भारत

मुंबई मेट्रो के पक्ष में ट्वीट करने पर अमिताभ बच्चन के घर के बाहर प्रदर्शन

मुंबई मेट्रो परियोजना के तहत कार शेड बनाने के लिए बृहन्मुंबई नगर निगम ट्री अथॉरिटी ने आरे कॉलोनी में 2600 से ज़्यादा पेड़ों को काटने का आदेश दिया है. पर्यावरणविद् और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशासन के इस क़दम का विरोध कर रहे हैं.

New Delhi: Bollywood actor Amitabh Bachchan during an event in New Delhi, Friday, Sept 28, 2018. (PTI Photo/Ravi Choudhary) (PTI9_28_2018_000124B)

फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन (फोटो: पीटीआई)

मुंबई: मेट्रो रेल परियोजना की तारीफ कर फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन विवादों में घिर गए हैं. इसके विरोध में लोगों ने गुरुवार को उनके घर के बाहर प्रदर्शन किया.

दरअसल मेट्रो रेल परियोजना के तहत कार शेड बनाए जाने के लिए मुंबई के हरित क्षेत्र आरे कॉलोनी में 2600 से अधिक पेड़ काटे जाने का निर्णय प्रशासन ने लिया है. प्रशासन के इस कदम का वहां के लोग, पर्यावरणविद् और सामाजिक कार्यकर्ता विरोध कर रहे हैं. इसे लेकर कई बार विरोध प्रदर्शन भी हो चुके हैं.

ऐसे में अभिताभ बच्चन द्वारा मेट्रो परियोजना की तारीफ करते हुए ट्वीट किए जाने से लोग नाराज हो गए. उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या अमिताभ बच्चन अप्रत्यक्ष तौर पर आरे कॉलोनी में कार शेड बनाए जाने का समर्थन कर रहे हैं.

गुरुवार को मेट्रो कार शेड के लिए आरे कॉलोनी में पेड़ काटे जाने के प्रस्ताव का विरोध कर रहे कई कार्यकर्ताओं ने मुंबई के जुहू स्थित बच्चन के आवास ‘जलसा’ के बाहर बुधवार को प्रदर्शन किया. प्रदर्शन के दौरान इन लोगों ने ‘आरे को बचाओ’ और ‘बगीचों से जंगल नहीं बनते’ के बैनर और पोस्टर पकड़ रखे थे.

अभिताभ बच्चन ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा था, ‘मेरे एक मित्र को आपात चिकित्सकीय मदद की आवश्यकता थी, उन्होंने अपनी कार के बजाय मेट्रो से जाने का फैसला किया… वह बहुत प्रभावित होकर लौटे… उन्होंने कहा कि यह (मेट्रो) अधिक तेज, सुविधानजनक और सबसे दक्ष है… प्रदूषण के लिए समाधान… और पेड़ लगाएं… मैंने अपने बगीचे में पेड़ लगाए थे… क्या आपने लगाए?’

मुंबई मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (एमएमआरडीए) के प्रबंध निदेशक अश्विनी भिड़े ने मेट्रो परियोजना की प्रशंसा करने के लिए बच्चन की सराहना की.

भिड़े ने ट्वीट किया, ‘बच्चन साहब, मेट्रो की महत्ता संक्षिप्त में बताने के लिए धन्यवाद. आपके समर्थन के लिए शुक्रिया. हम तेज, सुरक्षित एवं सुविधाजनक यात्रा के लिए पूरे मुंबई मेट्रो नेटवर्क को चालू करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं.’

हालांकि पेड़ गिराने को लेकर नगर निकाय की मंजूरी के खिलाफ बॉम्बे उच्च न्यायालय में याचिका दायर करने वाले पर्यावरण कार्यकर्ता जोरू भथेना ने कहा, ‘प्रिय एमएमआरडीए अधिकारी, मैंने सुना है कि आप अपनी विभिन्न मेट्रो परियोजनाओं के लिए कास्टिंग यार्ड के निर्माण के लिए भूखंड देख रहे हैं. क्या बच्चन जी का बगीचा पर्याप्त होगा? मुझे लगता है कि आपको अपनी जरूरतों के लिए उपयुक्त क्षेत्र मिल जाएगा… और मुझे भरोसा है कि उन्हें भी ऐसा करने में खुशी होगी.’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट किया, ‘प्रिय बच्चन जी, क्या आप अप्रत्यक्ष तौर पर आरे में मेट्रो डिपो बनाए जाने का समर्थन कर रहे हैं? डिपो (मेट्रो पार्किंग) कहीं और भी बनाया जाए तो भी मेट्रो मुंबई को फायदा पहुंचाएगी.’

उन्होंने कहा, ‘मैं आपसे अपने बगीचे की रक्षा करना छोड़कर आपका इंतजार कर रहे हमारे दोस्तों के साथ जुड़ने का अनुरोध करता हूं. श्रीमान, आइए आपको आरे ले चलें, जिससे आपका नजरिया बदल जाएगा. आरे इंतजार कर रहा है?’

नवभारत टाइम्स के मुताबिक जुहू निवासी रीगन क्रीडो ने बताया कि यहां प्रदर्शन करने की कोई योजना नहीं थी. क्रीडो ने कहा, ‘हम यह संदेश देना चाहते हैं कि एक बगीचा एक जंगल की जगह नहीं ले सकता.’

कार्यकर्ता जोरू भथेना ने कहा है, ‘बच्चन जी मेट्रो को प्रमोट कर रहे हैं. हम भी उसके समर्थन में हैं लेकिन पेड़ों और बगीचों के बारे में बात करके उन्होंने आरे के मुद्दे को छोटा कर दिया है. मैं उनसे आग्रह करता हूं कि वह आरे के ग्रीन कवर और अपने बगीचे में अंतर समझने के लिए आरे जाएं.’

अमिताभ बच्चन के घर के बाहर प्रदर्शन करते लोग. (फोटो साभार: ट्विटर)

अमिताभ बच्चन के घर के बाहर प्रदर्शन करते लोग. (फोटो साभार: ट्विटर)

बच्चन के ट्वीट पर फिल्ममेकर अशोक पंडित ने अमिताभ बच्चन को टैग करते हुए पूछा, ‘अमिताभ बच्चन सर, हम आरे जंगल को बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. मैं आपसे ये जानना चाहता हूं कि क्या आप आरे जंगल में मेट्रो निर्माण के पक्ष में हैं. क्यों हम 2700 पेड़ काटें जब हमारे पास दूसरे विकल्प हैं.’

बता दें कि आरे कॉलोनी मुंबई महानगर का बड़ा हरित क्षेत्र है. हाल ही में बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ट्री अथॉरिटी ने मुंबई मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड को मेट्रो-3 कॉरिडोर के लिए प्रस्तावित कार शेड के निर्माण के लिए आरे कॉलोनी में 2,646 पेड़ों को काटने की अंतिम अनुमति दे दी.

भाजपा की सहयोगी शिवसेना भी इस परियोजना के लिए पेड़ काटने का विरोध कर रही है. युवा सेना प्रमुख आदित्य ठाकरे इलाके में पेड़ गिराने के प्रस्ताव के खिलाफ काफी मुखर रहे हैं.

पर्यावरणविद् और कार्यकर्ता मेट्रो कार शेड परियोजना का विरोध कर इसे कहीं और बनाए जाने की मांग कर रहे हैं. बॉलीवुड की कई हस्तियों और नेताओं ने भी इन कार्यकर्ताओं को अपना समर्थन दिया है.

(समाचार एजेंसी भाषा के इनपुट के साथ)