गुजरात

(फोटो साभार: ट्विटर)

गुजरात: फुटपाथ पर चढ़ा अनियंत्रित ट्रक, 13 प्रवासी मजदूरों समेत 15 की मौत

घटना सूरत से करीब 60 किलोमीटर दूर कोसांबा गांव के पास मंगलवार तड़के हुई, जहां एक ट्रैक्टर से टकराने के बाद बेक़ाबू हुआ ट्रक फुटपाथ पर सो रहे मज़दूरों पर चढ़ गया. मारे गए सभी मज़दूरों में से एक को छोड़कर बाकी सभी राजस्थान के रहने वाले थे.

New Delhi: A man carries chicken at Ghazipur Murga Mandi, in New Delhi, Saturday, Jan. 9, 2021. The poultry market in Delhi will remain closed for 10 days due to the outbreak of avian influenza, commonly known as bird flu, in several parts of the country. (PTI Photo/Arun Sharma) (PTI01 09 2021 000108B)

देश के दस राज्यों में अब तक बर्ड फ्लू की दस्तक

केंद्र की ओर से जारी बयान के अनुसार, राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को जलाशयों, जीवित पक्षी बाज़ारों, मुर्गीपालन केंद्रों और चिड़ियाघरों आदि के आसपास निगरानी बढ़ाने का अनुरोध किया गया है. साथ ही मृत पक्षियों को प्रोटोकॉल के तहत दफ़नाने और मुर्गीपालन केद्रों में पक्षियों की सुरक्षा को लेकर अधिक ध्यान देने का आग्रह किया गया है.

Jaipur: A dead crow at Ramniwas Garden, in Jaipur, Saturday, Jan. 9, 2021. An alert has been sounded across the country after the detection of bird flu cases in six states. (PTI Photo)(PTI01 09 2021 000174B)

यूपी सहित सात राज्यों में बर्ड फ्लू, दिल्ली, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से नमूने जांच के लिए भेजे गए

बर्ड फ्लू के ख़तरे के मद्देनज़र दिल्ली में जीवित पक्षियों के आयात पर रोक लगा दी गई है. साथ ही गाजीपुर मुर्गा बाज़ार अगले 10 दिन तक बंद कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश में कानपुर के चिड़ियाघर और ज़िले की चिकन तथा अंडे की सभी दुकानों को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है.

(फोटो: पीटीआई)

छह राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि, दिल्ली में भी 200 से अधिक पक्षी मृत पाए गए

केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और गुजरात से कार्य योजना के मुताबिक बर्ड फ्लू पर रोकथाम के लिए कहा है. ख़तरे के बीच दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में 200 से अधिक पक्षियों की मौत हो गई है. इनमें से अधिकांश कौए हैं. मौत के कारणों की जांच के लिए उनके नमूनों को प्रयोगशालाओं में भेजा गया है.

Gandhinagar: File photo of veteran Congress leader Madhavsingh Solanki, who passed away at his residence in Gandhinagar, Saturday, Jan. 9, 2021. Solanki, who also served as the External Affairs Minister of India and as the Chief Minister of Gujarat for four times, was 93. (PT Photo) (PTI01 09 2021 000026B)

गुजरात के चार बार मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता माधव सिंह सोलंकी का निधन

93 वर्षीय माधव सिंह सोलंकी ने जून 1991 से मार्च 1992 के बीच विदेश मंत्री का प्रभार भी संभाला था. वह गुजरात में जातिगत समीकरणों को साधने वाले बड़े नेता थे. 80 के दशक में जातिगत समीकरणों को साधने के लिए उन्होंने क्षत्रिय, हरिजन, आदिवासी और मुस्लिम (केएचएएम) फॉर्मूला सुझाया था.

(फोटो: रॉयटर्स)

गुजरात: मुंबई के शख़्स और यूट्यूब चैनल पर अडाणी ग्रुप की कंपनी के ख़िलाफ़ पोस्ट करने पर रोक

अडाणी ग्रुप की सहायक एग्रो कंपनी द्वारा दाखिल एक सिविल मामले पर कार्रवाई करते हुए अहमदाबाद की अदालत ने मुंबई के रहने वाले विनय दुबे और संबंधित यूट्यूब चैनल पर इस कंपनी और अडाणी ग्रुप के संबंध में कोई आपत्तिजनक लेख, वीडियो या ट्वीट करने या उन्हें प्रसारित करने से रोक दिया है.

मनसुख वसावा. (फोटो साभारः  ट्विटर/@MansukhbhaiMp)

गुजरातः पार्टी छोड़ने के एक दिन बाद भाजपा सांसद मनसुख वसावा ने इस्तीफ़ा वापस लिया

भरूच सीट से छह बार सांसद बने मनसुख वसावा ने मंगलवार को पार्टी से इस्तीफ़ा देते हुए कहा था कि सरकार या पार्टी के साथ उनका कोई मुद्दा नहीं है और वे स्वास्थ्य कारणों से पार्टी छोड़ रहे हैं.

मनसुख वसावा (फोटो साभारः लोकसभा आर्काइव)

गुजरातः भरूच से भाजपा सांसद और आदिवासी नेता मनसुख वसावा ने पार्टी छोड़ी

भरूच सीट से छह बार सांसद बने मनसुख वसावा ने बीते हफ़्ते प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की नर्मदा ज़िले के 121 गांवों को पर्यावरण के लिहाज़ से संवेदनशील क्षेत्र घोषित करने संबंधी अधिसूचना वापस लेने की मांग की थी. मंत्रालय के निर्णय का स्थानीय स्तर पर विरोध हो रहा है.

गुजरात हाईकोर्ट. (फोटो साभार: फेसबुक)

गुजरातः अनिवार्य कोविड-19 ड्यूटी संबंधी अधिसूचना के ख़िलाफ़ 300 डॉक्टर हाईकोर्ट पहुंचे

मामले की सुनवाई करते हुए गुजरात हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा कि हम कोविड-19 के संबंध में प्रशासन को कोई निर्देश नहीं देने जा रहे, प्रशासन को जिसकी भी ज़रूरत हो, वे ले सकते हैं और कोई यह नहीं कह सकता कि वे काम करने के इच्छुक नहीं है.

(फोटो: रॉयटर्स)

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमण के इलाज की लागत सीमा निर्धारित हो

सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि कोरोना वायरस का इलाज का ख़र्च आम जनता की सीमा से बाहर है. अगर कोई शख़्स संक्रमण से ठीक हो भी जाता है तो इलाज की लागत उसे ख़त्म कर देती है. कोर्ट ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत स्वास्थ्य का अधिकार मौलिक अधिकार है. यह राज्य का कर्तव्य है कि वह किफ़ायती इलाज के लिए प्रावधान बनाए.

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल. (फोटो: एएनआई)

किसान आंदोलन को देशविरोधी, आतंकी, खालिस्तानी, माओवादियों का समर्थन: गुजरात के उप-मुख्यमंत्री

गुजरात के उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा है कि अगर 50,000 राष्ट्र विरोधी लोग एक साथ आकर अनुच्छेद 370 को निरस्त करने वाले क़ानून को रद्द करने की मांग करते हैं तो क्या हमें संसद से पारित इस अधिनियम को निरस्त करना होगा? अगर 50,000 लोग मांग करते हैं तो क्या हम कश्मीर को पाकिस्तान को दे देंगे?

(फोटो साभार: पिक्साबे)

गुजरात: किसान आंदोलन के समर्थन में कथित आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट पर युवक के ख़िलाफ़ केस दर्ज

गुजरात के आणंद का मामला. आरोप है कि खंभात की शान नाम से फेसबुक पेज चलाने वाले शख़्स ने किसान आंदोलन के समर्थन में प्रधानमंत्री नरेंद्र के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक पोस्ट की और लोगों को भड़काने का काम किया.

Rajkot: Firefighters inside the ICU of a designated COVID-19 hospital where the fire broke out today, in Rajkot, Friday, Nov. 27, 2020. Five COVID-19 patients died in the incident. (PTI Photo)(PTI27-11-2020 000061B)

गुजरात: पुलिस स्टेशन में स्टिंग ऑपरेशन करने के आरोप में चार पत्रकारों पर केस दर्ज

बीते 26 नवंबर को गुजरात के राजकोट शहर के एक कोविड-19 अस्पताल के आईसीयू में आग लगने से पांच मरीज़ों की मौत हो गई थी. गुजराती के दिव्य भास्कर ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि अस्पताल में आग लगने के संबंध में गिरफ़्तार तीन लोगों को वीआईपी सुविधाएं मुहैया कराई गईं.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

गुजरात: शख़्स को निर्वस्त्र कर बाज़ार में घुमाया, नौ पुलिसकर्मी सस्पेंड, दो बर्ख़ास्त

गुजरात के द्वारका ज़िले की घटना. बीते एक दिसंबर को कथित तौर पर पांच लोगों ने एक व्यक्ति का अपहरण कर उसकी पिटाई की थी और फिर निर्वस्त्र कर बाज़ार में घुमाया था. घटना को देखने के बाद भी कुछ पुलिसकर्मियों की ओर से मामले में कोई कार्रवाई नहीं की गई थी.

(फोटो: पीटीआई)

मास्क नहीं पहनने वालों से सामुदायिक सेवा कराने के गुजरात हाईकोर्ट के आदेश पर रोक

गुजरात हाईकोर्ट ने दो दिसंबर को मास्क नहीं पहनने वालों को कोविड-19 केयर सेंटर पर अनिवार्य सामुदायिक सेवा का आदेश देते हुए इस संबंध में राज्य सरकार को एक अधिसूचना जारी करने के लिए निर्देश दिया था.