भारत

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कहा, साक्षी मिश्रा और अजितेश बालिग, इनकी शादी वैध

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने साक्षी मिश्रा के पिता और बरेली से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा को फटकार लगाई है और पुलिस से कहा है कि वह दंपति को सुरक्षा मुहैया कराए.

भाजपा विधायक पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी और उनके पति अभी.

भाजपा विधायक पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी और उनके पति अजितेश.

लखनऊः उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के बिथरी चैनपुर से भाजपा विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा और उनके पति अजितेश की शादी को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने कानूनी रूप से वैध मानते हुए उन्हें सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है.

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सोमवार को साक्षी की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि दोनों बालिग हैं, इसलिए इनकी शादी कानूनी रूप से वैध है.

वहीं, अदालत में पेशी के दौरान सुनवाई के लिए आए अजितेश के साथ अदालत परिसर में मारपीट भी की गई.

इस पर साक्षी और अजितेश के वकील ने कहा, ‘इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पुलिस को साक्षी और अजितेश की सुरक्षा के निर्देश दिए हैं. अजितेश के साथ मारपीट की गई. अभी यह पता नहीं चला है कि वे कौन लोग थे लेकिन इससे यह तो सिद्ध होता है कि उनकी जान को खतरा है इसलिए वे लोग सुरक्षा मांग रहे हैं.’

गौरतलब है कि दलित युवक के साथ शादी करने के बाद पिता से जान का खतरा बताने वाली बरेली के भाजपा विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल की बेटी साक्षी मिश्रा की अर्जी पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में आज सुनवाई हुई.

साक्षी ने अपनी इस अर्जी में विधायक पिता राजेश मिश्र व परिवार के दूसरे लोगों से ही जान का खतरा बताते हुए अदालत से सुरक्षा मुहैया कराए जाने की अपील की थी.

इस संबंध में साक्षी और अजितेश के दो वीडियो वायरल हुए थे, जिसमें से एक में दोनों ने बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से गुहार लगाई थी कि उन्हें उनके पिता और विधायक राजेश मिश्रा, भाई विक्की और पिता के एक सहयोगी से जान का खतरा है. ऐसे में उन्हें और उनके पति को सुरक्षा दी जाए.

साक्षी ने आरोप लगाया कि ये सभी लोग मिलकर उनकी और उनके पति की हत्या करना चाहते हैं. साक्षी ने बरेली के सांसद, विधायकों और मंत्रियों से अपील की है कि वे उनके पिता, भाई और पिता के सहयोगी की मदद न करें.

इसके अलावा आज इलाहाबाद हाईकोर्ट के बाहर एक अन्य दंपति का अपहरण कर लिया गया. यह दंपति भी जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की गुहार लगाते हुए हाईकोर्ट पहुंचा था, जहां से उनका अपहरण कर लिया गया.

हालांकि, पुलिस ने दंपति को फतेहपुर में अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ा लिया है. अपहरणकर्ताओं को भी पकड़ लिया गया है.