भारत

नोएडा में युवक की पीट-पीटकर हत्या, गुस्साए परिजनों ने विरोध प्रदर्शन किया

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के रहने वाले दीपक का बीते 18 अगस्त की रात को शराब पीने के दौरान कुछ लोगों से विवाद हो गया था. इन लोगों ने दीपक की बेरहमी से पिटाई कर दी, जिसके बाद अस्पताल में उनकी मौत हो गई.

Noida

नोएडाः उत्तर प्रदेश के नोएडा के कस्बे जेवर में रहने वाले एक युवक की चार लोगों ने कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी. इस घटना से आक्रोशित युवक के परिजनों ने बीते गुरुवार की रात को जेवर में जाम लगाकर जमकर तोड़फोड़ की.

एसपी (ग्रामीण) रणविजय सिंह ने बताया कि मूल रूप से जिला अलीगढ़ के रहने वाले दीपक कस्बा जेवर में रहकर अपना व्यवसाय करते थे.

बीते 18 अगस्त की रात को शराब पीने के दौरान उनका सतीश, मुनेंद्र, कुलदीप और रविंदर से विवाद हो गया. इन लोगों ने दीपक की जमकर पिटाई की, जिसकी वजह से उनके सिर में गंभीर चोट आई.

उन्होंने बताया कि गंभीर हालत में उन्हें दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान शुक्रवार तड़के उनकी मौत हो गई.

उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम कराने के बाद मृतक के परिजन शव को लेकर अलीगढ़ जा रहे थे. जैसे ही वे लोग कस्बा जेवर पहुंचे, मृतक के परिजनों और परिचितों ने पीड़ित के शव को जेवर चौराहे पर रखकर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया.

एसपी ने बताया कि घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को समझाने का प्रयास किया, तो वे उग्र हो गए और उन्होंने पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की. पुलिस वैन पर पथराव किया गया, जिससे वैन का शीशा टूट गया.

एसपी ने बताया कि मृतक के परिजनों ने आरोपियों सतीश, मुनेंद्र, कुलदीप और रविंदर को नामित करते हुए हत्या का मामला दर्ज कराया है.

उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी सतीश और मुनेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस पर पथराव करने और जाम लगाने के मामले में 15 लोगों को नामित करते हुए 150 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक, मृतक दीपक के भाई कृष्णपाल ने दो दिन पहले पुलिस को शिकायत कर बताया था कि दीपक के चार दोस्तों ने घर से बुलाकर उस पर जानलेवा हमला किया था.

लोगों ने पुलिस पर आरोपियों से सांठगांठ करने का आरोप लगाया. नाराज लोगों ने आरोपियों को जेल भेजने की मांग की. हंगामे की सूचना पर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया और पीसीआर वाहनों के शीशे तोड़ दिए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)