती है. हमलावरों ने उनके पूरे परिवार को खत्म करने का धमकी दी है. वे पत्नी और बेटी का अंतिम संस्कार भी अपने रिश्तेदार के गांव में ही करेंगे.

सुभाष खंडैत के अनुसार, ‘उनका परिवार करीब 3-4 साल से घर पर मां मनसा की पूजा करता आ रहा है. सोमवार को रामबिलास की पत्नी झूमते हुए उनके घर आई थी और मां मनसा की फोटो के सामने बैठ गई थी. हमला करने वाले लोगों के परिवार में विगत वर्षों में एक-दो लोगों की बीमारी से मौत हो गई थी. इस पर वे उनके परिवार पर संदेह करने लगे.’