Rohingya.00_01_49_11.Still009

‘हम चाहते हैं कि जब तक म्यांमार के हालात सुधर नहीं जाते, तब तक हमें यहां रहने दिया जाए’

अप्रैल 2018 में दिल्ली के कालिंदी कुंज इलाके में बसे रोहिंग्या कैंप में आग लग गई थी, जिससे 25 परिवारों के करीब 250 रोहिंग्या शरणार्थी बेघर हो गए थे. इसके बाद उन्हें दूसरी जगह पर बसाया गया, लेकिन भारत में नागरिकता को लेकर चल रही बहस के बीच वे अमानवीय परिस्थितियों में चुपचाप ज़िंदगी गुज़ारने को मजबूर हैं.

Vishesh Report

नीतीश सरकार ने चमकी बुखार पर शोध, जागरूकता, पुनर्वास के लिए कोई फंड नहीं मांगा

चमकी बुखार या एईएस से बिहार में अब तक क़रीब 150 बच्चों की मौत हो चुकी है. एईएस से निपटने के लिए बिहार सरकार की लापरवाही का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन 2019-20 के तहत इस पर शोध, पीड़ितों का पुनर्वास और लोगों को जागरूक करने के लिए किसी फंड की मांग नहीं की.

BulandShahar

यूपी: छेड़खानी का विरोध करने पर दो महिलाओं की कार से कुचलकर हत्या, मुख्य आरोपी गिरफ़्तार

घटना बुलंदशहर जनपद की है, जहां कुछ महिलाओं उनके घर के बाहर पेशाब कर रहे युवक को टोका, तब युवक ने घर की एक युवती से छेड़खानी की. इसके कुछ देर बाद अपने साथियों के साथ आकर बाहर खड़ी परिवार की महिलाओं पर कार चढ़ा दी, जिसमें दो की मौत हो गई.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

स्वास्थ्य के लिहाज़ से बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड में हालात और बिगड़े: नीति आयोग

नीति आयोग द्वारा राज्यों का स्वास्थ्य सूचकांक जारी किया गया. इसमें बड़े राज्यों में बिहार सबसे निचले पायदान पर रहा जबकि केरल शीर्ष पर है.

Media Bol 24 June Thumbnail without text

मीडिया बोल: मुज़फ़्फ़रपुर की मौतें, सत्ता की बेफ़िक्री और मीडिया का मिजाज़

बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में चमकी बुखार से हो रही बच्चों की मौतों पर सरकार की बेफ़िक्री और मेनस्ट्रीम मीडिया की स्तरहीन पत्रकारिता पर जेएनयू के प्रोफेसर डॉ. विकास बाजपेयी और वरिष्ठ पत्रकार बिराज स्वैन से चर्चा कर रहें हैं वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश.

बिहार के हरिवंशपुर गांव में गिरफ्तार किए गए लोगों के रिश्तेदार. (फोटो साभार: एएनआई)

बिहार: चमकी बुखार से बच्चों की मौत के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले 39 लोगों पर केस दर्ज

बीते 18 जून को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुज़फ्फ़रपुर दौरे पर जाने के दौरान हरिवंशपुर गांव के लोगों ने चमकी बुखार से बच्चों की मौत और पानी की कमी को लेकर सड़क का घेराव किया था, जिसके चलते पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है. नामजदों में क़रीब आधे दर्जन वे लोग हैं जिनके बच्चों की मौत चमकी बुखार से हुई है.

मेहुल चोकसी (फोटो साभार: गीतांजलि ज्वेल्स)

मेहुल चोकसी की नागरिकता रद्द कर भारत के हवाले किया जा सकता है: एंटीगुआ के प्रधानमंत्री

भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहल चोकसी और उसका भांजा नीरव मोदी पंजाब नेशनल बैंक में 13,400 करोड़ रुपये के घोटाले में आरोपी हैं. इस साल जनवरी में चोकसी ने भारत छोड़ दिया था.

AKI 24 June.00_40_43_00.Still002

न्यू इंडिया की वहशी भीड़: एक और मुस्लिम युवक की पीट-पीटकर हत्या

झारखंड के सरायकेला खरसावां ज़िले में चोरी के शक में एक व्यक्ति की लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी. इस बारे में चर्चा कर रहीं हैं द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी.

Anand Patwardhan Film Poster

केरल हाईकोर्ट ने आनंद पटवर्धन की डॉक्यूमेंट्री ‘विवेक’ के प्रदर्शन की अनुमति दी

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने यह कहते हुए केरल फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगा दी थी कि इससे कानून-व्यवस्था में समस्या पैदा हो सकती है.

The President, Shri Ram Nath Kovind presenting the Padma Shri Award to Shri Daitari Naik, at the Civil Investiture Ceremony-II, at Rashtrapati Bhavan, in New Delhi on March 16, 2019.

पद्मश्री पाने के बाद नहीं मिल रहा काम, लौटाना चाहता हूं सम्मान: दैतारी नायक

दैतारी नायक का कहना है कि जब से उन्हें पद्मश्री सम्मान मिला है, लोग उनकी प्रतिष्ठा का हवाला देकर उनसे कोई काम कराने को तैयार नहीं हैं. वह चींटियों के अंडे खाने को मजबूर हैं. ओडिशा के तालबैतरणी गांव के रहने वाले नायक को पहाड़ खोदकर नहर बनाने के लिए पद्मश्री सम्मान से इसी साल नवाज़ा गया था.

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी. (फोटो साभार: एएनआई)

अधीर रंजन की लोकसभा में प्रधानमंत्री के ख़िलाफ़ अशोभनीय टिप्पणी, मांगी माफी

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर आए धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि उन्होंने उक्त टिप्पणी भाजपा के कुछ नेताओं द्वारा मोदी की तुलना स्वामी विवेकानंद से करने पर नाराज होकर की थी. उन्होंने माफी मांगते हुए कहा कि हिंदी अच्छी नहीं होने के कारण वह ऐसा बोल बैठे.

Ghulam Jeelani-Qadri Greater Kashmir

जम्मू कश्मीर: 28 साल पुराने मामले में उर्दू अख़बार के संपादक गिरफ़्तार

श्रीनगर से निकलने वाले उर्दू दैनिक आफ़ाक़ के संपादक और मालिक ग़ुलाम जिलानी क़ादरी को सोमवार देर रात उनके घर से गिरफ़्तार किया गया. पुलिस का कहना है कि 1992 में हुए एक मामले के संबंध में टाडा कोर्ट के समन पर ऐसा किया गया, वहीं क़ादरी के परिजनों का कहना है कि इसका उद्देश्य उन्हें प्रताड़ित करना है.

(फोटो: द वायर)

गुजरात: दो राज्यसभा सीटों पर अलग-अलग चुनाव के ख़िलाफ़ याचिका पर सुनवाई से कोर्ट का इनकार

गुजरात से राज्यसभा की ये सीटें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के गांधीनगर और स्मृति ईरानी के अमेठी लोकसभा सीट से निर्वाचित होने की वजह से खाली हुई हैं. कांग्रेस का कहना था कि दोनों सीटों पर अलग-अलग चुनाव कराने से भाजपा दोनों पर जीत हासिल कर लेगी.

Canning West Bengal

पश्चिम बंगालः कथित तौर पर जय श्री राम नहीं बोलने पर मदरसा टीचर को चलती ट्रेन से फेंका

पश्चिम बंगाल के एक मदरसा टीचर का कहना है कि यह घटना 20 जून को उस समय हुई, जब वह ट्रेन से दक्षिण 24 परगना जिले से हुगली जा रहे थे. आरोप है कि ट्रेन में कुछ लोग जय श्री राम के नारे लगा रहे थे, उन्होंने उन्हें भी नारे लगाने को कहा, इनकार करने पर मारपीट की गई और ट्रेन से धक्का दे दिया गया.

Indira Collage

आपातकाल: नसबंदी से मौत की ख़बरें न छापी जाएं

आपातकाल के 44 साल बाद इन सेंसर-आदेशों को पढ़ने पर उस डरावने माहौल का अंदाज़ा लगता है जिसमें पत्रकारों को काम करना पड़ा था, अख़बारों पर कैसा अंकुश था और कैसी-कैसी ख़बरें रोकी जाती थीं.