राजनीति

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से धन ले रहे हैं भाजपा और बजरंग दल: दिग्विजय सिंह

विपक्षी दलों के विरोध के बाद मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि बजरंग दल व भाजपा के आईटी सेल के पदाधिकारी द्वारा आईएसआई से पैसे लेकर पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए मध्य प्रदेश पुलिस ने पकड़ा है. मैंने यह आरोप लगाया है, जिस पर मैं आज भी क़ायम हूं.

(फोटो: पीटीआई)

(फोटो: पीटीआई)

भिंड (मध्य प्रदेश): कांग्रेस के दिग्गज नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी और बजरंग दल पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से धन ले रहे हैं. इसके अलावा, उन्होंने कहा कि आईएसआई के लिए मुसलमानों से ज्यादा गैर-मुसलमान जासूसी कर रहे हैं.

दिग्विजय ने मध्य प्रदेश के भिंड में शनिवार शाम को संवाददाताओं से कहा, ‘बजरंग दल और भाजपा आईएसआई (पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी) से पैसा ले रहे हैं. इन पर थोड़ा ध्यान दीजिए.’

उन्होंने आगे कहा, ‘एक बात और बताऊं, पाकिस्तान से आईएसआई के लिए जासूसी मुसलमान कम कर रहे हैं, गैर-मुसलमान ज्यादा कर रहे हैं. इस बात को भी समझ लीजिए.’

उनके इस विवादित बयान के बाद विपक्षी दलों द्वारा उनकी खिंचाई करने पर दिग्विजय ने ट्विटर पर रविवार को लिखा, ‘कुछ चैनल चला रहे हैं कि मैंने भाजपा पर यह आरोप लगाया है कि वे आईएसआई से पैसा ले कर पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हैं. यह पूरी तरह से ग़लत है.’

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘बजरंग दल व भाजपा के आईटी सेल के पदाधिकारी द्वारा आईएसआई से पैसे लेकर पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए मध्यप्रदेश पुलिस ने पकड़ा है. मैंने यह आरोप लगाया है, जिस पर मैं आज भी क़ायम हूं. चैनल वाले यह सवाल भाजपा से क्यों नहीं पूछते.’

वहीं, भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय पर पाकिस्तान की भाषा बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि खबरों में बने रहने के लिए वह ऐसे बयान देते हैं.

चौहान ने आज ट्विटर पर लिखा, ‘दिग्विजय सिंह जानबूझकर ऐसी बयानबाज़ी करते हैं. वह और उनके नेता पाकिस्तान की भाषा बोलते हैं. उनकी विश्वसनीयता बची नहीं है. मैं उनके बयान को इसलिए गंभीरता से नहीं लेता, क्योंकि सारा देश संघ और भाजपा की देशभक्ति को जानता है, हमें दिग्विजय जी के प्रमाण की ज़रूरत नहीं है.

उन्होंने लिखा है, ‘दिग्विजय सिंह, ओसामा जी और हाफीज़ जी कहने वाले नेता हैं. वह विवादित बयान इसलिए देते हैं, ताकि सुर्खियों में बने रहें. वे और उनके नेता जो पाकिस्तान चाहता है, वो बोलते हैं. ऐसे नेता को ना मैं गंभीरता से लेता हूं और नाहीं देश लेता है.’

चौहान ने कहा, ‘दिग्विजय सिंह की खुद की मानसिकता पाकिस्तान के साथ खड़े रहने की है. उनके नेता राहुल जी ने भी धारा 370 के मामले में ऐसा बयान दिया कि जिसका उपयोग पाकिस्तान ने किया. ऐसे नेता की बात का क्या जवाब देना, देश सच जानता है.’