भारत

दिल्लीः जेएनयू छात्रा ने कैब ड्राइवर पर लगाया बलात्कार का आरोप

जेएनयू की द्वितीय वर्ष की छात्रा का आरोप है कि उसने दो अगस्त को मंदिर मार्ग थाने से कैब बुक की थी. कैब चालक ने कथित तौर पर उसे कुछ नशीला पदार्थ खिलाया और बलात्कार किया.

Delhi

नई दिल्लीः दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की एक छात्रा के साथ बलात्कार का मामला सामने आया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, जेएनयू की द्वितीय वर्ष की 21 वर्षीय छात्रा का आरोप है कि वह शुक्रवार रात को अपने दोस्त के घर से लौट रही थी. उसने मंदिर मार्ग इलाके से रात लगभग आठ बजे कैब बुक की.

कैब चालक ने उसके साथ बलात्कार किया और उसके बाद लगभग तीन घंटे तक दिल्ली की सड़कों पर घुमाता रहा.

कुछ स्थानीय लोगों को पीड़िता दक्षिण दिल्ली के पास एक पार्क में बेहोशी की हालत में मिली, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. डॉक्टरों ने उसके साथ बलात्कार की पुष्टि की.

अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद पीड़िता अपने होस्टल पहुंची और होस्टल प्रशासन को पूरी घटना के बारे में बताया. इसके बाद उसे पुलिस स्टेशन ले जाया गया और मामला दर्ज किया गया.

अपनी शिकायत में छात्रा ने कहा कि कैब ड्राइवर ने कथित तौर पर उसे खाने के लिए कुछ दिया, जिसके बाद वह बेहोश हो गई, जिसके बाद ड्राइवर ने उसके साथ कैब में ही बलात्कार किया.

पुलिस जानकारी के आधार पर कैब का पता लगाने की कोशिश कर रही है. छात्रा पश्चिमी उत्तर प्रदेश की हैं और जेएनयू में फॉरेन लैंग्वेज की पढ़ाई कर रही हैं.

इस मामले में दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने पुलिस को नोटिस जारी कर जांच की विस्तृत जानकारी मांगी है.

डीसीडब्ल्यू ने कहा कि मीडिया की खबरों के अनुसार 21 वर्षीय छात्रा शुक्रवार को अपनी दोस्त के घर से लौट रही थी जब कैब चालक ने रास्ते में कथित तौर पर उसे कुछ नशीला पदार्थ खिला उससे बलात्कार किया.

डीसीडब्ल्यू ने कहा कि खबरों में दावा किया गया कि महिला ने पुलिस को बताया कि उसन मंदिर मार्ग से कैब ली थी और कैब ड्राइवरबलात्कार करने के बाद करीब तीन घंटे तक गाड़ी इधर-उधर घुमाता रहा.

पैनल ने कहा, ‘यह स्तब्ध करने वाली घटना है कि दिल्ली की सड़कों पर गश्ती दलों की कमी के कारण एक युवती के साथ बलात्कार हुआ.’

पैनल ने मामले में कितने लोगों की गिरफ्तारी की गई, प्राथमिकी की प्रति, मामले में की गई पीसीआर कॉल के संबंध में जानकारी और पुलिस के मौके पर पहुंचने में लगे समय सहित स्थिति रिपोर्ट मांगी है.

पैनल ने नौ अगस्त सभी सूचनाएं मुहैया कराने को कहा है.