भारत

कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे द्वारा अफसर की पिटाई पर मोदी ने कहा- बिल्कुल अस्वीकार्य

भाजपा नेताओं के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने एक बैठक में कहा कि ऐसे लोगों को पार्टी से बाहर किया जाना चाहिए, चाहे वो किसी का भी बेटा हो कोई फर्क नहीं पड़ता.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressing at the Business and Community event, at Marina Bay Sands Convention Centre, in Singapore on May 31, 2018.

(फाइल फोटो: पीआईबी)

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय द्वारा नगर निगम के अधिकारी को बल्ले से पीटने की घटना पर नाराजगी जताई है.

भाजपा नेताओं के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने एक बैठक में कहा कि ऐसे लोगों को पार्टी से बाहर किया जाना चाहिए, चाहे वो किसी का भी बेटा हो कोई फर्क नहीं पड़ता.

भाजपा संसदीय दल की बैठक के बाद भाजपा नेता राजीव प्रताप रूडी ने एनडीटीवी से कहा, ‘प्रधानमंत्री बहुत परेशान थे. उन्होंने कहा कि किसी को भी किसी के साथ दुर्व्यवहार या पार्टी का नाम खराब करने या सार्वजनिक रूप से अहंकार दिखाने का कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने बहुत कड़े शब्दों का इस्तेमाल किया और कहा कि इस तरह का कोई भी कार्य अस्वीकार्य है.’

एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि आकाश विजयवर्गीय के जेल से छूटने के बाद जिन लोगों ने उनका फूल माला के साथ स्वागत किया, उन्हें पार्टी से बाहर किया जाना चाहिए.

पिछले हफ्ते बुधवार को भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर नगर निगम के एक अधिकारी की क्रिकेट बैट से पिटाई की थी. इस मामले में आकाश को गिरफ्तार किया गया था. आकाश के जेल से निकलने के बाद कार्यकर्ताओं ने फूल माला से उनका स्वागत किया, मिठाईयां बांटी गईं और पार्टी ऑफिस पर फायरिंग भी की गई थी.

जमानत मिलने पर आकाश ने कहा था कि जेल जाने का उनका पहला अनुभव अच्छा रहा. आकाश ने कहा कि उन्होंने जो कुछ किया है उसके लिए वे शर्मिंदा नहीं हैं. उन्होंने कहा, ‘मैंने जो कुछ किया, उसके लिए न तो मैं दोषी हूं और न ही शर्मिंदा हूं क्योंकि जो कुछ मैंने किया वो जनहित में था.’

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस घटना के वीडियो में आकाश विजयवर्गीय को नगर निगम की अतिक्रमण हटाने वाली टीम के एक सदस्य की पिटाई करते देखा जा सकता है. नगर निगम की यह टीम मानसून के मद्देनजर इंदौर के गंजी कंपाउंड इलाके में एक जर्जर मकान को ढहाने गई थी.

इस पूरे मामले पर आकाश विजयवर्गीय ने कहा था, ‘यह सिर्फ शुरुआत है. हम इस भ्रष्टाचार और गुंडावाद को खत्म करेंगे. आवेदन, निवेदन और फिर दनादन, ये हमारा लाइन ऑफ एक्शन है.’