भारत

गोवा: भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस के 15 में से 10 विधायक, आज अमित शाह से करेंगे मुलाकात

गोवा विधानसभा चुनाव में 16 विधायकों के साथ कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी. हालांकि, निर्दलीय विधायकों के समर्थन से 14 सीटें जीतने वाली भाजपा दिवंगत भाजपा नेता मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में सरकार बनाने में सफल हो गई थी. अब राज्य विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या पांच पर सिमट गई है.

Panaji: Ten of 15 Congress members led by leader of opposition Chandrakant Kavlekar gives letter for merger of their faction in BJP to Speaker Rajesh Patnekar, in Panaji, Wednesday, July 10, 2019. (PTI Photo) (PTI7_10_2019_000233B)

विधानसभा स्पीकर राजेश पाटनेकर को अपना इस्तीफा सौंपते कांग्रेस के 10 विधायक. (फोटो: पीटीआई)

पणजी: गोवा में कांग्रेस के दो-तिहाई (15 में से 10) विधायकों का एक समूह बुधवार को कांग्रेस से नाता तोड़कर भाजपा में शामिल हो गया.

10 कांग्रेस विधायकों का समूह विधानसभा में विपक्ष के नेता चंद्रकांत कावलेकर के नेतृत्व में सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हुआ है. इस तरह, 40 सदस्यीय सदन में अब भाजपा पार्टी के विधायकों की संख्या 27 पर पहुंच गई है.

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत कांग्रेस के दस विधायकों के साथ बृहस्पतिवार शाम नई दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेंगे. सावंत ने बताया कि वह भाजपा में शामिल हुए 10 विधायकों के साथ बुधवार की रात को दिल्ली पहुंचे.

सावंत ने बताया कि शाह और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ बैठक के बाद ही राज्य में गठबंधन सहयोगियों से किसी मंत्री को हटाने पर फैसला लिया जाएगा.

उन्होंने कहा, ‘मैं सभी 10 विधायकों के साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करूंगा.’

यह पूछे जाने पर कि क्या विधायकों के लिए सहयोगी दलों से किसी मंत्री को हटाया जाएगा, सावंत ने कहा, ‘जब तक मैं नेताओं से नहीं मिल लेता, तब तक मैं कुछ भी नहीं कह पाऊंगा.’

तटीय राज्य में 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी कांग्रेस के विधायकों की संख्या अब पांच तक सिमट गई है.

सावंत ने बुधवार की शाम को घोषणा की कि कांग्रेस विधायक दल के दो तिहाई सदस्य भाजपा में शामिल हो गए हैं. बता दें कि, दो-तिहाई संख्या…दल-बदल कानून के तहत होने वाली कार्रवाई से बचाने के लिये पर्याप्त है.

इन सदस्यों के भाजपा में शामिल होने का पत्र बुधवार की शाम को सावंत की मौजूदगी में विधानसभा अध्यक्ष राजेश पटनेकर को सौंप दिया गया. पटनेकर ने बाद में बताया कि उन्हें पत्र मिल गया है.

उनके अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके साथ ही सदन में भाजपा सदस्यों की संख्या 27 हो गई है. कांग्रेस विधायकों ने भाजपा में शामिल होने की इच्छा जताई थी.

कावलेकर के साथ जो विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं वह अतानासियो मोन्सेराते, जेनिफर मोन्सेराते, फ्रांसिस सिल्वेरा, फिलिप नेरी रॉड्रिग्स, सी डियाज, विल्फ्रेड डीसा, नीलकांत हलारंकार, इसिडोर फर्नांडीज और एंटोनियो फर्नांडीज हैं.

भाजपा के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के पास गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीन विधायकों और तीन निर्दलीयों का समर्थन है. इसके अलावा, सदन में कांग्रेस के पांच विधायक और राकांपा तथा महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी के एक-एक विधायक हैं.

वहीं, गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री और दिवंगत भाजपा नेता मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर ने कहा, ‘मेरे पिता ने जो रास्ता अपनाया यह उससे बिल्कुल अलग है. जब 17 मार्च को मेरे पिता का निधन हुआ था तभी मुझे पता था कि यह होने वाला है. हालांकि, यह कल हुआ.’

कांग्रेस ने स्थिति का जायजा लेने चेल्लाकुमार को गोवा भेजा

कांग्रेस के दस विधायकों के भाजपा में शामिल होने से स्तब्ध, पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने वरिष्ठ नेता ए चेल्लाकुमार को तटीय राज्य में स्थिति का जायजा लेने के लिए भेजा है.

कांग्रेस के सचिव एवं पार्टी के गोवा मामलों के प्रभारी चेल्लाकुमार बुधवार की रात यहां पहुंचे और आगे की कार्रवाई तय करने के लिए पार्टी के शेष पांच विधायकों के साथ विचार-विमर्श शुरू किया.

चेल्लाकुमार ने बताया कि पार्टी आलाकमान से परामर्श लेने के बाद पांचों विधायक अपना नेता चुनने के लिए एक बैठक करेंगे. उन्होंने गोवा में बुधवार के राजनीतिक घटनाक्रम को ‘भाजपा द्वारा लोकतंत्र की हत्या किया जाना’ करार दिया.

चेल्लाकुमार ने आरोप लगाया कि भाजपा करोड़ों रुपये की पेशकश कर विपक्षी दलों के विधायकों को अपनी ओर खींच रही है.

बता दें कि, गोवा में 15 जुलाई से विधानसभा का मानसून सत्र आरंभ हो रहा है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)