भारत

दिल्ली: किरायेदारों को भी मिलेगी बिजली सब्सिडी, लगेंगे प्रीपेड मीटर

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली की सस्ती बिजली दरों का लाभ किरायेदारों को नहीं मिल रहा था, लेकिन अब वे 3,000 रुपये की सुरक्षा राशि जमा करके प्रीपेड मीटर लगवा सकेंगे और इसके लिए मकान मालिक से किसी तरीके की एनओसी लेने की ज़रूरत नहीं होगी.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल. (फोटो साभार: ट्विटर/आम आदमी पार्टी)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल. (फोटो साभार: ट्विटर/आम आदमी पार्टी)

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने बुधवार को दिल्ली में किरायेदार के तौर पर रहने वाले लोगों के लिए नई योजना की घोषणा की, जिसके तहत किरायेदार भी बिजली सब्सिडी का लाभ ले सकते हैं.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ‘मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना’ की घोषणा करते हुए कहा कि अभी तक किरायेदारों को दिल्ली सरकार की बिजली सब्सिडी योजना का लाभ नहीं मिलता था, जिसके तहत 200 यूनिट तक बिजली खर्च करने पर कोई शुल्क नहीं देना पड़ता है.

केजरीवाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘दिल्ली में किरायेदारों की ये एक पुरानी मांग है. किरायेदार 3,000 रुपये की सुरक्षा राशि जमा करके प्रीपेड मीटर लगवा सकेंगे. नई योजना के तहत किरायेदारों को यह सुविधा हासिल करने के लिए किरायानामा या किरायेदारी की रसीद और वे जहां रह रहे हैं, वहां का निवास प्रमाण-पत्र जमा करना होगा.’

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा, ‘आज दिल्ली में सबसे सस्ती और 24 घंटे बिजली मिल रही, लेकिन यहां रह रहे किरायेदारों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है. कई जगह किरायेदारों को मकान मालिकों को बिजली की महंगी दरें चुकानी पड़ रही हैं. अभी तक कानून में था कि किरायेदार को मीटर लेने के लिए मकान मालिक से अनुमति लेनी होती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.’

इस योजना का लाभ लेने के लिए  किराएदार को अपने नाम पर बिजली मीटर लगवाने के लिए दो दस्तावेज- किराये की रसीद और उस पते का प्रूफ देना होगा. इसके लिए उसे मकान मालिक से किसी तरीके की एनओसी लेने की जरूरत नहीं होगी.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने यह भी बताया कि इस योजना के तहत किरायेदार 19122, 19123, 19124 इन तीन नंबरों पर फोन करके बिजली कंपनियों से प्रीपेड मीटर मंगवा सकते हैं. दिल्ली सरकार और बिजली कंपनियां इन प्रीपेड मीटर की होम डिलीवरी करेंगी.

इस सुविधा के लिए फीस भी देनी होगी, जिसमें 3,000 रुपये सिक्योरिटी और 3,000 रुपये लाइन का खर्च शामिल है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)