भारत

गैर भाजपाई पार्टियों को कांग्रेस से हाथ मिलाना चाहिए: भूपेंद्र सिंह हुड्डा

हरियाणा विधानसभा चुनाव: भाजपा को नैतिक आधार पर सरकार बनाने का दावा छोड़ने की बात कहते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि यह पहली बार है कि कुछ मंत्रियों को छोड़कर चुनाव में पूरी कैबिनेट का सूपड़ा साफ हो गया है.

Gurugram: Congress veteran leader and former chief minister Bhupinder Singh Hooda flashes the victory sign as he leaves from a counting centre, in Rohtak, Thursday, Oct. 24, 2019. (PTI Photo) (PTI10_24_2019_000021B)

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा. (फोटो: पीटीआई)

चंडीगढ़: हरियाणा में किसी भी दल को सरकार बनाने के लिए स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने के आसार के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने गैर भाजपा पार्टियों से कांग्रेस से हाथ मिलाने की बृहस्पतिवार को अपील की.

हुड्डा ने रोहतक में संवाददाताओं से कहा, ‘यह जनादेश भाजपा के खिलाफ है. भाजपा को दूर रखने के लिए जेजेपी, इनेलो, निर्दलीय सहित अन्य दलों को कांग्रेस से हाथ मिलाना चाहिए.’

यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस ने जेजेपी प्रमुख दुष्यंत चौटाला को मुख्यमंत्री पद की पेशकश की है, उन्होंने कहा कि इस तरह की कोई बातचीत नहीं हुई है.

पूर्व मुख्यमंत्री रोहतक जिले के गढ़ी सांपला-किलोई में भारी मतों के अंतर से आगे चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि वादों को पूरा नहीं कर पाने और काम नहीं करने के कारण लोगों ने भाजपा के खिलाफ जनादेश दिया है.

उन्होंने गैर भाजपा पार्टियों से कांग्रेस से हाथ मिलाने की अपील की और भरोसा दिलाया कि उन्हें उचित सम्मान दिया जाएगा. हुड्डा ने कहा, ‘हम मजबूत सरकार बनाने के लिए तैयार हैं.’

भाजपा को नैतिक आधार पर सरकार बनाने का दावा छोड़ने के लिए कहते हुए हुड्डा ने कहा कि यह पहली बार है कि कुछ मंत्रियों को छोड़कर चुनाव में पूरी कैबिनेट का सूपड़ा साफ हो गया है. हुड्डा ने कहा कि नौकरी और रोजगार जैसे मुद्दे भाजपा के लिए मुसीबत साबित हुए.

वहीं, भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे और कांग्रेस नेता दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने भाजपा पर हरियाणा में निर्दलीय उम्मीदवारों पर दबाव बनाने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र में स्वीकार नहीं है.

समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए दीपेंद्र ने कहा, ‘बीजेपी निर्दलीय उम्मीदवारों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रही है क्योंकि उनमें से ज्यादातर हमारे साथ आना चाहते हैं. यह लोकतंत्र में स्वीकार नहीं किया जा सकता. भरोसेमंद उम्मीदवारों को स्वतंत्र रूप से उस पार्टी को चुनने में सक्षम होना चाहिए, जिसे वे समर्थन करना चाहते हैं. मैं मीडिया के माध्यम से चुनाव आयोग से इसके बारे में अपील करना चाहता हूं.’

साथ ही उन्होंने कहा, ‘आज यह स्पष्ट हो गया कि लोग खट्टर सरकार को गिराना चाहते हैं. मैं दुष्यंत चौटाला (जेजेपी), स्वतंत्र उम्मीदवारों और अन्य दलों से हरियाणा में एक साथ आने और गठबंधन सरकार बनाने के लिए कहना चाहता हूं ताकि लोगों के जनादेश का सम्मान किया जा सके.’

दिल्ली पहुंचेंगे हुड्डा, हरियाणा में सरकार बनाने की कोशिश करेगी कांग्रेस

हरियाणा में त्रिशंकु विधानसभा के आसार के मद्देनजर कांग्रेस राज्य में सरकार के गठन की कवायद में जुट गई है और इसी संभावना पर विचार विमर्श के लिए राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा बृहस्पतिवार को दिल्ली पहुंच रहे हैं.

कांग्रेस से जुड़े सूत्रों ने बताया कि दिल्ली पहुंचने के बाद हुड्डा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे और सरकार बनाने की संभावना को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और गुलाम नबी आजाद के साथ मंथन करेंगे.

एक सूत्र ने बताया कि सोनिया ने हुड्डा से फोन पर भी बात की है और उन्हें सरकार बनाने के लिए आगे बढ़ने को कहा है.

इस बीच, सूत्रों ने यह भी बताया है कि हुड्डा और उनके करीबियों की ओर से जननायक जनता पार्टी के साथ संपर्क करने की कोशिश हो रही है. इसके साथ ही उन निर्दलीय उम्मीदवारों से संपर्क साधा गया है जो जीतने की स्थिति में हैं.

चुनाव आयोग के साढ़े 12 बजे के आंकड़ों के अनुसार, राज्य की 90 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 36, कांग्रेस 35 और जननायक जनता पार्टी 10 सीटों पर आगे चल रही है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)