उत्तर प्रदेश पुलिस

उत्तर प्रदेश के भदोही से भाजपा विधायक रवींद्र नाथ त्रिपाठी (फोटो साभार: www.facebook.com/ravindranath.tripathi.54)

यूपी: बलात्कार के मामले में भाजपा विधायक को क्लीन चिट, भतीजा गिरफ़्तार

महिला ने बीते 10 फरवरी को आरोप लगाया था कि उसके साथ भाजपा विधायक रवींद्रनाथ त्रिपाठी सहित उनके तीन बेटों और तीन भतीजों ने बारी-बारी से बलात्कार किया. पुलिस ने इस मामले में त्रिपाठी के साथ उनके दो बेटों और दो भतीजों को क्लीन चिट दे दी है.

उत्तर प्रदेश के भदोही से भाजपा विधायक रवींद्र नाथ त्रिपाठी (फोटो साभार: www.facebook.com/ravindranath.tripathi.54)

यूपी: बलात्कार के आरोप में भाजपा विधायक और उनके छह भतीजों पर मामला दर्ज

मामला भदोही ज़िले का है. भदोही के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि महिला का आरोप है कि भाजपा विधायक रवींद्रनाथ त्रिपाठी ने एक बार और उनके भतीजों संदीप तिवारी, सचिन तिवारी, चंद्रभूषण तिवारी, दीपक तिवारी, प्रकाश तिवारी और नीतेश तिवारी ने चार साल तक कई मौकों पर उनसे बलात्कार किया.

लखनऊ की कचहरी में बम से हमले के बाद पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करते वकील. (फोटो: एएनआई)

उत्तर प्रदेश: लखनऊ की कचहरी में वकील पर बम से हमला, तीन घायल

उत्तर प्रदेश पुलिस ने बताया कि कचहरी परिसर में कुछ लोगों ने बार एसोसिएशन के संयुक्त सचिव संजीव लोधी पर बमों से हमला किया. उनमें से एक बम फटा जबकि बाकी दो में धमाका नहीं हुआ.

सुभाष बाथम और घटनास्थल पर मौजूद पुलिस. (फोटो साभार: एएनआई)

यूपी: 23 बच्चों को बंधक बनाने वाले की पुलिस कार्रवाई में मौत, पत्नी को लोगों ने पीट-पीटकर मार डाला

सुभाष बाथम नाम के व्यक्ति ने अपनी बच्ची के जन्मदिन के बहाने बच्चों को अपने घर बुलाया था और घर के नीचे बने बेसमेंट में उन्हें बंधक बनाकर रखे हुए था. आरोपी हत्या के मामले में हाल ही में ज़मानत पर बाहर आया था. बच्चों को तकरीबन नौ घंटे बाद रिहा कराया जा सका.

A signboard is seen outside the premises of Supreme Court in New Delhi, India, September 28, 2018. REUTERS/Anushree Fadnavis/File Photo

हिंसा अदालत को सोचने से रोक रही है, लेकिन हिंसा हो कैसे रही है?

हिंसा के सबसे ज्यादा, सबसे ताकतवर और कारगर हथियार किसके पास हैं? किसके पास एक संगठित शक्ति है जो हिंसा कर सकती है? उत्तर प्रदेश में किसने आम शहरियों के घर-घर घुसकर तबाही की? किसने कैमरे तोड़कर चेहरे ढंककर लोगों को मारा? गोलियां कहां से चलीं? अदालत से यह कौन पूछे और कैसे? जब उसके पास ये सवाल लेकर जाते हैं तो वह हिंसा से रूठ जाती है.

नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण. (फोटो: यूट्यूब)

पुलिस अधिकारियों पर ट्रांसफर के बदले रिश्वत लेने का आरोप लगाने वाले नोएडा एसएसपी निलंबित

नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण ने उत्तर प्रदेश पुलिस में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए पांच आईपीएस अधिकारियों के ख़िलाफ़ पोस्टिंग के बदले रिश्वत लेने का आरोप लगाया था. इस संबंध में उत्तर प्रदेश शासन को भेजा गया उनका एक गोपनीय दस्तावेज़ मीडिया में लीक हो गया था.

(फोटो: द वायर)

सोनभद्र नरसंहार मामले में समिति ने सौंपी रिपोर्ट, 20 हजार बीघे जमीन पर अवैध कब्जे का खुलासा

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के उम्भा गांव में जुलाई 2019 में जमीनों पर कथित अवैध कब्जे के खिलाफ जब आदिवासियों और ग्रामीणों ने आवाज उठायी थी, तब भूमाफियाओं के साथ हुए खूनी संघर्ष में 11 लोगों की मौत हो गई थी. इस मामले में सोनभद्र पुलिस ने 65 लोगों को गिरफ्तार किया था और 51 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया था.

नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण. (फोटो: यूट्यूब)

यूपी: नोएडा एसएसपी की रिपोर्ट में शीर्ष अधिकारियों पर ट्रांसफर के बदले पैसे लेने का आरोप

उत्तर प्रदेश के नोएडा के एसएसपी वैभव कृष्ण द्वारा मुख्यमंत्री और डीजीपी को भेजी गई रिपोर्ट तब सार्वजनिक हो गई जब एक कथित वीडियो सेक्स चैट वायरल हो गया था. रिपोर्ट में एसएसपी ने वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों पर आरोप लगाया था कि वे पैसे लेकर ट्रांसफर-पोस्टिंग के साथ केसों और गिरफ्तारियों को भी प्रभावित करते थे. इस संबंध में डीजीपी ने एसएसपी से जवाब मांगा है.

3012 Rampur Story.00_09_07_01.Still002

नागरिकता क़ानून: ‘हमारे पास खाने के पैसे नहीं, लाखों का जुर्माना कैसे भरेंगे’

वीडियो: बीते दिनों उत्तर प्रदेश के रामपुर में संशोधित नागरिकता क़ानून और एनआरसी के विरोध में हिंसक प्रदर्शन हुआ था. यहां सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में 28 लोगों को क्षतिपूर्ति का नोटिस भेजा गया है. इन लोगों से अविचल दुबे की बातचीत.

Ajoy Harsh Mandar.00_39_39_20.Still003

यूपी पुलिस ही दंगाई बन गई है: हर्ष मंदर

वीडियो: नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर हुए प्रदर्शनों और हिंसा के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस पर मुस्लिमों को निशाना बनाने के आरोप लग रहे हैं. उत्तर प्रदेश के कई क्षेत्रों का दौरा करके लौटी फैक्ट-फाइंडिंग टीम के सदस्य और सामाजिक कार्यकर्ता हर्ष मंदर से द वायर के डिप्टी एडिटर अजय आशीर्वाद की बातचीत.

राशिद अली. (फोटो: मनोज सिंह)

‘हम अब तक समझ नहीं पाए कि हमें किस जुर्म में ​गोरखपुर पुलिस ने गिरफ़्तार किया था’

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर में बीते 20 दिसंबर को नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने सीतापुर को दो फेरीवाले राशिद अली और मोहम्मद यासीन को गिरफ़्तार कर लिया था. 12 दिन जेल में रखने के बाद उन्हें ज़मानत दी गई.

Rampur Citizenship Protest Detention The Wire

नागरिकता क़ानून: ‘हमारे पास खाने के पैसे नहीं हैं, लाखों रुपये का जुर्माना कैसे भरेंगे’

ग्राउंड रिपोर्ट: उत्तर प्रदेश के रामपुर ज़िले में बीते 21 दिसंबर को नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हुए प्रदर्शन के बाद पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार किया है. इसमें से कई लोगों के यहां संपत्ति नुकसान का हर्जाना भरने के लिए लाखों रुपये का नोटिस भेजा गया है.

Varun Grover.00_08_03_16.Still005

नागरिकता क़ानून: बिजनौर में नाबालिगों पर यूपी पुलिस का अत्याचार

वीडियो: उत्तर प्रदेश के बिजनौर ज़िले के नगीना कस्बे में बीते 20​ दिसंबर को हुए हिंसक प्रदर्शनों के संबंध में पुलिस ने 21 नाबालिगों को भी गिरफ़्तार किया था. आरोप है कि इनमें कई बच्चों को पुलिस ने हिरासत में बर्बर तरीके से पीटा है. द वायर ने पीड़ितों में से कुछ नाबालिगों से बातचीत की.

Media BOl 30 December.00_48_28_17.Still006

मीडिया बोल: सीएए-एनआरसी के विरोध पर यूपी में ज़ुल्म और नफ़रत की राजनीति

वीडियो: मीडिया बोल की में उर्मिलेश नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के विरोध में देश भर में हो रहे प्रदर्शन पर सरकार और मीडिया के रवैये पर वरिष्ठ पत्रकार स्मिता शर्मा, एनआर मोहंती और वकील अब्दुल रहमान से चर्चा कर रहे हैं.

यूपी के गोरखपुर में 20 दिसंबर को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारी एक-दूसरे पर पत्थर फेंकते हुए. (फोटो: पीटीआई)

नागरिकता क़ानून: ज़मानत मिलने के बावजूद गोरखपुर जेल में बंद हैं सीतापुर के दो फेरीवाले

ग्राउंड रिपोर्ट: गोरखपुर में 20 दिसंबर को नागरिकता क़ानून और एनआरसी के ख़िलाफ़ हुए प्रदर्शन के बाद पुलिस ने कई लोगों को गिरफ़्तार किया था. इनमें से कई के परिजनों का कहना है कि गिरफ़्तार किए लोग प्रदर्शन में मौजूद नहीं थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया और बेरहमी से मारपीट की गई.

Muzaffarnagar SHK 2412.00_23_15_04.Still002

नागरिकता क़ानून: मुज़फ़्फ़रनगर में हुई हिंसा से डर के माहौल में जीने को मजबूर मुसलमान

वीडियो: बीते 20 दिसंबर को उत्तर प्रदेश मुज़फ़्फ़रनगर के मीनाक्षी चौक पर नागरिकता क़ानून के विरोध में हुआ प्रदर्शन हिंसक हो गया था. मुज़फ़्फ़रनगर के सरवट इलाक़े के पीड़ित परिवारों से शेखर तिवारी की बातचीत.

संदीप पांडेय. (फोटो साभार: फेसबुक)

मैग्सेसे सम्मानित संदीप पांडेय ने योगी सरकार से की निर्दोषों को रिहा करने की अपील

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाक़ात का समय न मिलने पर सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडेय ने उन्हें एक खुला पत्र लिखकर कहा कि नागरिकता क़ानून के विरोध-प्रदर्शन में शामिल लोगों के ख़िलाफ़ राज्य सरकार की ‘प्रतिशोध की भावना’ से की गई कार्रवाई निंदनीय है.

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह (बीच में). (फोटो: पीटीआई)

नागरिकता क़ानून: मानवाधिकार हनन की शिकायत के बाद यूपी डीजीपी को एनएचआरसी का नोटिस

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को भेजी गई शिकायत में आरोप लगाया गया है कि नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान यूपी पुलिस द्वारा मानवाधिकार हनन की कई घटनाएं हुई हैं. युवकों की मौतों की कई खबरें आईं, जो मुख्य रूप से पुलिस कार्रवाई के दौरान लगी गोलियों के चलते हुईं और पुलिस ख़ुद सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट कर रही है.

2810 AKMC Master.00_28_15_14.Still004

क्या मुसलमान, मुसलमान की तरह बोल सकता है?

वीडियो: उत्तर प्रदेश में हिंदुत्ववादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या के बाद सोशल मीडिया पर मुसलमानों की आलोचना की गई. इस मुद्दे पर जेएनयू के पूर्व छात्र और कार्यकर्ता उमर ख़ालिद के साथ प्रोफेसर अपूर्वानंद की बातचीत.

इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह. (फोटो: पीटीआई)

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी की मूर्ति लगाई गई

बुलंदशहर में तीन दिसंबर 2018 को कथित गोकशी को लेकर भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी. हिंसा में सुमित की भी मौत हो गई थी, जिसे बाद में पुलिस ने सुबोध कुमार सिंह की हत्या का आरोपी बनाया था.

Lucknow: In this undated photo is seen Hindu Samaj Party founder Kamlesh Tewari, who was killed at his office in Lucknow, Friday, Oct. 18, 2019. (PTI Photo)(PTI10_18_2019_000125)

कमलेश तिवारी हत्याकांड: पत्नी और मां के बयानों में विरोधाभास क्यों?

वीडियो: बीते 18 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के लखनऊ में हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या कर दी गई थी. कमलेश की पत्नी और मां के अलग-अलग बयानों ने मामले को और उलझा दिया है.

बीते 17 जुलाई को जमीन विवाद में सोनभद्र के उम्भा गांव में 10 लोगों की हत्या कर दी गई थी. (फोटो साभार: वीडियोग्रैब)

सोनभद्र नरसंहारः आरोपपत्र में कहा गया, ग्राम प्रधान और उनके तीन भाइयों ने चलाई गोली

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के उम्भा गांव में हुए 11 आदिवासियों के नरसंहार पर पुलिस ने स्थानीय अदालत में 51 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया है.

(फोटो: पीटीआई)

उत्तर प्रदेश: मेरठ में सुभारती विश्वविद्यालय के अधीक्षक की पीट-पीटकर हत्या

पुलिस ने बताया कि 45 वर्षीय संजय गौतम सुभारती विश्वविद्यालय में विज्ञान विभाग कार्यालय में अधीक्षक थे. बाइक से विश्वविद्यालय से घर लौटने के दौरान तीन बाइकों से आए नौ बदमाशों ने उन्हें घेर लिया और फिर कथित तौर पर पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी.

Amethi

उत्तर प्रदेश: हिरासत में मौत मामले में थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज निलंबित

उत्तर प्रदेश के अमेठी ज़िले का मामला. मृतक के माता-पिता ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने उनके बेटे को पीट-पीट कर मार डाला.

Mirzapur: Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra consoles a family member of Sonbhadra massacre victim, who had travelled to Chunar Fort to meet her after the former was stopped from proceeding to Sonbhadra, in Mirzapur, Saturday, July 20, 2019. Aleast 10 people were killed in a shootout on Wednesday over a land dispute in Sonbhadra. (PTI Photo)(PTI7_20_2019_000039B)

सोनभद्र नरसंहार: हिरासत में रखी गईं प्रियंका गांधी से पीड़ित आदिवासी परिवारों के 12 सदस्य मिले

सोनभद्र ज़िले के उभा गांव में 17 जुलाई को ज़मीन विवाद को लेकर हुई हिंसा में दस आदिवासियों की मौत हो गई थी और करीब 24 आदिवासी घायल हुए थे. शुक्रवार को पीड़ितों से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को मिर्ज़ापुर में रोकने के बाद हिरासत में ले लिया गया था.

Priyanka-Gandhi-ANI

यूपी: सोनभद्र पीड़ितों से मिलने जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत में लिया

सोनभद्र ज़िले के उभा गांव में 17 जुलाई को ज़मीन विवाद को लेकर हुई हिंसा में दस लोगों की मौत हो गई थी और करीब 24 लोग घायल हुए थे. शुक्रवार को पीड़ितों से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को मिर्ज़ापुर में रोकने के बाद हिरासत में ले लिया गया. कांग्रेस ने कहा, योगी सरकार की तानाशाही का निकृष्टतम उदाहरण.

Yogi Adityanath ANI

यूपी में पिछले 24 घंटे में दो पुलिसकर्मियों समेत 11 लोगों की हत्‍या, राज्यसभा में हंगामा

पहली घटना उत्तर प्रदेश के संभल की है, जहां पुलिसकर्मियों की वैन पर हमला कर बदमाश तीन कैदियों को छुड़ा ले गए और दो पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी. दूसरी घटना में सोनभद्र ज़िले में ज़मीन विवाद में तीन महिलाओं समेत नौ लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में जमीन विवाद को लेकर हुई गोलीबारी के बाद इलाके में तैनात पुलिस. (फोटो साभार: एएनआई)

उत्तर प्रदेश: सोनभद्र में ज़मीन विवाद में तीन महिलाओं समेत नौ की गोली मारकर हत्या

सोनभद्र पुलिस ने बताया कि घटना घोरावल के उभा गांव की है. ग्राम प्रधान ने दो साल पहले 90 बीघा ज़मीन ख़रीदी थी. वह अपने कुछ सहयोगियों के साथ जमीन पर कब्जा करने गया था. इसका गांव वालों ने विरोध किया. इस पर प्रधान और उसके लोगों ने गांववालों पर अंधाधुंध गोलियां बरसानी शुरू कर दीं. घटना में 19 लोग घायल हो गए हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर. (फोटो: रॉयटर्स)

देशभर में पुलिस बलों के 5.28 लाख पद खाली, यूपी में सबसे अधिक

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, सबसे अधिक लगभग 1.29 लाख पद उत्तर प्रदेश में, बिहार में 50,000 पद और पश्चिम बंगाल में 49,000 पद रिक्त हैं. वहीं, नागालैंड पुलिस देश का एकमात्र ऐसा बल है, जहां स्वीकृत संख्या से 941 अधिक कर्मियों को भर्ती किया गया है.

उत्तर प्रदेश के इटावा से भाजपा सांसद डॉ. रामशंकर कठेरिया. (फोटो साभार: फेसबुक)

यूपी: टोलकर्मियों से मारपीट और गोली चलाने के मामले में भाजपा सांसद के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज़

यह मामला उत्तर प्रदेश के आगरा का है. इटावा से भाजपा सांसद और अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष डॉ. राम शंकर कठेरिया का काफिला शनिवार सुबह दिल्ली से इटावा जा रहा था. इस काफिले में पांच कारें और एक बस शामिल थी.