भारत

हिरासत में लिए गए सपा सांसद आज़म ख़ान के विधायक पुत्र, सपा का राजभवन के बाहर प्रदर्शन

आज़म ख़ान के बेटे और सपा विधायक अब्दुल्ला आज़म को रामपुर के मुहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय में ज़िला प्रशासन की छापेमारी की कार्रवाई में रुकावट डालने के आरोप में हिरासत में लिया गया. छापेमारी के दौरान विश्वविद्यालय के पुस्तकालय से 2500 से ज़्यादा चोरी की गई दुर्लभ किताबें बरामद हुई हैं.

सपा सांसद आजम खान के साथ उनके बेटे मोहम्मद अब्दुल्लाह आजम खान. (फोटो साभार: फेसबुक)

सपा सांसद आजम खान के साथ उनके बेटे मोहम्मद अब्दुल्लाह आजम खान. (फोटो साभार: फेसबुक)

लखनऊ: सपा सांसद आजम खां के विधायक बेटे मोहम्मद अब्दुल्ला आजम खान को रामपुर में मुहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय में जिला प्रशासन की छापेमारी की कार्रवाई में रुकावट डालने के आरोप में बुधवार को हिरासत में ले लिया गया.

इस घटना के विरोध में सपा विधान परिषद सदस्यों की अगुवाई में पार्टी कार्यकर्ताओं ने राजभवन के द्वार के बाहर नारेबाजी की.

रामपुर के पुलिस अधीक्षक अजयपाल शर्मा ने बताया कि स्वार सीट से सपा विधायक अब्दुल्ला को सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में हिरासत में लिया गया है.

उन्होंने बताया कि जौहर विश्वविद्यालय में छापेमारी की कार्रवाई के दौरान उसके पुस्तकालय से 2500 से ज्यादा चोरी की गई दुर्लभ किताबें बरामद हुई हैं.

पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि जौहर विश्वविद्यालय में कल शुरू हुई छापेमारी की कार्रवाई आज भी जारी है.

इस घटना के विरोध में सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात की कोशिश की. बिना किसी सूचना के मुलाकात की बात करने पर उनकी सुरक्षाकर्मियों से झड़प भी हुई. उसके बाद उन्होंने राजभवन के गेट के बाहर प्रदर्शन शुरू कर दिया.

बाद में सभी प्रदर्शनकारी सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया और बाद में रिहा कर दिया गया.

सपा के विधान परिषद सदस्य आनंद भदौरिया ने कहा कि एक तरफ हमारे विधायक अब्दुल्ला आजम की गिरफ्तारी हो रही है. वहीं, पूरी सरकार उन्नाव के बलात्कारी भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर को बचाने की कोशिश में लगी है.

पार्टी के एक अन्य विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह ने कहा कि सरकार की तरफ से विपक्ष को दबाने का प्रयास हो रहा है. हम सपा के लोग हैं, हम किसी से डरने वाले नहीं हैं. जहां अन्याय होगा, वहां सपा खड़ी नजर आएगी.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जौहर विश्वविद्यालय में प्रशासन द्वारा कार्रवाई एक शिकायत के आधार पर की जा रही है. पूर्व में मदरसा आलिया के नाम से पहचाने जाने वाले ओरिएंटल कॉलेज के प्रधानाचार्य जुबैर खान की शिकायत पर पिछली 16 जून को इस मामले में पड़ताल शुरू की गई थी.

जुबैर ने आरोप लगाया था कि उनके मदरसे से करीब 9000 किताबें चोरी करके उन्हें जौहर विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में रख लिया गया है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक 50 डिब्बों में भरी 2500 दुर्लभ किताबें बरामद की जा चुकी हैं. इन सभी पर मदरसा आलिया की मुहर लगी है.

रामपुर से सपा सांसद आजम खां जौहर विश्वविद्यालय के संस्थापक और चांसलर हैं.

अमर उजाला के अनुसार, अब्दुल्ला आजम यूनिवर्सिटी के सीईओ भी हैं. इसी संबंध में उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

साथ ही अब्दुल्ला आजम पर पहले से ही कई मुकदमे दर्ज हैं, मंगलवार को भी पासपोर्ट के कागजातों में फर्जीवाड़े के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)