भारत

उत्तर प्रदेशः मऊ में सिलेंडर फटने के बाद दो मंजिला इमारत ढही, 12 की मौत

सिलेंडर फटने से हुई इस घटना में 16 लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कई और लोगों के भी मलबे में फंसे होने की आशंका है.

Mau-Uttar-Pradesh-ANI

उत्तर प्रदेश के मऊ में सिलेंडर विस्फोट के बाद ढही इमारत (फोटोः एएनआई)

लखनऊः उत्तर प्रदेश के मऊ जिले में सोमवार सुबह हुए सिलेंडर विस्फोट में दो मंजिला इमारत ढहने से 12 लोगों की मौत हो गई जबकि 16 घायल हो गए.

स्थानीय प्रशासन का कहना है कि कई लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है. मलबे में पांच साल का बच्चा भी दबा हुआ है.

आजमगढ़ के डीआईजी मनोज तिवारी ने कहा, ‘एक बच्चा लापता है और हम उसका पता लगाने के लिए बचाव अभियान चला रहे हैं. बचाव अभियान में सहयोग के लिए एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंचने वाली है. पुलिस की कई टीमें यहां हैं और बचाव अभियान में लगी हुई हैं.’

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि अभी तक जिला अधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार, विस्फोट में कम से कम 10 लोगों की जान चली गई.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मऊ जिले में सिलेंडर फटने से लोगों की जान जाने पर गहरा शोक जताया है.

उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को घायलों के उपचार की समुचित व्यवस्था करने और पीड़ितों को हरसंभव मदद और राहत प्रदान करने के निर्देश दिए हैं.

मऊ के जिला अधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी के अनुसार, खाना पकाते समय हुए इस विस्फोट में करीब 15 लोग घायल हुए हैं जिनका इलाज चल रहा है.

विस्फोट इतना भीषण था कि आसपास के मकानों को भी नुकसान पहुंचा है. राहत और बचाव कार्य जारी है.

सरकारी विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मऊ के वालिदपुर में घर में हुए विस्फोट का संज्ञान लिया, जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई थी. उन्होंने मृतकों के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की और घायलों को तुरंत हरसंभव मदद मुहैया कराने के लिए डीएम, एसपी और सभी अधिकारियों को निर्देश दिए.

द ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, बचाव अभियान में फायर ब्रिगेड और स्थानीय पुलिस लगी हुई है लेकिन साथ में मदद के लिए एनडीआरएफ की एक टीम को भी बुलाया गया है.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, विस्फोट के बाद कुछ ही पल में इमारत ताश के पत्तों की तरह ढेर हो गई. मलबे में दबे लोगों को निकालने के लिए जेसीबी मशीनें मलबा हटाने में लगी हुई हैं.

डीएम त्रिपाणी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य इस बचाव अभियान का निरीक्षण कर रहे हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)