केशव प्रसाद मौर्य

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर (फोटो: ट्विटर)

योगी के मंत्री बोले, दंगा फैलाने के लिए हुई बुलंदशहर में हिंसा, विहिप-बजरंग दल के लोग ज़िम्मेदार

बुलंदशहर में हुई हिंसा मामले में योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि विहिप और बजरंग दल के लोग वोट बैंक के लिए भावना भड़काने का काम कर रहे हैं.

उत्तर प्रदेश के सहकारिता मंत्री और भाजपा विधायक मुकुट बिहारी वर्मा. (फोटो साभार: फेसबुक)

योगी के मंत्री ने कहा, अयोध्या में राम मंदिर बनकर रहेगा, क्योंकि सुप्रीम कोर्ट हमारा है

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में स​हकारिता मंत्री और भाजपा विधायक मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि ये मामला सुप्रीम कोर्ट में है और न्यायपालिका, प्रशासन, देश के साथ-साथ राम मंदिर भी हमारे हैं.

Yogi Adityanath Facebook

योगी उत्तर प्रदेश को मठ की तरह चला रहे हैं, जैसा वे गोरखपुर को चलाते थे

गोरखपुर में मिली हार योगी आदित्यनाथ के लिए बड़ा झटका है. भाजपा कार्यकर्ता उन्हें 2024 में प्रधानमंत्री के रूप में देख रहे थे, लेकिन अपनी सीट छोड़ो, वो अपना बूथ तक नहीं बचा पाए.

Yogi Facebook 2

गोरखपुर और फूलपुर में भाजपा की हार पर हैरत नहीं होनी चाहिए

गोरखपुर से ग्राउंड रिपोर्ट: मार्च 2017 के बाद यूपी की राजनीति में नए बदलाव की जो धीमी आवाज़ें उठ रही थीं, उसे सुना नहीं गया. ये आवाज़ें इस चुनाव में बहुत मुखर थीं लेकिन उसे नज़रअंदाज़ कर दिया गया. अब जब उसने अपना असर दिखा दिया, तो सभी हैरान हैं.

Gorakhpur: Samajwadi Party member celebrate the success of their party in the Lok Sabha bypoll elections, in Gorakhpur on Wednesday. PTI photo(PTI3_14_2018_000153B)

भाजपा के लिए बड़ा ख़तरा बने ‘केर-बेर’ साथ रह पाएंगे?

गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव: सपा और बसपा के इस गठजोड़ में अगर कांग्रेस भी शामिल हो गई तो भाजपा को देश के सबसे बड़े राज्य में निराशा ही हाथ लगेगी.

(फोटो साभार: एएनआई)

गोरखपुर उपचुनाव: मतगणना में ‘गड़बड़ी’ का आरोप लगाकर विपक्षी दलों ने किया हंगामा

सपा ने गोरखपुर के जिलाधिकारी राजीव रौतेला पर मतगणना में गड़बड़ी करने का लगाया आरोप, मतगणना केंद्र में पत्रकारों का प्रवेश रोकने पर हंगामा.

Modi-Yogi-Shah-Collage-PTI-FB

क्यों गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव भाजपा के लिए नाक का सवाल बन गया है?

गोरखपुर से ग्राउंड रिपोर्ट: लगातार जीत से अति-आत्मविश्वास की शिकार भाजपा के लिए यह उपचुनाव आसान नहीं रह गया है. दोनों उपचुनाव शुरू से ही पार्टी के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं क्योंकि यहां के प्रतिकूल परिणाम उसे बहुत नुकसान पहुंचा सकते हैं.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर. (फोटो साभार: यूपी कांग्रेस/ट्विटर)

गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव: किसी भी दल के साथ गठबंधन नहीं करेगी कांग्रेस

बहुजन समाज पार्टी ने दोनों सीटों पर होने वाले उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों को समर्थन देने को कहा है. दोनों सीटों पर 11 मार्च को चुनाव होने हैं.

s

अपराधियों को मारना राम राज्य की शुरुआत: केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के आने के बाद बढ़े एनकाउंटरों पर उपमुख्यमंत्री का कहना है कि यूपी अकेला ऐसा राज्य है जहां क़ानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए बड़े स्तर पर क़दम उठाए जा रहे हैं.

New Delhi: BSP supremo Mayawati interacts with the media at Parliament house on the first day of the monsoon session in New Delhi on Tuesday. PTI Photo by Kamal Singh   (PTI7_21_2015_000064B)

बसपा ने किसी भी दल से नहीं किया गठबंधन: मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में पार्टी ने कोई प्रत्याशी नहीं उतारा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि पार्टी के लोग अपना वोट नहीं डालेंगे. वे अपने मताधिकार का ‘सही’ इस्तेमाल करेंगे.

MayaAkhilesh

गोरखपुर-फूलपुर उपचुनाव: भाजपा को ‘ख़त्म’ करने के लिए बसपा ने सपा को दिया समर्थन

गोरखपुर और इलाहाबाद की फूलपुर सीट पर होने वाले लोकसभा उपचुनाव में सपा प्रत्याशियों को समर्थन देने का बसपा ने किया ऐलान.

Yogi Mayawati Akhilesh (PTI)

उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव: योगी सरकार की पहली चुनावी परीक्षा

यूपी में 16 नगर निगमों, 198 नगर पालिका परिषद और 438 नगर पंचायतों के लिए नवंबर में तीन चरणों में होंगे चुनाव. अपने चुनाव चिह्न पर उतरेंगे सभी प्रमुख दल.

Modi_Maurya_PTI

राजनीति को अपराध-मुक्त करने का ज्ञान देने से पहले भाजपा को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए!

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में 35-40 फीसदी प्रत्याशियों का अापराधिक रिकॉर्ड है. कई अपराधों को वैचारिक वैधता भी मिल चुकी है क्योंकि इसके दोषियों को सज़ा के बजाय कोई बड़ी ज़िम्मेदारी या पद दे दिया जाता है. भाजपा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष इसका सटीक उदाहरण हैं.