इलाहाबाद

(फोटो साभार: Nehru Memorial Library)

क्या जनता के नेहरू को दिल्ली निगल गई?

1950-60 के दशक में दिल्ली ने अपने जैसा एक नेहरू बना लिया. यह 1920-30 के दशक के नेहरू से भिन्न था. समय के साथ वो नेहरू जनता की नज़र से ओझल होते गए जिसने अवध के किसान आंदोलन में संघर्ष किया था.

BHU Gate2

मालवीय की विरासत को नज़रअंदाज़ कर रहा है बीएचयू

सरोजिनी नायडू ने मदन मोहन मालवीय को ‘रुढ़िवादी-प्रगतिशील नेता’ कहा था. संघ परिवार ने अपने एजेंडा के लिए उनके रुढ़िवादी पहलू का तो इस्तेमाल किया, लेकिन उनके प्रगतिशील दृष्टिकोण को पूरी तरह नज़रअंदाज़ कर दिया.

mohd shami

इलाहाबाद में बसपा नेता की गोली मारकर हत्या, भाजपा नेता पर केस दर्ज

विधानसभा चुनावों से ठीक पहले बसपा में शामिल हुए शमी इससे पहले सपा और कांग्रेस में भी रह चुके थे. उन्होंने राजा भैया के भी खिलाफ चुनाव लड़ा था.