समाज

डोंगरिया कोंद आदिवासी समुदाय की महिलाएं. (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

किसी वाचाल देश में आदिवासियों के कम बोलने का अर्थ क्या है

इस देश में कोई भी बोल-बोलकर कुछ भी बेच सकता है, कुछ भी खरीद सकता है. मसलन वो लोगों का ज़मीर खरीद लेता है, सपने बेच देता है. जो नहीं बोल पाता, उसे इस देश में मूर्ख समझा जाता है, शायद इसीलिए कम बोलने वाले, सच्चे, ईमानदार और प्रकृति के साथ चलने वाले किसी भी समुदाय को कमज़ोर समझा जाता है.

Lakhimpur Kheri

उत्तर प्रदेश: बलात्कार के बाद किशोरी की हत्या, आरोपी गिरफ़्तार

मामला लखीमपुर खीरी ज़िले का है. बीते दस दिनों में जनपद में बलात्कार और हत्या का यह दूसरा मामला है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोपी पर रासुका के तहत कार्रवाई का आदेश दिया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या विश्वनाथन. (फोटो: यूट्यूब)

कोविड-19 वैक्सीन का न्यायसंगत और समान वितरण एक बड़ी चुनौती: सौम्या स्वामीनाथन

डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने एक सम्मेलन में कहा कि कोविड-19 वैक्सीन को दुनियाभर में न्यायसंगत तरीके से बांटना चुनौतीपूर्ण होगा. यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी देशों में समान वितरण हो, न कि किसी अमीर देश के पास ही अधिकाधिक वैक्सीन पहुंच जाएं.

(फोटो: पीटीआई)

मास्क न पहनने और दूरी बनाकर न रखने से भारत में बढ़ रहा है कोरोना: आईसीएमआर निदेशक

आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि ग़ैर-ज़िम्मेदार और कम जागरूक लोगों द्वारा कोविड-19 के मद्देनज़र बनाए गए नियमों का पालन न करने से देश में महामारी बढ़ रही है.

डोम राजा जगदीश चौधरी. (फोटो साभार: फेसबुक)

वाराणसी के ‘डोम राजा’ जगदीश चौधरी का निधन

वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी ने जब साल 2019 के चुनाव में अपना नामांकन पत्र भरा था, तब जगदीश चौधरी उनके प्रस्तावकों में से एक थे. हिंदू धर्म में अंतिम संस्कार के दौरान डोम बिरादरी की प्रमुख भूमिका होती है. इस बिरादरी के मुखिया को ‘डोम राजा’ कहा बुलाया जाता है.

(प्रती​कात्मक फोटो: रॉयटर्स)

बिहारः गर्भवती महिलाओं को प्रसव राशि देने में हुआ फ़र्ज़ीवाड़ा, एफआईआर दर्ज

मुजफ़्फ़रपुर में सरकारी संस्थागत प्रसव प्रोत्साहन योजना के तहत लाभार्थी के रूप में आम महिलाओं का रिकॉर्ड दिखाकर उनके नाम पर पैसों की हेरफेर का मामला सामने आया है. 18 महिलाओं को लाभार्थी दिखाकर पैसे ट्रांसफर हुए लेकिन इनमें से न कोई महिला गर्भवती थी, न ही उन्हें इस बारे में कोई जानकारी थी.

एमपीएसडी के बाहर प्रदर्शन करते छात्र. (सभी फोटो: Special Arrangement)

‘हम अभिनय के छात्र हैं और बिना प्रैक्टिकल किए हमारी पढ़ाई पूरी नहीं हो सकती’

भोपाल में मध्य प्रदेश स्कूल ऑफ ड्रामा के एक वर्षीय अभिनय प्रशिक्षण कोर्स के 2019-20 सत्र के विद्यार्थी बीते दो सप्ताह से अधिक समय से प्रबंधन के ख़िलाफ़ आंदोलनरत हैं. उनका कहना है कि कोरोना के चलते उनके बैच को प्रमोशन देकर नया सत्र शुरू किया जा रहा है जबकि उनका प्रशिक्षण अभी तक पूरा नहीं हुआ है.

कंगना रनौत. (फोटो साभार: फेसबुक/@TeamKanganaRanautOfficial)

अगर मॉडर्न इंडिया ने जातिवाद को नकार दिया है, तो ऊंचे पदों पर दलित क्यों नहीं हैं

बीते रविवार को अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्विटर पर भारत में जाति-व्यवस्था, आरक्षण और भेदभाव को लेकर टिप्पणियां की थीं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस. (फोटो: रॉयटर्स)

कोविड महामारी के साथ नस्लवाद और भेदभाव में भी इज़ाफ़ा हुआ है: संयुक्त राष्ट्र प्रमुख

धर्म या आस्था के आधार पर हिंसा का शिकार होने को लेकर 22 अगस्त को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय दिवस के अपने संदेश में संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने कहा कि धार्मिक अल्पसंख्यकों के ख़िलाफ़ भेदभाव और अन्य संबंधित घृणा अपराधों को समाप्त किया जाना चाहिए.

आयुष सचिव राजेश कोटेचा. (फोटो: ट्विटर)

प्रशिक्षण के दौरान आयुष सचिव के ग़ैर-हिंदी भाषियों से बैठक छोड़कर जाने को कहने पर हुआ विवाद

बीते दिनों आयुष मंत्रालय के एक राष्ट्रीय प्रशिक्षण सत्र में आयुष सचिव राजेश कोटेचा ने कहा था कि जो प्रतिभागी हिंदी नहीं बोलते वे छोड़कर जा सकते हैं क्योंकि वह अच्छी तरह से अंग्रेज़ी नहीं बोल सकते. उनके बयान की तमिलनाडु के नेताओं ने तीखी आलोचना करते हुए उनके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की मांग की है.

महेंद्र सिंह धोनी. (फोटो साभार: फेसबुक/@MSDhoni)

महेंद्र सिंह धोनी: पल दो पल का क़िस्सा नहीं, मक़बूल दास्तान

जनवरी 2017 में जबसे महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ी, तबसे करिअर के अंतिम ढाई सालों में उन्हें तारीफ़ से ज़्यादा आलोचना मिली. टीम के हर कमज़ोर प्रदर्शन के बाद उनके संन्यास के कयास लगने शुरू हो जाते, लेकिन आंकड़े बताते हैं कि इन सालों में भी उनकी चमक फ़ीकी नहीं पड़ी थी.

Haishankar Parsai

हरिशंकर परसाई: समाज की रग-रग से वाक़िफ़ व्यंग्यकार

हरिशंकर परसाई व्यंग्य के विषय में ख़ुद कहा करते थे कि व्यंग्य जीवन से साक्षात्कार करता है, जीवन की आलोचना करता है, विसंगतियों, अत्याचारों, मिथ्याचारों और पाखंडों का पर्दाफाश करता है. उनकी रचनाएं उनके इस कथ्य की गवाह हैं.

किताब का कवर. (फोटो साभार: ट्विटर)

विवाद के बाद पब्लिकेशन हाउस ने दिल्ली दंगों पर आधारित किताब के प्रकाशन को रद्द किया

‘देल्ही रायट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी’ किताब के लॉन्चिंग कार्यक्रम में भाजपा नेता कपिल मिश्रा, फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री, ऑपइंडिया वेबसाइट की संपादक नूपुर जे. शर्मा आदि के शामिल होने की सूचना के बाद से विवाद शुरू हुआ था. यह किताब पब्लिकेशन हाउस ब्लूम्सबरी इंडिया की ओर से सितंबर महीने में लॉन्च होने वाली थी.

Namrata Pankaj Tripathi Interview 19 August.00_33_39_11.Still002

गांव का विकास हो और वहीं रोज़गार मिले तो आदमी शहर क्यों जाएगा: पंकज त्रिपाठी

वीडियो: नेटफ्लिक्स पर हाल ही में रिलीज़ हुई फिल्म गुंजन सक्सेना में गुंजन के पिता का रोल निभाने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी से नम्रता जोशी की बातचीत.

बांसगांव के ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते. (फोटो: Special Arrangement)

‘दलितों पर दबदबा क़ायम करने के लिए सत्यमेव जयते को मार दिया गया’

बीते 14 अगस्त को आज़मगढ़ ज़िले के तरवां थाना क्षेत्र के बांसगांव के ग्राम प्रधान सत्यमेव जयते की गोली मारकर हत्या कर दी गई. अनुसूचित जाति से आने वाले प्रधान के परिजनों का आरोप है कि गांव के कथित ऊंची जाति के लोगों ने ऐसा यह संदेश देने के लिए किया कि आगे कोई दलित निर्भीकता से खड़ा न हो सके.