केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय

(फोटो: रॉयटर्स)

देश में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच कई राज्यों तक नहीं पहुंचे केंद्र द्वारा आवंटित वेंटिलेटर्स

कोरोना को लेकर स्वास्थ्य सुविधाओं की बदहाली पर हुई आलोचना के बाद केंद्र ने दावा किया था कि लॉकडाउन में बने स्वदेशी वेंटिलेटर्स अस्पतालों में हो रही इनकी कमी पूरी करेंगे. आंकड़े बताते हैं कि अब तक केंद्र द्वारा आवंटित वेंटिलेटर्स का महज़ 50 फीसदी ही राज्यों और केंद्रीय संस्थानों को मिला है.

(फोटोः पीटीआई)

सीरो प्रीवलेंस अध्ययन: दिल्ली में क़रीब 23 प्रतिशत लोग कोविड-19 से प्रभावित

सीरो-सर्वेक्षण अध्ययनों में लोगों के ब्लड सीरम की जांच करके किसी आबादी या समुदाय में ऐसे लोगों की पहचान की जाती है, जिनमें किसी संक्रामक रोग के ख़िलाफ़ एंटीबॉडी विकसित हो जाती हैं. राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र ने दिल्ली सरकार के सहयोग से 27 जून से 10 जुलाई तक के बीच सीरो-प्रीवलेंस अध्ययन किया.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

दिल्ली: अस्पताल की तीसरी मंजिल से कूदी महिला कर्मचारी की मौत, जांच के आदेश

घटना उत्तरी दिल्ली के बालक राम अस्पताल में गुरुवार सुबह हुई. इसी दोपहर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड का उद्घाटन करना था. दिल्ली सफाई कर्मचारी आयोग ने अस्पताल पर सफाई के लिए कर्मियों पर दवाब बनाने का आरोप लगाया है.

(फोटोः पीटीआई)

1,302 डॉक्टर कोरोना संक्रमित, अब तक 99 डॉक्टरों की मौत: आईएमए

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों को एहतियात बरतने के लिए रेड अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि वरिष्ठ और युवा डॉक्टर समान रूप से कोरोना संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन वरिष्ठों की मृत्यु दर अधिक है.

फोटो: पीटीआई

डॉक्टरों-नर्सों के लिए दिए गए पीपीई किट का बेहतर उपयोग करना राज्यों की ज़िम्मेदारी: केंद्र

इससे प​हले कोरोना वायरस की रोकथाम में लगे स्वास्थ्यकर्मियों के लिए आवास और क्वारंटीन सुविधा को लेकर उच्चतम न्यायालय में दाख़िल एक अन्य याचिका के जवाब में केंद्र सरकार की ओर से कहा गया था कि संक्रमण से बचाव की अंतिम ज़िम्मेदारी स्वास्थ्यकर्मियों की है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

भारत में मध्य नवंबर तक कोविड-19 महामारी अपने चरम पर पहुंच सकती है: अध्ययन

आईसीएमआर द्वारा कराए गए एक अध्ययन के अनुसार कोविड महामारी के नवंबर के पहले सप्ताह तक अपने चरम पर पहुंचने के बाद 5.4 महीनों के लिए आइसोलेशन बेड, 4.6 महीनों के लिए आईसीयू बेड और 3.9 महीनों के लिए वेंटिलेटर कम पड़ जाएंगे.

Ministry of Health PIB

स्वास्थ्य मंत्रालय कोरोना अस्पतालों के बारे में सभी जानकारी 15 दिन के भीतर अपलोड करे: सीआईसी

सीआईसी ने कहा कि इस मामले के तथ्यों और सभी स्टेकहोल्डर्स द्वारा आयोग के सामने पेश किए गए जवाबों से पता चलता है कि कोरोना महामारी से संबंधित बेहद जरूरी जानकारी को मंत्रालय के किसी भी विभाग द्वारा मुहैया नहीं कराया जा सका है.

(फोटोः पीटीआई)

भारत अभी कोरोना वायरस के उच्चतम स्तर से दूर है: आईसीएमआर

आईसीएमआर की विशेषज्ञ डॉ. निवेदिता गुप्ता ने कहा है कि महामारी पर लगाम लगाने के लिए भारत के कद़म प्रभावी रहे हैं और इससे मृत्यु दर में कमी आने में मदद मिली है. हम अन्य देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं.

(फोटोः रॉयटर्स)

एन-95 मास्क की गुणवत्ता को लेकर ट्वीट करने वाले एम्स डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस जारी

बीती 25 मई को एम्स में मनोचिकित्सा विभाग के एक वरिष्ठ रेजिडेंट डॉक्टर राजकुमार श्रीनिवास ने एक ट्वीट कर भारत में बने एन-95 मास्क की गुणवत्ता और मानकों को लेकर सवाल उठाए थे. उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर द्वारा जारी एन-95 मास्क से संबंधित आंकड़ों को भी झूठ बताया था.

(फोटोः पीटीआई)

कोविड-19: आरटीआई कार्यकर्ता ने उपकरणों पर हुए ख़र्च का ब्योरा मांगा, स्वास्थ्य मंत्रालय का इनकार

मुंबई के एक आरटीआई कार्यकर्ता ने केंद्र सरकार के पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन देकर कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उठाए गए क़दमों, ख़रीदे गए उपकरणों एवं सामग्रियों के नाम तथा उन पर किए गए ख़र्च का ब्योरा मांगा था.

New Delhi: A sick woman being taken to a hospital on a rickshaw, during the nationwide lockdown to curb the spread of coronavirus, in Old Delhi, Thursday, April 23, 2020. (PTI Photo/Kamal Kishore)(PTI23-04-2020 000107B)

लॉकडाउन के बीच आयुष्मान भारत के तहत भर्ती होने वाले मरीज़ों की संख्या में गिरावट

कोविड-19 संक्रमण के बीच गरीबी रेखा से नीचे वाले गंभीर रोगों के मरीज़ों के लिए शुरू की गई आयुष्मान भारत- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना बुरी तरह प्रभावित है. आंकड़े बताते हैं कि बीते तीन महीनों में देश भर के सरकारी व निजी अस्पतालों में योजना के तहत भर्ती होने वाले मरीज़ों की संख्या में 20 प्रतिशत की कमी आई है.

एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया. (फोटो: एएनआई)

कोरोना संक्रमण का ग्राफ समतल लेकिन मामलों में लगातार वृद्धि चिंता का विषय: एम्स निदेशक

एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरोना वायरस के मामलों की संख्या में चरमोत्कर्ष मई के आखिर या जून के मध्य तक हो सकता है, ऐसे में हमें और चौकस रहने तथा हॉटस्पॉट में मामलों की संख्या घटाने की कोशिश करने की जरूरत है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन. (फोटो: ट्विटर/@drharshvardhan)

देश में अब तक कोरोना वायरस का सामुदायिक प्रसार नहीं: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने कहा कि दिनचर्या में हाथ धोने, सांस संबंधी और पर्यावरण स्वच्छता की आदतें ‘बुरे वक्त में मिला वरदान’ हैं, इन्हें बरकरार रखने की जरूरत है.

(फोटो: पीटीआई)

बिहार: आशा कार्यकर्ताओं का आरोप, मानदेय देने के एवज में वसूला जा रहा है कमीशन

कोरोना संकट से निपटने के लिए ज़मीनी स्तर पर आशा कार्यकर्ता महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं, लेकिन महामारी के चुनौतीपूर्ण दौर में ज़िम्मेदारी के साथ मुश्किलें भी बढ़ गई हैं. बिहार के पूर्वी चंपारण क्षेत्र की कई आशा कार्यकर्ताओं का कहना है कि उन्हें अपने भुगतान की राशि पाने के लिए कमीशन देना पड़ रहा है.

(फोटोः पीटीआई)

कोरोना वायरस के मामलों में 40 फीसदी की कमी आईः केंद्र सरकार

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 15 मार्च और 31 मार्च के बीच कोरोना संक्रमण की औसत वृद्धि दर 2.1 थी जबकि एक और 15 अप्रैल के बीच यह दर 1.2 रही. 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना के मामले दोगुना होने की दर राष्ट्रीय औसत की तुलना में कम है.