चुनाव

महाराष्ट्र में डाक मतपत्र का इस्तेमाल करते मतदाता. (फोटो: पीटीआई)

डाक-मतपत्र से वोट देने की आयु सीमा कम करने का फैसला वापस ले चुनाव आयोग: कांग्रेस

कोरोना वायरस से वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा का हवाला देते हुए लोकसभा और विधानसभा चुनावों में डाक-मतपत्र के लिए मतदाताओं की आयु सीमा 80 साल से घटाकर 65 साल कर दी गई है. विपक्षी दलों का कहना है कि चुनाव आयोग बिना विमर्श चुनावी प्रक्रिया बदलने के लिए एकतरफ़ा क़दम उठा रहा है.

Kandhamaal: An elderly voter show her finger marked with indelible ink at Adabadi polling booth during the second phase of Lok Sabha elections in Kandhamaal, Thursday, April 18, 2019. PTI Photos

कोविड-19: लोकसभा और विधानसभा चुनावों में डाक मतपत्र से मतदान की आयु सीमा घटाई गई

कोरोना वायरस को देखते हुए वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के मद्देनज़र विधि मंत्रालय ने 19 जून को जारी संशोधन में 65 वर्ष या इससे अधिक उम्र के लोगों को डाक मतपत्र के इस्तेमाल की अनुमति दी है. इससे पहले यह आयु सीमा 80 वर्ष थी.

19 जून को सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. (फोटो साभार: पीआईबी)

सरकार कह रही है कि यह राजनीति का समय नहीं, लेकिन वह ख़ुद क्या कर रही है

मुख्य विपक्षी दल के सवाल करने को उसकी क्षुद्रता बताया जा रहा है. 20 सैनिकों के मारे जाने के बाद कहा गया कि बिहार रेजीमेंट के जवानों ने शहादत दी, यह बिहार के लोगों के लिए गर्व की बात है. अन्य राज्यों के जवान भी मारे गए, उनका नाम अलग से क्यों नहीं? सिर्फ बिहार का नाम क्यों? क्या यह क्षुद्रता नहीं?

AKI 12 June 2020.00_15_52_22.Still004

देश कोरोना से लड़ रहा है भाजपा चुनाव लड़ रही है

वीडियो: एक तरफ़ देश में कोरोना का ख़तरा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, दूसरी ओर राज्यसभा चुनाव से पहले राजस्थान में सियासी हलचल तेज़ हो चुकी है. इस मुद्दे पर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की द वायर के अजय आशीर्वाद और टॉक जर्नलिज़्म के संस्थापक अविनाश कल्ला से बातचीत.

(फोटो: पीटीआई)

लोकसभा चुनाव में प्रचार पर भाजपा ने किया सर्वाधिक ख़र्च: एडीआर

चुनाव सुधार से संबंधित शोध संस्था एसोसिएशन फॉर डे​मोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा ने चुनाव में 1141.72 करोड़ रुपये ख़र्च किए, वहीं कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में 626.36 करोड़ रुपये व्यय किया है.

लाल क़िला. (फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमंस)

दिल्ली विधानसभा चुनावः चांदनी चौक के चुनावी मैदान में पुराने चेहरे नए दल के साथ उतरे

देश का व्यापारिक केंद्र कहे जाने वाले चांदनी चौक विधानसभा क्षेत्र में 1998 से 2013 तक लगातर चार बार कांग्रेस जीती है, लेकिन 2015 में आम आदमी पार्टी की अलका लांबा ने इस सीट से जीत दर्ज की. 1993 में पहली और आखिरी बार भाजपा इस सीट से जीती थी.

दिल्ली के बुराड़ी में भाजपा नेताओं के साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार. (फोटो: ट्विटर/@Jduonline)

दिल्ली में चुनाव प्रचार करने उतरे नीतीश कुमार, कहा- 2005 के बिहार की याद दिलाता है बुराड़ी

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ बुराड़ी में जदयू उम्मीदवार के समर्थन में एक रैली को संबोधित किया. दिल्ली में शिक्षा का स्तर सुधारने के केजरीवाल के दावे पर सवाल उठाते हुए नीतीश कुमार ने पूछा कि उन्होंने पिछले पांच साल में कितने स्कूल बनाए.

Ritu Chandni 28 Janaury.01_04_56_00.Still004

मुफ्त की घोषणाएं कर केंद्र और दिल्ली सरकार विज्ञापन में ख़र्च कर रहीं पैसा: अलका लांबा

वीडियो: दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर चांदनी चौक सीट से कांग्रेस प्रत्याशी और विधायक अलका लांबा से रीतू तोमर की बातचीत.

2901 Burari Village Delhi Election.00_14_37_20.Still003

दिल्ली चुनाव: बुराड़ी की जनता बोली- जिसने हमारे लिए काम किया, उसे देंगे वोट

वीडियो: उत्तरी दिल्ली के बुराड़ी विधानसभा क्षेत्र से आम आदमी पार्टी से संजीव झा, भाजपा-जदयू गठबंधन से शैलेंद्र कुमार और कांग्रेस-राजद गठबंधन से प्रमोद त्यागी चुनाव मैदान में हैं. यहां के मतदाताओं ने राज्य और केंद्र की योजनाओं समेत नागरिकता क़ानून पर अपनी राय साझा की.

Ritu Chandni 28 Janaury.00_16_43_08.Still002

दिल्ली विधानसभा चुनाव: क्या बदल पाएगी चांदनी चौक की सूरत?

वीडियो: दिल्ली का दिल कहे जाने वाले चांदनी चौक में मुख्य मुक़ाबला कांग्रेस की अलका लांबा, आम आदमी पार्टी के प्रह्लाद सिंह साहनी और भाजपा के सुमन कुमार गुप्ता के बीच है. यहां के मुद्दों पर रीतू तोमर ने लोगों से बातचीत की.

गांधीनगर मार्केट. (फोटो: द वायर)

दिल्ली चुनाव: गांधीनगर सीट पर आप, कांग्रेस और भाजपा में किसका पलड़ा भारी?

एशिया के कपड़ों का सबसे बड़ा मार्केट कहा जाने वाला पूर्वी दिल्ली का गांधीनगर व्यापारियों का इलाका है. गांधीनगर सीट लंबे समय तक कांग्रेस का गढ़ रही है. साल 1993 में भाजपा ने यह सीट जीती थी जिसके बाद लगातार चार बार कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह लवली ने यहां से जीत दर्ज की. हालांकि साल 2015 में आम आदमी पार्टी की लहर में कांग्रेस का यह किला भी ढह गया.

2712 Vishal Gandhi Nagar Master.00_16_58_10.Still004

दिल्ली विधानसभा चुनाव: क्या है गांधीनगर के मतदाताओं का मूड?

वीडियो: एशिया के कपड़ों के सबसे बड़े मार्केट में से एक दिल्ली के गांधीनगर में आम आदमी पार्टी ने नवीन चौधरी, भाजपा ने आप से आए अनिल वाजपेयी और कांग्रेस ने अरविंदर सिंह लवली को उम्मीदवार बनाया है. यहां के लोगों से जीएसटी, सीलिंग के साथ बिजली, पानी, सड़क, स्वास्थ्य, सुरक्षा जैसे मुद्दों पर विशाल जायसवाल की बातचीत.

2401 Seelampur Story.00_11_39_22.Still002

दिल्ली विधानसभा चुनाव: क्या कहते हैं सीलमपुर के मतदाता?

वीडियो: दिल्ली की सीलमपुर विधानसभा सीट पर कांग्रेस के मतीन अहमद, भाजपा के कौशल मिश्रा और आम आदमी पार्टी के अब्दुल रहमान चुनाव मैदान में हैं. यहां के मतदाताओं से सृष्टि श्रीवास्तव की बातचीत.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ उनके मंत्री डा. रामेश्वर उरांव, आलमगीर आलम एवं सत्यानंद भोक्ता.

झारखंड: पहली कैबिनेट बैठक में हेमंत सरकार ने वापस लिए पत्थलगड़ी राजद्रोह मामले

पत्थलगड़ी आंदोलन की शुरुआत होने के बाद कई ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि उन्हें ‘पुलिस क्रूरता’ का सामना करना पड़ा. 172 लोगों के खिलाफ अन्य मामलों के साथ राजद्रोह के कुल 19 मामले दर्ज किए गए थे. सभी मामलों को वापस लेने का फैसला किया गया है.

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन. (फोटो: ट्विटर)

झारखंड: हेमंत सोरेन 11वें मुख्यमंत्री बने, मौजूदगी दर्ज करा विपक्षी नेताओं ने दिखाई एकता

रांची के मोरहाबादी मैदान में झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन 2013 के बाद दूसरी बार झारखंड के मुख्यमंत्री बने हैं. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डा. रामेश्वर उरांव और कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम एवं राष्ट्रीय जनता दल के एक मात्र विधायक सत्यानंद भोक्ता ने भी मंत्री पद की शपथ ली.