मीडिया

अर्णब और रिपब्लिक टीवी के ख़िलाफ़ शशि थरूर ने ठोंका मानहानि का मुक़दमा

दिल्ली हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर से जुड़ी ख़बर के प्रसारण के दौरान मानहानि करने वाली टिप्पणियां की गईं. दो करोड़ रुपये की मानहानि का दावा.

Arnab-Goswami 1

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने शनिवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में अर्णब गोस्वामी और हाल ही में शुरू हुए उनके न्यूज़ चैनल रिपब्लिक टीवी के ख़िलाफ़ मानहानि का मुक़दमा दायर किया.

थरूर ने अपनी याचिका में आरोप लगाया है कि उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत से जुड़ी ख़बर के प्रसारण के दौरान उनके ख़िलाफ़ मानहानिकारक टिप्पणियां की गईं. इसके लिए थरूर ने दो करोड़ रूपए के मुआवज़े की मांग की है.

तिरुवनंतपुरम से सांसद थरूर ने उच्च न्यायालय से यह अनुरोध भी किया कि जब तक दिल्ली पुलिस की जांच पूरी नहीं हो जाए, चैनल पर उनकी पत्नी की मौत से संंबंधित किसी शो का प्रसारण नहीं हो.

कांग्रेस नेता ने अपनी याचिका में अर्णब गोस्वामी के अलावा टीवी चैनल की मालिकाना हक़ वाली कंपनी आर्ग आउटलियर मीडिया एशियानेट न्यूज प्रा. लि. को भी पक्षकार बनाया है. उन्होंने आठ से 13 मई के बीच ख़बरों के प्रसारण का ज़िक्र किया, जब टीवी चैनल ने उनकी पत्नी की मौत से संबंधित मामले में खुलासा करने का दावा किया था.

वकील मुहम्मद अली खान और गौरव गुप्ता के ज़रिये दाख़िल याचिका में ख़बर की निंदा की गई और दावा किया गया कि रिकॉर्डिंग को सनसनीख़ेज़ तरीक़े से जारी किया गया और उनके सार्वजनिक जीवन तथा उनकी छवि को नुकसान पहुंचाकर विवाद खड़ा किया गया.

याचिका में कहा गया है कि कथित पर्दाफ़ाश का मक़सद दर्शकों में यह विश्वास पैदा करना था कि पीडि़त की हत्या या तो वादी (शशि थरूर) ने की या उनके इशारे पर हत्या की गई. इसमें कहा गया है कि इस प्रकार के प्रसारण से पीड़ित की मौत के मामले में चल रही जांच पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है.

इसके जवाब में गोस्वामी ने आरोप लगाया कि थरूर उनके चैनल को सुनंदा पुष्कर मामले में सच पता लगाने से रोकना चाहते हैं. उन्होंने मुबंई में कहा, मेरा जवाब यह है कि यह बड़ी चिंता की बात है कि थरूर एक टीवी चैनल को इस सच का पता लगाने से रोकना चाहते हैं कि उनकी पत्नी की हत्या किसने की.