Author Archives

भाषा

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

कोविड-19 संकट के बीच डॉक्टरों की कमी का सामना कर रहा मेघालय

मेघालय के स्वास्थ्य सेवा निदेशक अमन वार ने बताया कि कमी मुख्य रूप से इस कारण से है कि कई डॉक्टर अपनी चिकित्सा शिक्षा पूरी करने के बाद राज्य के सरकारी अस्पतालों में काम करने से इनकार कर रहे हैं.

लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दियाब. (फोटो: रॉयटर्स)

बेरूत विस्फोट के बाद जनता के ग़ुस्से का सामना कर रही लेबनान सरकार ने इस्तीफ़ा दिया

चार अगस्त को लेबनान की राजधानी बेरूत के एक बंदरगाह पर भयानक विस्फोट हुआ था. इसमें कम से कम 160 लोगों की मौत हुई, जबकि 6,000 से अधिक लोग घायल हो गए थे. साथ ही देश का मुख्य बंदरगाह और शहर का बड़ा हिस्सा बर्बाद हो गया. विस्फोट के बाद लेबनान में पिछले दो दिनों से सरकार विरोधी प्रदर्शन हो रहे थे.

(फोटो: पीटीआई)

राज्यों को राशन दुकानों पर काम करने वाले, सब्ज़ी और फेरीवालों की कोरोना जांच के निर्देश

कोरोना वायरस संक्रमण के तेज़ी से फैलने की आशंकाओं के मद्देनज़र केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इन लोगों की जांच करने की सलाह दी है ताकि संक्रमण के मामलों का जल्द पता लगाया जा सके और मृत्यु दर में कमी आ सके.

Sri Lanka's newly appointed Prime Minister Mahinda Rajapaksa gestures during the ceremony to assume duties at the Prime Minister's office in Colombo, Sri Lanka October 29, 2018. REUTERS/Dinuka Liyanawatte/Files

श्रीलंका संसदीय चुनाव में महिंदा राजपक्षे के नेतृत्व में एसएलपीपी ने जीत दर्ज की

चुनाव आयोग के अनुसार, 225 सदस्यीय संसद में एसएलपीपी ने अकेले 145 सीटें जीतीं और सहयोगी दलों के साथ कुल 150 सीटों पर जीत दर्ज की है. इस तरह पार्टी को दो-तिहाई बहुमत मिल गया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

वर्तमान शैक्षणिक वर्ष में 179 कॉलेज बंद हुए, नौ साल में सर्वाधिक: एआईसीटीई

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अनुसार 2020-21 शैक्षणिक वर्ष में 179 संस्थानों के बंद होने के अलावा पिछले पांच सालों में बड़ी संख्या में खाली रही सीटों के कारण इस साल क़रीब 134 संस्थानों ने अकादमिक सत्र की मंज़ूरी ही नहीं मांगी.

(फोटो: पीटीआई)

कोविड-19 के चलते 60 फ़ीसदी लोगों की आजीविका पूरी तरह या गंभीर रूप से प्रभावित हुई: सर्वे

एनजीओ ‘वर्ल्ड विज़न एशिया पैसिफ़िक’ द्वारा जारी सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन की सबसे अधिक मार दिहाड़ी मज़दूरों पर पड़ी और इसके चलते छिनी आजीविका ग्रामीण और शहरी ग़रीबों के लिए सबसे बड़ी चिंता बन गई.

प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई

केंद्रीय सुरक्षा बलों में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7000 के पार, अब तक 36 कर्मचारियों की मौत

केंद्रीय सुरक्षा बलों में बीते बुधवार तक सामने आए कोविड-19 के 242 नए मामलों में सीआरपीएफ से सबसे ज़्यादा 77 मामले सामने आए. उसके बाद बीएसएफ से 68, आईटीबीपी से 43, सीआईएसएफ से 41 और एसएसबी से 13 मरीज़ मिले हैं.

New Delhi: The statue of Mahatma Gandhi in the backdrop of the Parliament House during the Monsoon Session, in New Delhi on Friday, July 20, 2018. (PTI Photo/Kamal Kishore) (PTI7_20_2018_000250B)

कोरोना वायरस की सस्ती दवाइयों को बढ़ावा क्यों नहीं दिया जा रहा: संसदीय समिति

गृह मामलों की स्थायी समिति के सदस्यों ने दवाइयों की कालाबाज़ारी पर चिंता प्रकट की है और कहा कि कोविड-19 इलाज के लिए सस्ती दवाओं का प्रचार किया जाए.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

महाराष्ट्र में मार्च से अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से 82 पुलिसकर्मियों की मौत: अधिकारी

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र में अब तक कुल 6,400 पुलिसकर्मी संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं, जिनमें से 5,100 पुलिसकर्मी इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हो चुके हैं, वहीं 150 अधिकारियों सहित 1,213 पुलिसकर्मियों का इलाज चल रहा है.

Workers walk in front of the construction site of a commercial complex on the outskirts of the western Indian city of Ahmedabad, in this April 22, 2013 file picture. While India has long suffered from a dearth of workers with vocational skills like plumbers and electricians, efforts to alleviate poverty in poor, rural areas have helped stifle what was once a flood of cheap, unskilled labour from India's poorest states. Struggling to cope with soaring food prices, this dwindling supply of migrant workers are demanding - and increasingly getting - rapid increases in pay and benefits. To match story INDIA-ECONOMY/INFLATION REUTERS/Amit Dave/Files (INDIA - Tags: BUSINESS CONSTRUCTION EMPLOYMENT TPX IMAGES OF THE DAY)

श्रम मंत्रालय ने मज़दूरी संहिता नियमों का मसौदा जारी किया, सितंबर तक लागू होने की उम्मीद

मज़दूरी संहिता विधेयक, 2019 में मज़दूरी, बोनस और उससे जुड़े मामलों से जुड़े क़ानून को संशोधित और एकीकृत किया गया है. राज्यसभा ने इसे दो अगस्त 2019 और लोकसभा ने 30 जुलाई, 2019 को पारित कर दिया था.

New Delhi: A view of a newly created COVID-19 care facility with over 10,000 beds at Radha Soami Beas, in New Delhi, Friday, June 26, 2020. A team of over 1,000 doctors, nurses and paramedic staff of the ITBP and other paramilitary forces have been earmarked to work at the facility. (PTI Photo)(PTI26-06-2020 000211B)

कोरोना वायरस फैलने के बाद से मुंबई में 15 लाख से अधिक लोग क्वारंटीन में रहे: बीएमसी

बीएमसी ने कहा है कि इनमें से 5.34 लाख लोगों की पहचान उच्च जोख़िम वाले संपर्क के रूप में की गई है. साथ ही यह भी बताया गया कि अब तक कुल 13.28 लाख लोग 14 दिन का क्वारंटीन पूरा कर चुके हैं.

(फोटो: पीटीआई)

मध्य और पश्चिम रेलवे के 872 कर्मचारी कोरोना संक्रमित अब तक 88 लोगों की मौत: रेलवे

अधिकारियों ने बताया कि 872 संक्रमित कर्मचारियों में से 559 मध्य रेलवे और 313 पश्चिमी रेलवे से हैं. कुछ रेल यूनियनों का दावा है कि 15 जून के बाद लोकल ट्रेन सेवाओं के परिचालन बहाल होने के बाद से रेलकर्मियों के संक्रमित होने की संख्या बढ़ी है.

लॉकडाउन के दौरान कुवैत शहर. (फोटो: रॉयटर्स)

कुवैत में विदेशियों का कोटा तय होने पर आठ लाख भारतीयों को छोड़ना पड़ सकता है देश

विदेशी कामगारों की संख्या में कटौती के लिए तैयार विधेयक के मुताबिक कुवैत की कुल आबादी में भारतीयों की संख्या 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए. वहां विदेशी नागरिकों में सबसे अधिक 14.5 लाख की हिस्सेदारी अकेले भारतीयों की है.

अशोक गहलोत. (फोटो: पीटीआई)

राजस्थान: मुख्यमंत्री का निर्देश- किसी सफाईकर्मी को सीवर की सफाई के लिए चेंबर में न उतरना पड़े

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से नगरीय निकायों के जनप्रतिनिधियों व सफाईकर्मियों के साथ संवाद के दौरान कहा है कहा कि जिस समर्पण भाव के साथ स्वच्छताकर्मियों ने काम किया है, उससे कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने में हम कामयाब हो सके हैं.

प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई

पश्चिम बंगाल: प्रशासनिक मदद न मिलने पर परिजनों ने 48 घंटों तक फ्रीज़र में रखा कोरोना संदिग्ध का शव

मामला कोलकाता का है, जहां 29 जून को एक 71 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी, जिन्हें कोरोना होने का संदेह था. परिजनों का कहना है कि इसी कारण उन्होंने अंतिम संस्कार की व्यवस्था के लिए पुलिस, स्थानीय पार्षद और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया, लेकिन किसी ने मदद नहीं की.