मीडिया

गुजरातः सरकारी परियोजना पर रिपोर्ट के चलते पत्रकार पर हमला, एक गिरफ़्तार

मामला गुजरात के वलसाड का है. आरोप है कि एक तालाब के सौंदर्यीकरण की परियोजना को लेकर छपी ख़बर से गांव का पूर्व सरपंच नाराज़ था और उसने अपने दो साथियों के साथ मिलकर पत्रकार और उनके परिवार पर हमला किया.

valsad-Map

अहमदाबादः गुजरात के वलसाड में एक गुजराती समाचार पत्र के ब्यूरो प्रमुख, उनकी पत्नी और डेढ़ साल की बेटी पर कथित तौर पर हमला किया गया. आरोप है कि यह हमला एक पूर्व सरपंच और उनके दो सहयोगियों ने शनिवार रात को किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार की एक परियोजना को लेकर पत्रकार की रिपोर्ट अखबार में प्रकाशित होने के कुछ दिनों बाद यह हमला किया गया. पुलिस ने बताया कि इस संबंध में एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है.

गुजरात मित्र समाचार पत्र के सिटी ब्यूरो प्रमुख हर्षद अहिर (34), उनकी पत्नी केतना (30) और उनकी बच्ची वलसाड के भगदावाडा अपार्टमेंट में रहते हैं.

मुख्य आरोपी की पहचान धर्मेश पटेल के रूप में हुई है, जो वलसाड के भगदावाडा गांव के पूर्व सरपंच हैं. बताया गया कि उसने अपने सहयोगियों जयदेव देसाई और सागर पटेल के साथ मिलकर यह हमला किया था.

वलसाड पुलिस के अधीक्षक सुनील जोशी ने कहा, ‘पत्रकार पर पूर्व सरपंच और उसके सहयोगियों ने हमला किया. हमने जयदेव को गिरफ्तार कर लिया है जबकि बाकी दो फरार हैं.’

पीड़ित हर्षद के मुताबिक, भगदावाडा में एक तालाब की पुनर्विकास परियोजना को लेकर हुए काम को लेकर उसने कुछ दिन पहले अखबार में एक रिपोर्ट छापी थी, जिसकी वजह से उन पर हमला हुआ.

हर्षद ने कहा, ‘लगभग पांच साल पहले सौंदर्यीकरण परियोजना के तहत तालाब के एक तरफ एक दीवार बनाई गई थी. इसके अलावा वहां कुर्सियां भी लगवाई गईं और एक लॉन बनवाया गया. उस समय धर्मेश गांव का उपसरपंच था और इस परियोजना का प्रभारी था. वह गांव का सरपंच भी रह चुका है.’

उन्होंने आगे बताया, ‘हालिया बारिश में सौंदर्यीकरण परियोजना के तहत लगाया गया सामान बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया. मैंने इस बारे में एक रिपोर्ट की, जिसमें इस बात को बताया था. इसके बाद बीते शनिवार रात लगभग 10.15 बजे धर्मेश सहित पांच लोग मेरे अपार्टमेंट के सामने इकट्ठा हुए और मुझे नीचे आने को कहा. मेरे मना करने पर धर्मेश, जयदेव और सागर ऊपर अपार्टमेंट में आ गए. उन्होंने मेरे और मेरी पत्नी के साथ मारपीट की और नवजात बेटी को लात भी मारी.’

हर्षद ने कहा, ‘वह इस स्टोरी को लेकर मुझ पर लगातार चिल्ला रहा था और मुझे मारने की धमकियां दे रहा था.’ उनकी शिकायत पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 323, 452 और 506 के तहत तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

वलसाड के स्थानीय मीडिया सूत्रों ने बताया कि तालाब के पुनर्विकास योजना को लेकर हर्षद की फोटो स्टोरी में किसी को भी जिम्मेदार नहीं ठहराया गया है बल्कि संभावित भ्रष्टाचार की ओर इशारा किया गया है. सूत्रों ने यह भी बताया कि धर्मेश 2016 तक वलसाड तालुका के भाजपा अध्यक्ष थे.

धर्मेश को जानने वाले एक व्यक्ति ने गोपनीयता की शर्त पर इस अखबार को बताया, ‘धर्मेश हाल ही में अखबार में प्रकाशित फोटो स्टोरी को लेकर नाराज थे. क्योंकि रिपोर्टर भी उसी गांव में रहता था तो इलाके में अपनी ताकत दिखाने के लिए धर्मेश ने जयदेव और सागर के साथ मिलकर हर्षद पर हमला किया.

वलसाड के 60 से ज्यादा पत्रकारों ने हर्षद पर हुए हमले की निंदा करते हुए जिला कलेक्टर और डीएसपी को आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग करते हुए एक मेमोरेंडम सौंपा है.