भारत

पाक वायु सीमा बंद होने से एयर इंडिया को 430 करोड़ रुपये का नुकसान: केंद्र

नागर विमानन मंत्री हरदीप पुरी ने संसद में यह जानकारी दी. 26 फरवरी को भारत द्वारा सीमा पार बालाकोट में आतंकवादी शिविरों को नष्ट करने के लिए की गई ‘एयर स्ट्राइक’ के बाद पाकिस्तान ने अपनी वायु सीमा बंद कर दी थी.

(फोटो: रॉयटर्स)

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: सरकार ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान द्वारा अपनी वायुसीमा को भारतीय विमानों की उड़ान के लिए चार माह से अधिक समय तक बंद रखे जाने के दौरान एयर इंडिया को 430 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.

नागर विमानन मंत्री हरदीप पुरी ने प्रश्नकाल के दौरान राज्यसभा में एक पूरक प्रश्न के जवाब में यह बात कही.

उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान द्वारा अपनी वायुसीमा को खोले जाने के बारे में कल किए गये निर्णय से हम प्रसन्न हैं.’ उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश की वायुसीमा बंद होने के कारण एयर इंडिया को करीब 430 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.

भारत द्वारा सीमा पार बालाकोट में आतंकवादी शिविरों को नष्ट करने के लिए की गयी ‘एयर स्ट्राइक’ के बाद पाकिस्तान ने अपनी वायु सीमा को भारतीय विमानों के लिए बंद कर दिया था. वायुसीमा बंद किए जाने के करीब 140 दिनों बाद पाकिस्तान ने मंगलवार को इसे खोले जाने की घोषणा की.

इससे पहले एयर इंडिया को हो रहे घाटे के संबंध में पूछे गए पूरक प्रश्न के जवाब में पुरी ने कहा कि एयरलाइन को होने वाले घाटे के कई कारण होते हैं. इनमें करीब 40 प्रतिशत घाटा विमान ईंधन (एटीएफ) के कारण होता है. साथ ही कुछ भू-राजनीतिक कारण होते हैं जैसे कि पड़ोसी देश पाकिस्तान द्वारा अपनी वायु सीमा को बंद किया जाना.

पुरी ने कहा कि सरकार एयर इंडिया के निजीकरण के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा कि इससे पहले एयरलाइन को परिचालन स्तर पर लाभप्रद बनाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि 2018-19 में एयरलाइन को 7,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था.

नागर विमानन मंत्री ने बताया कि एयर इंडिया में 1677 पायलट हैं. इनमें से 1108 स्थायी पायलट और 569 निश्चित अवधि के अनुबंध वाले पायलट हैं. उन्होंने कहा कि पायलटों की भर्ती एक सतत प्रक्रिया है और एयरलाइन इनकी भर्ती के लिए समय समय पर विज्ञापन निकालती रहती है.

पाकिस्तान ने बालाकोट हवाई हमले के करीब साढ़े चार महीने बाद सोमवार देर रात अपना हवाई क्षेत्र असैन्य उड़ानों के लिए खोल दिया था, जिसके बाद भारत पाकिस्तान के बीच हवाई परिवहन शुरू हो गया है.

पाकिस्तान के नागर विमानन प्राधिकरण ने भारतीय समयानुसार, सोमवार देर रात 12 बजकर 41 मिनट पर एयरमैन (एनओटीएएम) को एक नोटिस जारी कर कहा कि ‘पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र को सभी ज्ञात एटीएस रूट पर सभी असैन्य उड़ानों के लिए तत्काल प्रभाव से खोला जाता है.’

पाकिस्तान के इस कदम के बाद भारत ने भी संशोधित एनओटीएएम जारी करते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच सामान्य हवाई यातायात बहाल हो गया है.

सरकारी सूत्र ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से एनओटीएएम जारी होने के साथ ही हवाई क्षेत्र पर लगे सभी प्रतिबंध समाप्त हो गए हैं, संबंधित प्राधिकार ने भारत को इसकी सूचना दी है. भारत ने भी उसके तुरंत बाद संशोधित एनओटीएएम जारी किया है. इसके साथ ही भारत और पाकिस्तान के बीच सभी ‘फ्लाईट इंफॉर्मेंशन रीजंस’ में परिचालन शुरू हो गया है.

पाकिस्तान ने 26 फरवरी को बालाकोट में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण शिविर पर भारतीय वायुसेना के हमले के बाद से अपने हवाई क्षेत्र को पूरी तरह बंद कर दिया था.

भारत ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले के विरोध में ऐसा किया था. हमले में 40 जवान मारे गए थे. उसके बाद से पाकिस्तान ने हवाई क्षेत्र के ज्ञात 11 रूट में से सिर्फ दो खोले थे, जो देश के दक्षिणी हिस्से से होकर गुजरते थे.

जहां तक बात भारत की है भारतीय वायुसेना ने 31 मई को कहा था कि बालाकोट हवाई हमले के बाद भारतीय हवाई क्षेत्र पर लगे अस्थाई प्रतिबंध को हटा लिया गया है. हालांकि इससे व्यावसायिक उड़ानों को ज्यादा लाभ नहीं हुआ क्योंकि उन्हें पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र के पूरी तरह खुलने का इंतजार था.