भारत

राजस्थान: भूमि विवाद की जांच करने गए पुलिस कॉन्स्टेबल की पीट-पीटकर हत्या

मामला राजस्थान के राजसमंद जिले का है. हालांकि, उदयपुर रेंज की आईजी बिनीता ठाकुर ने कहा कि यह मॉब लिंचिंग का मामला नहीं है.

(फोटो साभार: गूगल मैप्स)

(फोटो साभार: गूगल मैप्स)

जयपुर: राजसमंद जिले में एक जमीन से जुड़े एक विवाद की जांच करने गए राजस्थान पुलिस के एक कॉन्स्टेबल की शनिवार को कुछ लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी.

पुलिस अधीक्षक भुवन भूषण ने बताया कि भीम थाने में तैनात कॉन्स्टेबल अब्दुल गनी एक मामले की जांच के लिए हमेला की बेर गांव गये थे. उन्होंने कहा, ‘वह बाइक से लौट रहे थे तो चार-पांच अज्ञात लोगों ने लाठियों से उन पर हमला कर दिया.’

उन्हें पास के एक अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गयी. पुलिस अधीक्षक के अनुसार, इस प्रकरण में शामिल लोगों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है.

एनडीटीवी के अनुसार, 48 वर्षीय कॉन्स्टेबल अब्दुल गनी की पिटाई की सूचना पर डीएसपी राजेंद्र सिंह, सीआई लाभूराम विश्नोई और पुलिस टीम मौके पर पहुंची और पड़ताल शुरू की. टीम हमलावरों का पता लगाने में जुटी है.

मृतक हेड कॉन्स्टेबल अब्दुल गनी पिता अब्दुल अजीज जहाजपुर भीलवाड़ा के रहने वाले थे. वे फरवरी 1995 में राजस्थान पुलिस की सेवा से जुड़े थे.

उसके बाद पुलिस कॉन्स्टेबल के रूप में राजसमंद जिले के कुंवारिया, आमेट, देवगढ़, राजसमंद एवं भीम पुलिस थाना क्षेत्र में सेवाएं दी. जानकारी के मुताबिक हेड कॉन्स्टेबल के परिवार में चार पुत्रियां और एक पुत्र हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार, भीम पुलिस स्टेशन के एसएचओ लभूराम विश्नोई ने कहा, ‘भूमि पर अतिक्रमण में शामिल पक्षों से बात करते समय वहां कुछ विवाद हो गया और अज्ञात व्यक्तियों ने गनी पर हमला कर दिया.’

हमला करने के बाद हमलावर भाग गए. हालांकि, कुछ राहगीरों ने 108 एम्बुलेंस को फोन किया, जिसमें पुलिसकर्मी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया और वहां उन्होंने दम तोड़ दिया.

उदयपुर रेंज की आईजी बिनीता ठाकुर ने कहा, ‘यह कोई मॉब लिंचिंग का मामला नहीं है. यह घटना गांव में नहीं घटी बल्कि जब गनी जब मेन रोड पर पहुंच गए तब उन पर हमला हुआ. ऐसा लगता है कि उन पर तीन या चार लोगों ने हमला किया.’