भारत

हरियाणा विधानसभा चुनाव में खट्टर सरकार के आठ मंत्रियों की हार

राजनीति के अखाड़े में भाजपा उम्मीदवार पहलवान बबीता फोगाट और योगेश्वर दत्त चित्त. टिक टॉक स्टार और भाजपा उम्मीदवार सोनाली फोगाट की आदमपुर सीट से हार. पंजाब की चार विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने तीन और विपक्षी शिरोमणि अकाली दल ने एक सीट पर जीत दर्ज की.

Chandigarh: BJP Working President JP Nadda and Haryana Chief Minister Manohar Lal addresss the media at the release of the party's election manifesto for Assembly polls in Chandigarh, Sunday, Oct. 13, 2019. (PTI Photo) (PTI10_13_2019_000072B)

मनोहर लाल खट्टर. (फोटो: पीटीआई)

चंडीगढ़: हरियाणा विधानसभा के चुनावी दंगल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के आठ मंत्री भी चारों खाने चित्त हो गए. भाजपा ने अपने 10 मंत्रियों को चुनाव मैदान में उतारा था लेकिन इनमें से महज दो ही जीत दर्ज करने में कामयाब रहे.

कैबिनेट मंत्री और पांच बार विधायक रहे अनिल विज अपनी पारंपरिक सीट अंबाला छावनी से जीत गए हैं.

वहीं, राज्य मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने भी बावल सीट से जीत दर्ज की है.

हारने वाले मंत्रियों में रामबिलास शर्मा (महेंद्रगढ़), कैप्टन अभिमन्यु (नारनौंद), ओमप्रकाश धनखड़ (बादली), कविता जैन (सोनीपत), कृष्णलाल पंवार (इसराना), मनीष कुमार ग्रोवर (रोहतक), कृष्ण कुमार बेदी (शाहबाद) और कर्ण देव कांबोज (रादौर) शामिल हैं.

भाजपा ने अपने दो मंत्रियों- विपुल गोयल और राव नरबीर सिंह को टिकट नहीं दिया था.

मुख्यमंत्री खट्टर ने करनाल सीट बरकरार रखी है.

सत्तारूढ़ भाजपा के कई और प्रमुख नेताओं के सितारे गर्दिश में मिल गए, जिनमें पार्टी के प्रदेश प्रमुख सुभाष बराला भी शामिल हैं. वह टोहाना सीट पर जजपा के देवेंद्र सिंह से 52,302 मतों के भारी अंतर से हार गए.

विपक्षी पार्टी कांग्रेस के लिए कैथल सीट के नतीजे काफी सदमा पहुंचाने वाले रहे जहां उसके वरिष्ठ पार्टी नेता रणदीप सुरजेवाला भाजपा के लीलाराम से हार गए.

तीन बार विधायक रहे और कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता को 1246 मतों से हार का मुंह देखना पड़ा। सुरजेवाला के लिए यह दूसरा बड़ा झटका है. इससे पहले वह इसी साल के शुरूआत में जींद उपचुनाव में हार गए थे.

कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप शर्मा को भी भाजपा की निर्मल रानी से गन्नौर सीट पर पटखनी खानी पड़ी. शर्मा दस हजार से अधिक मतों के अंतर से हार गए.

भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष रणबीर सिंह महिंद्रा की हार कांग्रेस के लिए एक और बड़ा सदमा साबित हुई वह जेजेपी की नैना चौटाला से भादरा सीट पर 13 हजार से अधिक मतों के अंतर से हार गए.

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता करण दलाल और आनंद सिंह डांगी भी चुनावी खेल में मात खा गए. दलाल को जहां पलवल से भाजपा के दीपक मंगला ने हराया तो वहीं डांगी जैसे दिग्गज को निर्दलीय उम्मीदवार बलराज कुंडू ने महम की धरती पर धूल चटाई.

चुनाव से कुछ समय पहले ही इनेलो से पाला बदलकर आए कांग्रेस उम्मीदवार अशोक अरोड़ा को थानेसर सीट पर भाजपा के सुभाष सुधा ने चित्त कर दिया.

भाजपा उम्मीदवार बबीता फोगाट, योगेश्वर दत्त, टिक टॉक स्टार सोनाली फोगाट की हार

भाजपा द्वारा विधानसभा चुनाव मैदान में उतारे गए अंतरराष्ट्रीय पहलवानों- बबीता फोगाट और योगेश्वर दत्त तथा टिक टॉक स्टार सोनाली फोगाट को हार का सामना करना पड़ा है. हालांकि, भाजपा उम्मीदवार एवं पूर्व हॉकी कप्तान संदीप सिंह जीत हासिल करने में सफल रहे.

चरखी दादरी की दादरी सीट से चुनाव मैदान में उतरीं बबीता लड़ाई में दूसरे नंबर पर भी नहीं आ पाईं. उन्हें इस सीट से जेजेपी की नैना चौटाला के हाथों हार का सामना करना पड़ा.

निर्दलीय उम्मीदवार सोमबीर ने इस सीट पर जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के सतपाल सांगवान को 14,272 मतों के अंतर से हराया.

सोनीपत की बड़ौदा विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरे योगेश्वर दत्त को कांग्रेस के निवर्तमान विधायक श्रीकृष्ण हुड्डा ने 4,840 मतों के अंतर से हराया.

वहीं, टिक टॉक स्टार सोनाली फोगाट को आदमपुर विधानसभा सीट से निवर्तमान विधायक एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई के हाथों 29,471 मतों के अंतर से हार का सामना करना पड़ा.

हालांकि, संदीप सिंह कुरुक्षेत्र की पिहोवा सीट से जीत दर्ज करने में सफल रहे. उन्होंने कांग्रेस के मनदीप सिंह को 5,314 मतों से शिकस्त दी.

कांग्रेस उम्मीदवार एवं बीसीसीआई के पूर्व प्रमुख रणबीर सिंह महिंद्रा को चरखी दादरी की भादड़ा सीट से जजपा की नैना चौटाला के हाथों हार का सामना करना पड़ा.

गोपाल कांडा ने मामूली अंतर से जीती सिरसा सीट

हरियाणा लोकहित पार्टी (एचएलपी) के उम्मीदवार गोपाल कांडा ने हरियाणा की सिरसा विधानसभा सीट मामूली अंतर से जीत ली. निर्वाचन आयोग कार्यालय के अनुसार कांडा ने अपने निकटतम उम्मीदवार निर्दलीय गोकुल सेतिया को 602 वोटों से हराया.

गोपाल कांडा पूर्व हरियाणा की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं.

हाल ही में भाजपा में शामिल हुईं जानी मानी हरियाणवी गायिका सपना चौधरी ने कांडा के लिए प्रचार किया था जिससे भगवा दल को शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी.

पूर्व मंत्री कांडा हरियाणा में एक प्रभावशाली राजनीतिक हस्ती हैं. उनका नाम तब सुर्खियों में आया था जब उनकी एअरलाइन कंपनी में काम करने वाली एक महिला कर्मचारी ने आत्महत्या कर ली थी.

गोपाल कांडा की एमएलडीआर एअरलाइन में एयर होस्टेस गीतिका शर्मा काम करती थी. साल 2012 में पांच अगस्त को वह उत्तर-पश्चिमी दिल्ली के अशोक विहार स्थित अपने घर में मृत मिली थी.

उनके पास से एक सुसाइड नोट भी मिला था, जिसमें उन्होंने गोपाल कांडा और उनकी एक कर्मचारी अरुणा चड्ढा द्वारा किए जा रहे उत्पीड़न की वजह से अपनी जान देने की बात कही थी.

पंजाब विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस ने तीन सीटों, अकाली ने एक सीट पर जीत दर्ज की

पंजाब की चार विधानसभा सीटों के उपचुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने तीन और विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने एक सीट पर जीत दर्ज की.

गत 21 अक्टूबर को हुए उपचुनाव के परिणामों की बृहस्पतिवार को घोषणा की गई. कांग्रेस ने जलालाबाद, फगवाड़ा और मुकेरियां सीटों और शिअद ने दाखा सीट पर जीत दर्ज की.

इन सीटों पर जीत के साथ ही अब 117 सदस्यीय पंजाब विधानसभा में कांग्रेस की सीटें 80 हो गई हैं जबकि दाखा सीट पर जीत के साथ अकाली की सीटों की संख्या अब 14 हो गई है.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने फगवाड़ा सीट गंवा दी है और अब उसकी सीटों की संख्या कम होकर दो रह गई है.

राज्य में मुख्य विपक्षी दल आम आदमी पार्टी (आप) इन उपचुनाव में कोई छाप छोड़ने में विफल रही है.

राज्य विधानसभा में आप के 19 विधायक हैं.

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने चार विधानसभा सीटों में से तीन पर अपनी पार्टी की जीत के बारे में कहा कि इससे पता चलता है कि मतदाताओं ने अकालियों के नकारात्मक एजेंडे को पूरी तरह से खारिज कर दिया.

जलालाबाद सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार रमिंदर अवला ने शिअद प्रत्याशी राज सिंह दिबीपुरा को 16,633 मतों से हराया.

इससे पहले इस विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल कर रहे थे जो इस वर्ष मई में हुए लोकसभा चुनाव में निर्वाचित हुए.

फगवाड़ा सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार एवं पूर्व आईएएस अधिकारी बलविंदर सिंह धालीवाल ने भाजपा उम्मीदवार राजेश बाघा को 26,116 मतों से हरा दिया.

यह सीट भाजपा के मौजूदा विधायक सोम प्रकाश के लोकसभा के लिए निर्वाचित होने के बाद रिक्त हुई थी.

वहीं दाखा सीट पर शिरोमणि अकाली दल के प्रत्याशी मनप्रीत सिंह अयाली ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी एवं कांग्रेस उम्मीदवार संदीप सिंह संधू को 14,672 मतों से पराजित कर दिया.

कांग्रेस उम्मीदवार इंदु बाला ने मुकेरियां विधानसभा सीट पर जीत हासिल की है. उन्होंने भाजपा प्रत्याशी जंगी लाल महाजन को बृहस्पतिवार को 3,440 वोटों के अंतर से हराया.

यह सीट कांग्रेस विधायक रजनीश कुमार बब्बी के निधन के बाद खाली हुई थी. इंदु बाला बब्बी की पत्नी हैं.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)