वीडियो

A medical technologist prepares a sample used to help determine if a person tests negative or positive for the Coronavirus. Photo credit: Eric Seals/REUTERS

कोरोना वायरस के टीके की खोज में एक-दो साल और: वैज्ञानिक

वीडियो: बीते जनवरी में चीन के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के लिए टीके के विकास का प्रसार करने के लिए दुनिया भर के वैज्ञानिकों को इसका एक जेनेटिक कोड जारी किया. समाचार वेबसाइट डीडब्ल्यू ने हांगकांग, बेल्जियम और जर्मनी के वैज्ञानिकों से बात की, ताकि वे ये समझ सकें कि वे टीका विकसित करने की अपनी यात्रा में कहां तक पहुंचे हैं.

AKI Bhupesh baghel 31st.00_29_20_03.Still004

पीएम ने राज्यों को विश्वास में लिया होता तो लॉकडाउन से इतनी अफ़रातफ़री नहीं होती: भूपेश बघेल

वीडियो: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

290 Shiv Vihar.00_15_47_14.Still001

दिल्ली दंगा: ‘लॉकडाउन के कारण शिव विहार वापस आए, पर इन जले घरों से डर लगता है’

वीडियो: बीते फरवरी में नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हुए सांप्रदायिक दंगों की वजह से शिव विहार के कई परिवारों को अपना घर छोड़ना पड़ा था. ये राहत कैंप में रह रहे थे, लेकिन कोरोना वायरस के चलते ये कैंप खाली करा दिए गए हैं. अब इन परिवारों को वापस शिव विहार लौटना पड़ा है.

AKI 30 March .00_17_01_19.Still006

लॉकडाउन नहीं, कमज़ोर तैयारियों के लिए माफी मांगिए मोदी ​जी…

वीडियो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में लॉकडाउन के चलते हो रही परेशानियों के लिए जनता से माफी मांगी है. इस मुद्दे पर द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी का नज़रिया.

(फोटो: रॉयटर्स)

लॉकडाउन में मज़दूरों का पलायन: न तो काम है और न ही पैसा

वीडियो: कोरोना वायरस फैलने के ख़तरे को देखते हुए 21 दिन के देशव्यापी लॉकडाउन के बीच दिल्ली समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर सैकड़ों-हज़ारों किलोमीटर की दूरी तय करते हुए अपने घरों के लिए निकल पड़े हैं.

Migrants wait to board a bus to their native villages, during a nationwide lockdown imposed in the wake of coronavirus pandemic, at Kaushambi in Ghaziabad, Saturday, March 28, 2020.
(Photo: PTI)

पलायन कर रहे मज़दूरों ने कहा, बीमारी से भी मरना है और भूख से भी

वीडियो: कोरोना वायरस के कारण हुए देशव्यापी लॉकडाउन के बाद दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले दिहाड़ी मज़दूर अपने-अपने घर जाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गईं बसों में जगह पाने के लिए देर रात भटकते रहे. गाजियाबाद के कौशाम्बी बस अड्डे पर मज़दूरों से विशाल जायसवाल की बातचीत.

Ghaziabad: Migrant workers walk to their villages amid the nationwide complete lockdown, during a 21-day nationwide lockdown to limit the spread of coronavirus, in Ghaziabad, Thursday, March 26, 2020. (PTI Photo/Arun Sharma)

कोरोना वायरस लॉकडाउन: पैदल यात्रा को मजबूर दिहाड़ी मज़दूर

वीडियो: कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते निर्माण कार्य में लगे मज़दूर, रेहड़ी-पटरी पर दुकान लगाने वाले, खोमचे वाले, रिक्शा चलाने वाले समेत श्रमिकों एक बड़ा वर्ग बेरोज़गार हो गया है. ​ये पैदल ही विभिन्न राज्यों में स्थित अपने घरों को लौटने के लिए मजबूर हैं.

Ghaziabad: A group of migrant workers walk to their villages amid the nationwide complete lockdown, on the NH24 near Delhi-UP Border in Ghaziabad, Thursday, March 26, 2020. The migrants, reportedly, started their journey to their villages in Uttar Pradesh on foot after they were left with no other option following the announcement of a 21-day lockdown across the country to contain the Covid-19, caused by the novel coronavirus. (PTI Photo/Ravi Choudhary)(PTI26-03-2020 000135B)

कोरोना लॉकडाउन के चलते मज़दूरों का पलायन: सरकार नाकाम, सहारा बने आमजन

वीडियो: देश में 21 दिनों के लॉकडाउन के वजह मज़दूरों के सामने रोज़ीरोटी का संकट पैदा होने के बाद ये पैदल ही अपने घरों की ओर पलायन कर रहे हैं. यमुना एक्सप्रेस वे पर इनसे अविचल दुबे ने बातचीत की.

Thousands of migrant workers from Delhi, Haryana and even Punjab reached Anand Vihar Bus Terminus in national capital during CoronaVirus Lockdown on March 28, 2020. (Photo: PTI)

दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे का हाल, जहां लॉकडाउन में भी मज़दूरों की भीड़ लग गई

वीडियो: कोरोना वायरस की वजह से देश में लागू लॉकडाउन की वजह से उत्तर प्रदेश और बिहार से दिल्ली आए दिहाड़ी मज़दूरों के सामने आजीविका का संकट खड़ा हो गया है. बीते शनिवार को लॉकडाउन के दौरान हज़ारों की संख्या में मज़दूर घर जाने के लिए दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर जमा हो गए थे.

In locked down India, poor migrants are on a long march back home March 27, 2020. (Photo: REUTERS/DANISH SIDDIQUI)

लॉकडाउन के दौरान दिल्ली से पैदल पलायन कर रहे दिहाड़ी मज़दूरों की कहानियां

वीडियो: कोरोना वायरस से सुरक्षा को लेकर देश में लागू लॉकडाउन के दौरान राजधानी दिल्ली से विभिन्न राज्यों में स्थित अपने घरों को पैदल लौट रहे दिहाड़ी मज़दूरों से इस्मत आरा और शेखर तिवारी की बातचीत.

AKI.00_21_36_15.Still004

शाहीन बाग़ की प्रदर्शनकारी महिलाओं को सलाम

वीडियो: कोरोना वायरस के मद्देनज़र दिल्ली पुलिस ने शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ 100 दिन से ज्यादा समय तक प्रदर्शन पर बैठीं महिलाओं को मंगलवार को वहां से हटा दिया. इस मुद्दे पर द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी का नज़रिया.

HBB 23 March.00_32_42_16.Still002

कोरोना वायरस: ‘लोगों के हाथ में घंटा पकड़ा दिया, जनता कर्फ्यू का मक़सद फेल हो गया’

वीडियो: कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू की अपील की थी, लेकिन कुछ जगहों पर इसका उलटा असर देखने को मिला. लोग समूह बनाकर सड़कों पर निकल गए थे. इस मुद्दे पर जेएनयू के एसोसिएट प्रोफेसर विकास बाजपेयी से चर्चा कर रही हैं द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी.

1803 Media Bol Master.00_29_24_09.Still003

कोरोना वायरस: देस-परदेस और मीडिया

वीडियो: मीडिया बोल की इस कड़ी वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मुद्दे पर जेएनयू के प्रोफेसर डॉ. विकास बाजपेयी और वरिष्ठ पत्रकार बिराज स्वैन के साथ चर्चा कर रहे हैं.

1603 Srishti Corona Shaheen Bagh.00_08_11_00.Still002

शाहीन बाग़: ‘हमें कोरोना वायरस से ज्यादा डर डिटेंशन सेंटर से लगता है’

वीडियो: दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस की रोकथाम के मद्देनज़र दिल्ली में 50 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा हो़ने पर पाबंदी लगा दी है. ऐसे में शाहीन बाग के लोग क्या अपना प्रदर्शन ख़त्म करेंगे या विरोध दर्ज कराने का कोई अन्य रास्ता अपनाएंगे? शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से सृष्टि श्रीवास्तव की बातचीत.

1603 AKI.00_12_19_01.Still002

कोरोना वायरस की चपेट में दुनिया, कैसे बचेगा भारत?

वीडियो: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है. भारत समेत विश्व के कई देश इससे पीड़ित हैं. द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी कोरोना वायरस, इसके लक्षण और बचाव के बारे में जानकारी दे रही हैं.