भारत

यूएस ओपन: रोजर फेडरर को कड़ी टक्कर देकर हारे भारत के सुमित नागल

हरियाणा के झज्जर से आने वाले सुमित नागल ने यूएस ओपन के अपने पहले मैच में बेहतरीन शुरुआत करते हुए दिग्गज रोजर फेडरर से पहला सेट जीता लेकिन आखिर में उन्हें हारकर बाहर होना पड़ा.

सुमित नागल, (फोटो: रॉयटर्स)

सुमित नागल, (फोटो: रॉयटर्स)

न्यूयार्क: सुमित नागल ने जज्बा और जुझारूपन दिखाकर ग्रैंडस्लैम में अपने पदार्पण की बेहतरीन शुरुआत करते हुए दिग्गज रोजर फेडरर से पहला सेट जीता लेकिन आखिर में उन्हें यूएस ओपन के पहले दौर के इस मैच में हारकर बाहर होना पड़ा.

भारत में बहुचर्चित इस मैच में झज्जर के 22 वर्षीय नागल ने सोमवार की रात को अपनी प्रतिभा की झलक दिखाने के बाद आर्थर ऐस स्टेडियम में खेला गया यह मुकाबला 4-6, 6-1, 6-2, 6-4 से गंवाया.

नागल पिछले 20 वर्षों में ग्रैंडस्लैम के पुरूष एकल मुख्य ड्रा में एक सेट जीतने वाले केवल चौथे भारतीय हैं. इसकी विशेषता यह रही कि यह सेट उन्होंने फेडरर के खिलाफ जीता, जिनके नाम पर 20 ग्रैंडस्लैम खिताब दर्ज हैं.

पिछले दो दशक में नागल से पहले ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में केवल सोमदेव देवबर्मन, युकी भांबरी और साकेत मयनेनी ही एक सेट जीतने में कामयाब रहे थे.

क्वालीफाईंग के जरिये यूएस ओपन के मुख्य ड्रा में जगह बनाने वाले नागल को न सिर्फ 58,000 डालर की धनराशि मिलेगी, बल्कि उन्हें इस मैच से जो अनुभव मिला वह आगे भी उनके काम आएगा.

झज्जर में जन्में 23 वर्षीय नागल ने क्वालीफाईंग राउंड में तीन मैच जीतकर मुख्य ड्रा में जगह बनायी थी.

फेडरर ने कहा, ‘यह मेरे लिये मुश्किल सेट था. उसने बहुत अच्छा खेल दिखाया और उसे श्रेय जाता है. मैं कई गेंद को खेलने से चूक गया और मैं गलतियों में कमी करने पर ध्यान दे रहा था. उम्मीद है कि आगे मैं बेहतर प्रदर्शन करूंगा.’

फेडरर से पूछा गया कि क्या एकबारगी उन्हें लगा कि वह नागल नहीं बल्कि नडाल के खिलाफ खेल रहे हैं क्योंकि दोनों के नाम के हिज्जों में केवल ‘डी’ और ‘जी’ का अंतर है. इस पर स्विस दिग्गज ने कहा, ‘नहीं. यह आप लोगों और सोशल मीडिया के लिये है. मैं जंग खा गया था.’

मैच में फेडरर की शुरुआत अच्छी नहीं रही लेकिन नागल के लिये तो यह शानदार आगाज था. इस भारतीय ने पहला सेट जीतकर दर्शकों को हैरान कर दिया. उन्होंने तीसरे गेम में फेडरर के डबल फाल्ट का फायदा उठाकर ब्रेक प्वाइंट लिया.

फेडरर जब एटीपी रैंकिंग में 190वें नंबर के खिलाड़ी को समझने की कोशिश कर रहे थे तब नागल ने अपने रिटर्न और फोरहैंड से सभी का ध्यान अपनी तरफ खींचा. अभी फेडरर और दर्शक कुछ समझ पाते कि नागल ने दूसरी बार उनकी सर्विस तोड़ दी. इसके बाद उन्होंने 0-30 से पिछड़ने के बाद अपनी सर्विस बचायी.

नागल ने अपने करारे शॉट से फेडरर को नेट पर आने का मौका नहीं दिया. इस बीच फेडरर अपनी गलतियों पर काबू पाने के लिये संघर्ष कर रहे थे. फेडरर ने पहले सेट में 19 सहज गलतियां की जबकि नागल ने इस बीच केवल नौ ऐसी गलतियां की.

इसके बाद उम्मीदें बढ़ गयी लेकिन फेडरर ने खुद को संभाला और फिर नागल को अपना असली खेल दिखाया. उन्होंने पहले से बेहतर सर्विस करनी शुरू की और नेट पर आकर अंक बनाने शुरू कर दिये.

दूसरे सेट में जल्द ही वह 5-0 से आगे हो गये और सातवें गेम में उन्होंने यह सेट जीतकर स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया. इस बीच नागल ने छह सेट प्वाइंट बचाये और दो बार उनके पास ब्रेक प्वाइंट का मौका भी आया.

नागल अब भी चुनौती दे रहे थे लेकिन फेडरर अपने रंग में लौट आये थे. तीसरे और चौथे सेट में भी कहानी वैसे ही आगे बढ़ी. नागल ने कुछ अंक जुटाये लेकिन मुकाबला अब एकतरफा दिखने लगा था.

बीस बार के ग्रैंडस्लैम चैंपियन ने मैच के लिये सर्विस की तो नागल ने कुछ अच्छे रिटर्न से 0-40 का स्कोर कर दिया. फेडरर ने पांच ब्रेकप्वाइंट बचाकर आखिर में मैच अपने नाम किया. यह मैच दो घंटे 25 मिनट तक चला.

नागल हालांकि दर्शकों का दिल जीतने में सफल रहे. वह कुछ आटोग्राफ देकर और तालियों के बीच आर्थर ऐस स्टेडियम से बाहर गये.