भारत

उत्तर प्रदेशः आज़मगढ़ में छात्रा से सामूहिक बलात्कार, प्रिंसिपल ने पीड़िता का स्कूल से नाम काटा

बीते 19 सितंबर को स्कूल जा रही छात्रा को एसयूवी सवार दो लोगों ने अगवा कर उसका सामूहिक बलात्कार किया. इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

Azamgarh

आज़मगढ़: उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में एक स्कूली छात्रा से सामूहिक बलात्कार का मामला सामने आया है. स्कूल जा रही छात्रा को अगवा कर उसके साथ बलात्कार किया गया. इस घटना के बाद स्कूल की प्रिंसिपल ने पीड़िता का नाम स्कूल से काट दिया.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, आज़मगढ़ जिला मजिस्ट्रेट ने स्कूल के इस फैसले की जांच के आदेश दिए हैं. पुलिस ने बलात्कार मामले में सोमवार को दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

छात्रा को एसयूवी सवार दो लोगों ने गुरुवार को उस वक्त अगवा कर लिया, जब वह स्कूल जा रही थी. परिवार ने घटना के तीन दिन बाद एफआईआर दर्ज कराई.

स्कूल की प्रिंसिपल ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने छात्रा को मामला सुलझने तक कुछ दिन घर पर ही रहने को कहा था.

प्रिंसिपल का कहना है कि उनके स्कूल को राज्य सरकार की ओर से मान्यता नहीं मिली हुई है. यह एक तरह का निजी कोचिंग सेंटर हैं, जिसमें सुविधाओं का अभाव है.

इस मामले की जांच के बारे में पूछने पर एसडीएम प्रियंका ने कहा कि प्रिंसिपल ने किसी भी छात्र को स्कूल आने से रोकने की खबरों से इनकार किया है लेकिन वह अटेंडेंस रजिस्टर नहीं दिखा पाईं.

एसडीएम ने कहा, ‘मैं मंगलवार को स्कूल का दौरा करूंगी. हमने अटेंडेंस रजिस्टर और सभी संबंधित दस्तावेज दिखाने के लिए प्रिंसिपल को अल्टीमेटम दिया है. प्रिंसिपल का यह कहना कि यह सिर्फ कोचिंग सेंटर है, स्कूल नहीं है. इसकी भी जांच की जा रही है.’

स्थानीय ग्रामीणों ने बताया, ‘छात्रा गुरुवार सुबह स्कूल जा रही थी कि तभी एसयूवी सवार दो युवकों ने उसे अगवा कर लिया. उनके साथ बलात्कार किया गया और एक सुनसान जगह पर छोड़ कर आरोपी फरार हो गए. वह (छात्रा) किसी तरह देशी शराब की दुकान तक पहुंची और मदद की गुहार लगाई.’

ग्रामीणों ने कहा कि छात्रा के कपड़े खून से सने हुए थे और उसे स्कूल ले जाया गया, जहां पुलिस को सूचना देने के बजाए प्रिंसिपल ने उसके परिजनों को बुलाया और कहा कि वह छात्रा का नाम स्कूल से काट रहे हैं.

आज़मगढ़ के एसपी त्रिवेणी सिंह ने कहा कि छात्रा के पिता की शिकायत पर रविवार को दो लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई और आरोपियों को अगले दिन गिरफ्तार कर लिया गया.

एसएचओ शेर सिंह तोमर ने कहा, ‘आईपीसी की धारा 376डी, 504 और पॉक्सो की संबंधित धाराओं के तहत सिकंदर और ऋषि कपूर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई.’

तोमर ने कहा कि एसयूवी भी जब्त कर ली गई है और छात्रा को सोमवार को मेडिकल जांच के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया.

आज़मगढ़ के डीएम नागेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि किसी भी स्कूल को इस तरह के आधारों पर छात्र या छात्रा को निकालने का अधिकार नहीं है. उन्होंने मामले की जांच के आदेश दिए हैं.