चीन सरकार

(फोटो: रॉयटर्स)

कोरोना वायरस महामारी से पूरी मानवता ख़तरे में: संयुक्त राष्ट्र

बीते बुधवार तक कोरोना वायरस महामारी से दुनियाभर में 19,246 लोगों की मौत. यूरोप में कोरोना वायरस महामारी के 2,26,340 मामले सामने आ चुके है जबकि इससे 12,719 लोगों की मौत हुई. दिसंबर में चीन में इस वायरस का पहला मामला सामने आने के बाद 181 देशों में 427,940 मामले दर्ज किए गए.

बीजिंग में बारिश में दौरान फेस मास्क पहनकर जाते लोग. (फोटो: रॉयटर्स)

चीन नहीं है कोरोना वायरस का स्रोत, ना ही इसे प्रसारित किया: बीजिंग प्रवक्ता

चीनी दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को चीनी लोगों को गलत तरीके से देखने के बजाए महामारी से निपटने के लिए चीन सरकार के त्वरित कदम पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.

चीन के डॉक्टर ली वेनलियांग (फोटोः ट्विटर)

चीन ने कोरोना वायरस से आगाह करने वाले डॉक्टर के परिवार से माफ़ी मांगी

दिसंबर 2019 में वुहान शहर के डॉक्टर ली वेनलियांग ने सबसे पहले यह जानकारी दी थी कि उन्हें सार्स जैसे एक नए कोरोना वायरस का पता चला है, लेकिन उन पर अफ़वाह फैलाने का आरोप लगाते हुए प्रताड़ित किया गया था. फरवरी में कोरोना से संक्रमित ली की मौत हो गई थी.

Security personnel stands guard during restrictions, in Srinagar. PTI

विरोध करना कब से लोकतंत्र और देश विरोधी हो गया?

हॉन्ग कॉन्ग और कश्मीर दोनों ही इस समय इतिहास के एक जैसे दौर से गुजर रहे हैं; दोनों की स्वायत्तता के नाम पर की गई संधि खतरे में है और उनसे संधि करने वाले देशों की सरकार इन संधियों से मुकर रही हैं.

Chinese students carry a sign that reads, "Give me democracy or give me death," during a demonstration in Tiananmen Square May 14, 1989. DOMINIC DUDOUBLE/REUTERS

चीन के थियानमेन चौक पर हुए नरसंहार में 10,000 आम लोग मारे गए थे: ब्रिटिश दस्तावेज़

थियानमेन चौक नरसंहार के 28 साल से भी ज़्यादा समय बाद यह दस्तावेज़ सार्वजनिक किया गया. यह दस्तावेज़ ब्रिटेन के नेशनल आर्काइव्ज़ में पाया गया.