भारत

जयराम रमेश के बाद सिंघवी भी बोले, मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, मैंने हमेशा कहा है कि मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत है. सिर्फ इसलिए नहीं कि वह देश के प्रधानमंत्री हैं, बल्कि ऐसा करके एक तरह से विपक्ष उनकी मदद करता है.

abhishek manu singhvi

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी.

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने अपने सहयोगी जयराम रमेश का समर्थन करते हुए शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत है और ऐसा करके विपक्ष एक तरह से उनकी मदद करता है.

सिंघवी ने रमेश के बयान का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘मैंने हमेशा कहा है कि मोदी को खलनायक की तरह पेश करना गलत है. सिर्फ इसलिए नहीं कि वह देश के प्रधानमंत्री हैं, बल्कि ऐसा करके एक तरह से विपक्ष उनकी मदद करता है.’

उन्होंने कहा, ‘काम हमेशा अच्छा, बुरा या मामूली होता है. काम का मूल्यांकन व्यक्ति नहीं बल्कि मुद्दों के आधार पर होना चाहिए. जैसे उज्ज्वला योजना कुछ अच्छे कामों में एक है.’

दरअसल, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने बीते बुधवार को कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन का मॉडल ‘पूरी तरह नकारात्मक गाथा’ नहीं है और उनके काम के महत्व को स्वीकार नहीं करके और हर समय उन्हें खलनायक की तरह पेश करके कुछ हासिल नहीं होने वाला है.

जयराम रमेश ने कपिल सतीश कोमिरेड्डी द्वारा लिखी गई ‘मेलवोलेंट रिपब्लिक: अ शॉर्ट हिस्ट्री ऑफ द न्यू इंडिया’ किताब के विमोचन के मौके पर कहा कि यह वक्त है, जब हम मोदी के काम और 2014 से 2019 के बीच उन्होंने जो किया उसके महत्व को समझे, जिसके कारण वह सत्ता में लौटे. इसी की वजह से 30 प्रतिशत मतदाताओं ने उनकी सत्ता वापसी करवाई.

उन्होंने कहा, ‘वे (मोदी) ऐसी भाषा में बात करते हैं जो कि उन्हें आम जनता से जोड़ता है. अगर आप हमेशा उन्हें खलनायक की तरह पेश करेंगे, तो आप उनसे मुकाबला नहीं कर सकते हैं.’

कर्नाटक से राज्यसभा सांसद जयराम रमेश ने कहा, ‘2019 में, हम सभी ने उनके एक या दो कार्यक्रमों का मजाक बनाया. लेकिन सभी चुनावी अध्ययनों में ये बात निकलकर सामने आई है कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना एक ऐसा कार्यक्रम है जिसने उन्हें करोड़ों महिलाओं के साथ जोड़ दिया.’

उन्होंने आगे कहा, ‘अब अगर हम इस योजना की आलोचना करते हैं और कहते हैं कि ये आंकड़े फर्जी हैं, तो हम इस व्यक्ति का सामना नहीं कर पाएंगे.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)